Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Oct 2022 · 1 min read

पहले प्यार में

तब आई नव तरुणाई थी,
दिल जवांँ ने ली अंगड़ाई थी,
चांँदनी रात दिल को भाती थी,
प्रियतमा की छवि दिखलाती थी।

दसवें वर्ग में पढ़ता था तब,
पहले प्यार में डूबा था जब,
दिल धक्-धक् करता था तब,
कदम क्लास में रखता था जब।

सूर्ख गुलाब-सा बदन था उसका,
मृगनयनी चंचल सुंदर बाला थी,
घुंघराली काली जुल्फें उसकी,
दिखने में सुंदर मधुबाला-सी थी।

चंद्र सरीखा मुखड़ा था उसका,
गाल-लाल-गुलाल सजा हो,
कपोल कमल-पंखुड़ी जैसे,
स्मित छवि शीतल हवा हो।

काया उसकी पतली-सी थी,
वक्ष युगल नव उभार लिए,
खुली जुल्फों से ढंँके हुए वे,
ध्यानाकर्षण का भार लिए।

दिल में मची रहती थी हलचल,
उसकी झलक पाने को हरपल,
दसवीं पास कर बाहर आया जब,
उसकी एक खबर न पाया अब तक।

मौलिक व स्वरचित
©® श्री रमण ‘श्रीपद्’
बेगूसराय (बिहार)

Language: Hindi
6 Likes · 10 Comments · 353 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
View all
You may also like:
जग कल्याणी
जग कल्याणी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
बाट का बटोही ?
बाट का बटोही ?
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
*** तूने क्या-क्या चुराया ***
*** तूने क्या-क्या चुराया ***
Chunnu Lal Gupta
जितने श्री राम हमारे हैं उतने श्री राम तुम्हारे हैं।
जितने श्री राम हमारे हैं उतने श्री राम तुम्हारे हैं।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
हार पर प्रहार कर
हार पर प्रहार कर
Saransh Singh 'Priyam'
मम्मास बेबी
मम्मास बेबी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
वास्ते हक के लिए था फैसला शब्बीर का(सलाम इमाम हुसैन (A.S.)की शान में)
वास्ते हक के लिए था फैसला शब्बीर का(सलाम इमाम हुसैन (A.S.)की शान में)
shabina. Naaz
गज़ल
गज़ल
सत्य कुमार प्रेमी
विषय - प्रभु श्री राम 🚩
विषय - प्रभु श्री राम 🚩
Neeraj Agarwal
चॉंद और सूरज
चॉंद और सूरज
Ravi Ghayal
*जब कभी दिल की ज़मीं पे*
*जब कभी दिल की ज़मीं पे*
Poonam Matia
नजर और नजरिया
नजर और नजरिया
Dr. Kishan tandon kranti
योग इक्कीस जून को,
योग इक्कीस जून को,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
#ekabodhbalak
#ekabodhbalak
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सोच
सोच
Dinesh Kumar Gangwar
"अब के चुनाव"
*Author प्रणय प्रभात*
Ranjeet Shukla
Ranjeet Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
क्या अब भी तुम न बोलोगी
क्या अब भी तुम न बोलोगी
Rekha Drolia
*हँसो जिंदगी में मुस्काओ, अच्छा लगता है 【हिंदी गजल/गीतिका 】*
*हँसो जिंदगी में मुस्काओ, अच्छा लगता है 【हिंदी गजल/गीतिका 】*
Ravi Prakash
जगतगुरु स्वामी रामानंदाचार्य जन्मोत्सव
जगतगुरु स्वामी रामानंदाचार्य जन्मोत्सव
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
दूर तक आ गए मुश्किल लग रही है वापसी
दूर तक आ गए मुश्किल लग रही है वापसी
गुप्तरत्न
चंद्रयान 3
चंद्रयान 3
Dr Archana Gupta
2944.*पूर्णिका*
2944.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ज़िंदगी के सौदागर
ज़िंदगी के सौदागर
Shyam Sundar Subramanian
~~~~~~~~~~~~~~
~~~~~~~~~~~~~~
Hanuman Ramawat
प्रथम गणेशोत्सव
प्रथम गणेशोत्सव
Raju Gajbhiye
समाज सेवक पुर्वज
समाज सेवक पुर्वज
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
दो दिन की जिंदगी है अपना बना ले कोई।
दो दिन की जिंदगी है अपना बना ले कोई।
Phool gufran
कलियुग
कलियुग
Bodhisatva kastooriya
Loading...