Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jul 2023 · 1 min read

पश्चाताप

सृजक – डा. अरुण कुमार शास्त्री
विषय – ऋण
शीर्षक – पश्चाताप
विधा – छंद मुक्त तुकांत कविता

ऋण कर्ता रोता सदा ।
मुक्त कभी न होय ।।
मुक्त अगर हो जाए तो ।
ग्लानि से हिय ढोय ।।
ज्ञान, मान और शान का ।
ऋण ही शोषक होय ।।
शीश उठा चल न सके ।
जग में दंडित होय ।।
ऋण का कीड़ा मानिए ।
देह दिमाग को खाए ।।
घुन कनक को चाटता ।
ऐसा घुसता जाए रे भैय्या ।।
ऐसा घुसता जाए
मानुष राखे धीर जो ।
ऋण से बच वो पाए ।।
अपनी चादर देख के ।
तेते पॉव फैलाए रे भैय्या ।।
तेते पॉव फैलाए
संतोषी संसार में ।
रहता सुख से जान ।।
देख पराई चूपड़ी ।
देता तनिक न ध्यान रे भैय्या ।।
देता तनिक न ध्यान

Language: Hindi
143 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
🙅एक उपाय🙅
🙅एक उपाय🙅
*Author प्रणय प्रभात*
किसी भी सफल और असफल व्यक्ति में मुख्य अन्तर ज्ञान और ताकत का
किसी भी सफल और असफल व्यक्ति में मुख्य अन्तर ज्ञान और ताकत का
Paras Nath Jha
स्त्री यानी
स्त्री यानी
पूर्वार्थ
जीवन में शॉर्ट कट 2 मिनट मैगी के जैसे होते हैं जो सिर्फ दो म
जीवन में शॉर्ट कट 2 मिनट मैगी के जैसे होते हैं जो सिर्फ दो म
Neelam Sharma
अर्जुन धुरंधर न सही ...एकलव्य तो बनना सीख लें ..मौन आखिर कब
अर्जुन धुरंधर न सही ...एकलव्य तो बनना सीख लें ..मौन आखिर कब
DrLakshman Jha Parimal
*अपनी-अपनी चमक दिखा कर, सबको ही गुम होना है (मुक्तक)*
*अपनी-अपनी चमक दिखा कर, सबको ही गुम होना है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
इश्क खुदा का घर
इश्क खुदा का घर
Surinder blackpen
सृष्टि रचेता
सृष्टि रचेता
RAKESH RAKESH
गुज़िश्ता साल
गुज़िश्ता साल
Dr.Wasif Quazi
दूर कहीं जब मीत पुकारे
दूर कहीं जब मीत पुकारे
Mahesh Tiwari 'Ayan'
जीवन का आत्मबोध
जीवन का आत्मबोध
ओंकार मिश्र
हिकारत जिल्लत
हिकारत जिल्लत
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मालपुआ
मालपुआ
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
इतना बेबस हो गया हूं मैं
इतना बेबस हो गया हूं मैं
Keshav kishor Kumar
"सब्र"
Dr. Kishan tandon kranti
लाख कोशिश की थी अपने
लाख कोशिश की थी अपने
'अशांत' शेखर
नन्दी बाबा
नन्दी बाबा
Anil chobisa
पार्वती
पार्वती
लक्ष्मी सिंह
घबराना हिम्मत को दबाना है।
घबराना हिम्मत को दबाना है।
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
कभी-कभी वक़्त की करवट आपको अचंभित कर जाती है.......चाहे उस क
कभी-कभी वक़्त की करवट आपको अचंभित कर जाती है.......चाहे उस क
Seema Verma
3056.*पूर्णिका*
3056.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
साईं बाबा
साईं बाबा
Sidhartha Mishra
इन्द्रधनुष
इन्द्रधनुष
Dheerja Sharma
कुंठाओं के दलदल में,
कुंठाओं के दलदल में,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
याद
याद
Kanchan Khanna
अश्रु की भाषा
अश्रु की भाषा
Shyam Sundar Subramanian
Asan nhi hota yaha,
Asan nhi hota yaha,
Sakshi Tripathi
कुछ फूल तो कुछ शूल पाते हैँ
कुछ फूल तो कुछ शूल पाते हैँ
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
इक धुँधला चेहरा, कुछ धुंधली यादें।
इक धुँधला चेहरा, कुछ धुंधली यादें।
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
पता नहीं कब लौटे कोई,
पता नहीं कब लौटे कोई,
महेश चन्द्र त्रिपाठी
Loading...