Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings

पहन के कोट पेंट(छंद) | अभिषेक कुमार अम्बर

पहन के कोट पेंट तन पे लगा के सेंट,
बनकर बाबू सा में चला ससुराल को।
आकर के मेरे पास बोलने लगी ये सास,
नज़र न लग जाये कहीं मेरे लाल को।
बिलकुल हीरो से तुम लगते हो जीजा जी,
बोलने लगी सालियां खींच मेरे गाल को।
आखिर है क्या राज़ बदले इसके मिज़ाज़,
लग गए है बड़े भाग इस कंगाल को।

©अभिषेक कुमार अम्बर

475 Views
You may also like:
गांव शहर और हम ( कर्मण्य)
Shyam Pandey
✍️अकेले रह गये ✍️
Vaishnavi Gupta
पिताजी
विनोद शर्मा सागर
दिल से रिश्ते निभाये जाते हैं
Dr fauzia Naseem shad
बोझ
आकांक्षा राय
गुमनाम मुहब्बत का आशिक
श्री रमण 'श्रीपद्'
ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
# पिता ...
Chinta netam " मन "
छीन लिए है जब हक़ सारे तुमने
Ram Krishan Rastogi
विन मानवीय मूल्यों के जीवन का क्या अर्थ है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
आज अपना सुधार लो
Anamika Singh
मैं हिन्दी हूँ , मैं हिन्दी हूँ / (हिन्दी दिवस...
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कोई मरहम
Dr fauzia Naseem shad
"सावन-संदेश"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
✍️महानता✍️
'अशांत' शेखर
सो गया है आदमी
कुमार अविनाश केसर
प्रेम में त्याग
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️इतने महान नही ✍️
Vaishnavi Gupta
ज़िंदगी में न ज़िंदगी देखी
Dr fauzia Naseem shad
अनमोल राजू
Anamika Singh
✍️लक्ष्य ✍️
Vaishnavi Gupta
गीत
शेख़ जाफ़र खान
.....उनके लिए मैं कितना लिखूं?
ऋचा त्रिपाठी
बदल जायेगा
शेख़ जाफ़र खान
आज मस्ती से जीने दो
Anamika Singh
✍️बदल गए है ✍️
Vaishnavi Gupta
मेरे साथी!
Anamika Singh
आइना हूं मैं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️ईश्वर का साथ ✍️
Vaishnavi Gupta
पिता
Manisha Manjari
Loading...