Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Jul 2023 · 1 min read

पल का मलाल

अक्सर,
कहने वाले को,
बेहद ,
जल्दबाजी होती है
अपनी बात ,
कह देने की
और,
सुनने वाले का
तो क्या ही,
कहें।
उसको भी
कम जल्दी नहीं,
बोलने वाले
को
अपनी
चटपट
प्रतिक्रिया देने की ।
मगर, उस पल की,
किसने सोची,
उस पल की
फितरत कुछ
अलग ही होती है ।

उस पल को
मलाल होता है,
कि,
भावों को,
परस्पर,
सोखा नहीं गया।
पल को मलाल होता है,
बात का मर्म
छूट कर
गिर जाने का।
#######
पूनम पांडे, अजमेर

7 Likes · 1 Comment · 274 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Punam Pande
View all
You may also like:
पद्मावती पिक्चर के बहाने
पद्मावती पिक्चर के बहाने
Manju Singh
*गाओ  सब  जन  भारती , भारत जिंदाबाद   भारती*   *(कुंडलिया)*
*गाओ सब जन भारती , भारत जिंदाबाद भारती* *(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
*अंतःकरण- ईश्वर की वाणी : एक चिंतन*
*अंतःकरण- ईश्वर की वाणी : एक चिंतन*
नवल किशोर सिंह
चलो चलाए रेल।
चलो चलाए रेल।
Vedha Singh
पैसा अगर पास हो तो
पैसा अगर पास हो तो
शेखर सिंह
मेरे प्रभु राम आए हैं
मेरे प्रभु राम आए हैं
PRATIBHA ARYA (प्रतिभा आर्य )
3545.💐 *पूर्णिका* 💐
3545.💐 *पूर्णिका* 💐
Dr.Khedu Bharti
हजारों लोग मिलेंगे तुम्हें
हजारों लोग मिलेंगे तुम्हें
ruby kumari
वाह वाह....मिल गई
वाह वाह....मिल गई
Suryakant Dwivedi
पड़ोसन के वास्ते
पड़ोसन के वास्ते
VINOD CHAUHAN
✍️फिर वही आ गये...
✍️फिर वही आ गये...
'अशांत' शेखर
फूक मार कर आग जलाते है,
फूक मार कर आग जलाते है,
Buddha Prakash
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
स्वामी विवेकानंद ( कुंडलिया छंद)
स्वामी विवेकानंद ( कुंडलिया छंद)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
भोर की खामोशियां कुछ कह रही है।
भोर की खामोशियां कुछ कह रही है।
surenderpal vaidya
सुबह सुबह की चाय
सुबह सुबह की चाय
Neeraj Agarwal
"सुख-दुःख"
Dr. Kishan tandon kranti
स्त्री
स्त्री
Shweta Soni
वेलेंटाइन डे समन्दर के बीच और प्यार करने की खोज के स्थान को
वेलेंटाइन डे समन्दर के बीच और प्यार करने की खोज के स्थान को
Rj Anand Prajapati
आंखों में तिरी जाना...
आंखों में तिरी जाना...
अरशद रसूल बदायूंनी
अगर मरने के बाद भी जीना चाहो,
अगर मरने के बाद भी जीना चाहो,
Ranjeet kumar patre
हे दिल ओ दिल, तेरी याद बहुत आती है हमको
हे दिल ओ दिल, तेरी याद बहुत आती है हमको
gurudeenverma198
इतनी मिलती है तेरी सूरत से सूरत मेरी ‌
इतनी मिलती है तेरी सूरत से सूरत मेरी ‌
Phool gufran
पंख पतंगे के मिले,
पंख पतंगे के मिले,
sushil sarna
अभी बाकी है
अभी बाकी है
Vandna Thakur
कविता
कविता
Dr.Priya Soni Khare
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद — वंश परिचय — 01
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद — वंश परिचय — 01
Kirti Aphale
अनुभूति
अनुभूति
Punam Pande
★Dr.MS Swaminathan ★
★Dr.MS Swaminathan ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
तक़दीर का ही खेल
तक़दीर का ही खेल
Monika Arora
Loading...