Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Nov 2023 · 1 min read

“पहले मुझे लगता था कि मैं बिका नही इसलिए सस्ता हूँ

“पहले मुझे लगता था कि मैं बिका नही इसलिए सस्ता हूँ
परन्तु आज लगता है कि मैं सस्ता हूँ इसलिए बिका नही”
©दुष्यंत ‘बाबा’

1 Like · 102 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बड़ी होती है
बड़ी होती है
sushil sarna
कभी कभी ज़िंदगी में जैसे आप देखना चाहते आप इंसान को वैसे हीं
कभी कभी ज़िंदगी में जैसे आप देखना चाहते आप इंसान को वैसे हीं
पूर्वार्थ
फूल
फूल
Punam Pande
कल की फिक्र में
कल की फिक्र में
shabina. Naaz
💐प्रेम कौतुक-506💐
💐प्रेम कौतुक-506💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मैंने जला डाली आज वह सारी किताबें गुस्से में,
मैंने जला डाली आज वह सारी किताबें गुस्से में,
Vishal babu (vishu)
आप किसी का कर्ज चुका सकते है,
आप किसी का कर्ज चुका सकते है,
Aarti sirsat
■ परम् स्वतंत्र न सिर पर कोऊ। हर नियम-विधान, लोक-लाज, मूल्य
■ परम् स्वतंत्र न सिर पर कोऊ। हर नियम-विधान, लोक-लाज, मूल्य
*Author प्रणय प्रभात*
** लिख रहे हो कथा **
** लिख रहे हो कथा **
surenderpal vaidya
भगतसिंह
भगतसिंह
Shekhar Chandra Mitra
जिन्हें नशा था
जिन्हें नशा था
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*वो बीता हुआ दौर नजर आता है*(जेल से)
*वो बीता हुआ दौर नजर आता है*(जेल से)
Dushyant Kumar
हिंदी दिवस
हिंदी दिवस
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
खोखला अहं
खोखला अहं
Madhavi Srivastava
नीलामी हो गई अब इश्क़ के बाज़ार में मेरी ।
नीलामी हो गई अब इश्क़ के बाज़ार में मेरी ।
Phool gufran
मच्छर दादा
मच्छर दादा
Dr Archana Gupta
शिर ऊँचा कर
शिर ऊँचा कर
महेश चन्द्र त्रिपाठी
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
हादसें ज़िंदगी का हिस्सा हैं
हादसें ज़िंदगी का हिस्सा हैं
Dr fauzia Naseem shad
हिंदू कट्टरवादिता भारतीय सभ्यता पर इस्लाम का प्रभाव है
हिंदू कट्टरवादिता भारतीय सभ्यता पर इस्लाम का प्रभाव है
Utkarsh Dubey “Kokil”
कुछ हासिल करने तक जोश रहता है,
कुछ हासिल करने तक जोश रहता है,
Deepesh सहल
जीवन में कोई भी युद्ध अकेले होकर नहीं लड़ा जा सकता। भगवान राम
जीवन में कोई भी युद्ध अकेले होकर नहीं लड़ा जा सकता। भगवान राम
Dr Tabassum Jahan
"दण्डकारण्य"
Dr. Kishan tandon kranti
*रिश्ते भैया दूज के, सबसे अधिक पवित्र (कुंडलिया)*
*रिश्ते भैया दूज के, सबसे अधिक पवित्र (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
“अनोखी शादी” ( संस्मरण फौजी -मिथिला दर्शन )
“अनोखी शादी” ( संस्मरण फौजी -मिथिला दर्शन )
DrLakshman Jha Parimal
किसी महिला का बार बार आपको देखकर मुस्कुराने के तीन कारण हो स
किसी महिला का बार बार आपको देखकर मुस्कुराने के तीन कारण हो स
Rj Anand Prajapati
2648.पूर्णिका
2648.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
*जब तू रूठ जाता है*
*जब तू रूठ जाता है*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पीक चित्रकार
पीक चित्रकार
शांतिलाल सोनी
यही तो मजा है
यही तो मजा है
Otteri Selvakumar
Loading...