Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Mar 2017 · 1 min read

पहला एहसास.

छोटी छोटी आँखे उजाले का आभास सी कराने लगी थी, दिन और रात चाँद और तारों की छटा आकाश में छाने लगी थी। रिमझिम करती बारिश की बूँदे ठंडक का एहसास कराने लगी थी, पेड़ पौधों में पतझड के बाद नईं कोंपलें आने लगी थी। जीवन के पहले पहले अनबुझे अनसुलझे और उत्सुकता भरी निगाहें डगमगानें सी लगी थी, लडखडाते हुये नन्हे नन्हे कदमें घर से बाहर जाने लगी थी। इस आत्मा रूपी शरीर में हँसी ख़ुशी सुख दुख की भावनायें आने लगी थी, चारों और ज़िंदगी की घटा छाने लगी थी। कितना खुशनुमा होता है दोस्तों ज़िंदगी का पहला एहसास, जैसे बर्फ़ीली पानी की ठंडक में सूरज के किरणों की उजास।
दीपक रावत

Language: Hindi
1 Comment · 584 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
प्रश्रयस्थल
प्रश्रयस्थल
Bodhisatva kastooriya
दिल को एक बहाना होगा - Desert Fellow Rakesh Yadav
दिल को एक बहाना होगा - Desert Fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
अभिव्यक्ति
अभिव्यक्ति
Punam Pande
हे प्रभू !
हे प्रभू !
Shivkumar Bilagrami
एक बंदर
एक बंदर
Harish Chandra Pande
तुम्हारी कहानी
तुम्हारी कहानी
PRATIK JANGID
हर दफ़ा जब बात रिश्तों की आती है तो इतना समझ आ जाता है की ये
हर दफ़ा जब बात रिश्तों की आती है तो इतना समझ आ जाता है की ये
पूर्वार्थ
पढ़े साहित्य, रचें साहित्य
पढ़े साहित्य, रचें साहित्य
संजय कुमार संजू
अपनी समस्या का
अपनी समस्या का
Dr fauzia Naseem shad
तुम्हें भूल नहीं सकता कभी
तुम्हें भूल नहीं सकता कभी
gurudeenverma198
💐अज्ञात के प्रति-81💐
💐अज्ञात के प्रति-81💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
आपको डुबाने के लिए दुनियां में,
आपको डुबाने के लिए दुनियां में,
नेताम आर सी
फल आयुष्य
फल आयुष्य
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जब याद मैं आऊंँ...
जब याद मैं आऊंँ...
Ranjana Verma
दीप जलाकर अंतर्मन का, दीपावली मनाओ तुम।
दीप जलाकर अंतर्मन का, दीपावली मनाओ तुम।
आर.एस. 'प्रीतम'
*आई बारिश हो गई,धरती अब खुशहाल(कुंडलिया)*
*आई बारिश हो गई,धरती अब खुशहाल(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
सरस्वती वंदना-6
सरस्वती वंदना-6
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
कैमरे से चेहरे का छवि (image) बनाने मे,
कैमरे से चेहरे का छवि (image) बनाने मे,
Lakhan Yadav
मैं कौन हूँ?मेरा कौन है ?सोच तो मेरे भाई.....
मैं कौन हूँ?मेरा कौन है ?सोच तो मेरे भाई.....
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
सब कुछ हमारा हमी को पता है
सब कुछ हमारा हमी को पता है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
भारतीय क्रिकेट टीम के पहले कप्तान : कर्नल सी. के. नायडू
भारतीय क्रिकेट टीम के पहले कप्तान : कर्नल सी. के. नायडू
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बैठे थे किसी की याद में
बैठे थे किसी की याद में
Sonit Parjapati
।।बचपन के दिन ।।
।।बचपन के दिन ।।
Shashi kala vyas
सलाह
सलाह
श्याम सिंह बिष्ट
सद्विचार
सद्विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
हम वीर हैं उस धारा के,
हम वीर हैं उस धारा के,
$úDhÁ MãÚ₹Yá
नेम प्रेम का कर ले बंधु
नेम प्रेम का कर ले बंधु
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Things to learn .
Things to learn .
Nishant prakhar
हे राम तुम्हीं कण कण में हो।
हे राम तुम्हीं कण कण में हो।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
■ कहानी घर-घर की।
■ कहानी घर-घर की।
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...