Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Feb 2024 · 1 min read

पहला श्लोक ( भगवत गीता )

पहला श्लोक ( भगवत गीता )

कुरुछेत्र में कौरवों और पांडवो की सेना पहुंची जब
महाराज धृतराष्ट्र ने संजय से पूछा तब
संजय ने श्री कृष्ण द्वारा दी गयी
अपनी दिव्या दृष्टि का प्रयोग किया
कुछ इस तरह संजय ने
कुरुछेत्र में हुई संपूर्ण
घटनाओ का वर्णन किया

Language: Hindi
2 Likes · 210 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हूं तो इंसान लेकिन बड़ा वे हया
हूं तो इंसान लेकिन बड़ा वे हया
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
2947.*पूर्णिका*
2947.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हमारी काबिलियत को वो तय करते हैं,
हमारी काबिलियत को वो तय करते हैं,
Dr. Man Mohan Krishna
हिंदी दिवस
हिंदी दिवस
Shashi Dhar Kumar
नया दिन
नया दिन
Vandna Thakur
सत्य बोलना,
सत्य बोलना,
Buddha Prakash
दिये को रोशननाने में रात लग गई
दिये को रोशननाने में रात लग गई
कवि दीपक बवेजा
*साँसों ने तड़फना कब छोड़ा*
*साँसों ने तड़फना कब छोड़ा*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
नर से नर पिशाच की यात्रा
नर से नर पिशाच की यात्रा
Sanjay ' शून्य'
तिरंगा
तिरंगा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
"इश्क़ वर्दी से"
Lohit Tamta
💐प्रेम कौतुक-162💐
💐प्रेम कौतुक-162💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
प्यार करो
प्यार करो
Shekhar Chandra Mitra
झूठा फिरते बहुत हैं,बिन ढूंढे मिल जाय।
झूठा फिरते बहुत हैं,बिन ढूंढे मिल जाय।
Vijay kumar Pandey
দারিদ্রতা ,রঙ্গভেদ ,
দারিদ্রতা ,রঙ্গভেদ ,
DrLakshman Jha Parimal
मौके पर धोखे मिल जाते ।
मौके पर धोखे मिल जाते ।
Rajesh vyas
सोच के दायरे
सोच के दायरे
Dr fauzia Naseem shad
कभी किसी की मदद कर के देखना
कभी किसी की मदद कर के देखना
shabina. Naaz
अच्छे थे जब हम तन्हा थे, तब ये गम तो नहीं थे
अच्छे थे जब हम तन्हा थे, तब ये गम तो नहीं थे
gurudeenverma198
चुनिंदा बाल कविताएँ (बाल कविता संग्रह)
चुनिंदा बाल कविताएँ (बाल कविता संग्रह)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
🍁अंहकार🍁
🍁अंहकार🍁
Dr. Vaishali Verma
कहां गए (कविता)
कहां गए (कविता)
Akshay patel
यह  सिक्वेल बनाने का ,
यह सिक्वेल बनाने का ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
ग़म-ए-दिल....
ग़म-ए-दिल....
Aditya Prakash
(14) जान बेवजह निकली / जान बेवफा निकली
(14) जान बेवजह निकली / जान बेवफा निकली
Kishore Nigam
*मिलना जग में भाग्य से, मिलते अच्छे लोग (कुंडलिया)*
*मिलना जग में भाग्य से, मिलते अच्छे लोग (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
जन्म-जन्म का साथ.....
जन्म-जन्म का साथ.....
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
ख्वाहिश
ख्वाहिश
Annu Gurjar
हम
हम "बालकृष्ण" के भक्तों का
*Author प्रणय प्रभात*
वो पास आने लगी थी
वो पास आने लगी थी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...