Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jan 2024 · 1 min read

पहले उसकी आदत लगाते हो,

पहले उसकी आदत लगाते हो,
फिर उसको तन्हा छोड़ जाते हो,
हे ईश्वर तेरी भी लीला अलग है,
जो किस्मत में नही होते उन्हीं से मिलवाते हो।

राजेन्द्र कुमार
@razzz_shiva

84 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
#drarunkumarshastri
#drarunkumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मैं गर्दिशे अय्याम देखता हूं।
मैं गर्दिशे अय्याम देखता हूं।
Taj Mohammad
*** अहसास...!!! ***
*** अहसास...!!! ***
VEDANTA PATEL
मोह लेगा जब हिया को, रूप मन के मीत का
मोह लेगा जब हिया को, रूप मन के मीत का
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जुगनू
जुगनू
Dr. Pradeep Kumar Sharma
2760. *पूर्णिका*
2760. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
रंगरेज कहां है
रंगरेज कहां है
Shiva Awasthi
युगांतर
युगांतर
Suryakant Dwivedi
किसी भी काम में आपको मुश्किल तब लगती है जब आप किसी समस्या का
किसी भी काम में आपको मुश्किल तब लगती है जब आप किसी समस्या का
Rj Anand Prajapati
कभी वो कसम दिला कर खिलाया करती हैं
कभी वो कसम दिला कर खिलाया करती हैं
Jitendra Chhonkar
Pata to sabhi batate h , rasto ka,
Pata to sabhi batate h , rasto ka,
Sakshi Tripathi
‘प्रकृति से सीख’
‘प्रकृति से सीख’
Vivek Mishra
बादल
बादल
Shankar suman
वफ़ा की कसम देकर तू ज़िन्दगी में आई है,
वफ़ा की कसम देकर तू ज़िन्दगी में आई है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
जय महादेव
जय महादेव
Shaily
दोहे बिषय-सनातन/सनातनी
दोहे बिषय-सनातन/सनातनी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
" शांत शालीन जैसलमेर "
Dr Meenu Poonia
कलियुग की सीता
कलियुग की सीता
Sonam Puneet Dubey
मानवता
मानवता
Rahul Singh
अंत समय
अंत समय
Vandna thakur
दीपक इसलिए वंदनीय है क्योंकि वह दूसरों के लिए जलता है दूसरो
दीपक इसलिए वंदनीय है क्योंकि वह दूसरों के लिए जलता है दूसरो
Ranjeet kumar patre
@ खोज @
@ खोज @
Prashant Tiwari
"दो हजार के नोट की व्यथा"
Radhakishan R. Mundhra
"एक ही जीवन में
पूर्वार्थ
इश्क़ किया नहीं जाता
इश्क़ किया नहीं जाता
Surinder blackpen
ज़िंदगी इसमें
ज़िंदगी इसमें
Dr fauzia Naseem shad
Still I Rise!
Still I Rise!
R. H. SRIDEVI
ये जो मेरी आँखों में
ये जो मेरी आँखों में
हिमांशु Kulshrestha
जीवन का मकसद क्या है?
जीवन का मकसद क्या है?
Buddha Prakash
अनुभव
अनुभव
डॉ०प्रदीप कुमार दीप
Loading...