Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Feb 2024 · 1 min read

*** पल्लवी : मेरे सपने….!!! ***

“” मैं पंछी बन उड़ना चाहती हूँ…
उस अनंत आकाश को छूना चाहती हूँ…!
जहां मेरे सपने को उड़ान मिले…
मेरे शक्ति, मेरे हौसले की पंख को,
एक पहिचान मिले…!
ऐसे तो उड़ने को सारा जहान है…
लेकिन एक इरादा है मेरे,
उस अनंत आकाश को,
मेरी तकाजा का कुछ अनुमान मिले…!
न चाह है मुझे…
सोने की किसी पिंजरे की,
घेरों में रहने की…!
मेरी तो चाह है…
तिनके सी घोंसलों में,
गुजर-बसर करने की…!
मैं तो प्राकृत विचार को लेकर…
उड़ने वाली एक पंछी हूँ…!
मैं तो तेरे-मेरे भावों को छोड़…
बे-सुर्ख विचारों से मुंह मोड़…!
आ चल सब अपने हैं…
प्रीत की रीति गढ़ते हैं, की..
उन्मुक्त उड़ान भरती पंछी हूँ…!
मैं तो सदा…
उम्मीदों की उड़ान अथक,
वो पंछी एक बनना चाहती हूँ…!
मेरे आकांक्षाओं को…
एक “पर” मिले जहां…!
मेरे विचारों को…
एक आकार मिले जहां…!
उस अनंत आकाश में…
उड़ना चाहती हूँ…!
अपनी अरमान को…
साकार करना चाहती हूँ…!! “”

***************∆∆∆*************

Language: Hindi
75 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मेरे प्रभु राम आए हैं
मेरे प्रभु राम आए हैं
PRATIBHA ARYA (प्रतिभा आर्य )
मेरी चाहत रही..
मेरी चाहत रही..
हिमांशु Kulshrestha
आवारापन एक अमरबेल जैसा जब धीरे धीरे परिवार, समाज और देश रूपी
आवारापन एक अमरबेल जैसा जब धीरे धीरे परिवार, समाज और देश रूपी
Sanjay ' शून्य'
बस फेर है नज़र का हर कली की एक अपनी ही बेकली है
बस फेर है नज़र का हर कली की एक अपनी ही बेकली है
Atul "Krishn"
"खासियत"
Dr. Kishan tandon kranti
🙏
🙏
Neelam Sharma
हम मोहब्बत की निशानियाँ छोड़ जाएंगे
हम मोहब्बत की निशानियाँ छोड़ जाएंगे
Dr Tabassum Jahan
ओढ़े  के  भा  पहिने  के, तनिका ना सहूर बा।
ओढ़े के भा पहिने के, तनिका ना सहूर बा।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
गुरुर ज्यादा करोगे
गुरुर ज्यादा करोगे
Harminder Kaur
गीतिका/ग़ज़ल
गीतिका/ग़ज़ल
लक्ष्मीकान्त शर्मा 'रुद्र'
दो शे'र ( चाँद )
दो शे'र ( चाँद )
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
जो होता है आज ही होता है
जो होता है आज ही होता है
लक्ष्मी सिंह
296क़.*पूर्णिका*
296क़.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दिली नज़्म कि कभी ताकत थी बहारें,
दिली नज़्म कि कभी ताकत थी बहारें,
manjula chauhan
आँशुओ ने कहा अब इस तरह बहा जाय
आँशुओ ने कहा अब इस तरह बहा जाय
Rituraj shivem verma
उड़ते हुए आँचल से दिखती हुई तेरी कमर को छुपाना चाहता हूं
उड़ते हुए आँचल से दिखती हुई तेरी कमर को छुपाना चाहता हूं
Vishal babu (vishu)
आशिकी
आशिकी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मदर्स डे
मदर्स डे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
आओ बुद्ध की ओर चलें
आओ बुद्ध की ओर चलें
Shekhar Chandra Mitra
तेरे दरबार आया हूँ
तेरे दरबार आया हूँ
Basant Bhagawan Roy
प्यार आपस में दिलों में भी अगर बसता है
प्यार आपस में दिलों में भी अगर बसता है
Anis Shah
बिना आमन्त्रण के
बिना आमन्त्रण के
gurudeenverma198
#कड़े_क़दम
#कड़े_क़दम
*Author प्रणय प्रभात*
तोड़ सको तो तोड़ दो ,
तोड़ सको तो तोड़ दो ,
sushil sarna
कुछ काम करो , कुछ काम करो
कुछ काम करो , कुछ काम करो
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*उलझनें हर रोज आएँगी डराने के लिए【 मुक्तक】*
*उलझनें हर रोज आएँगी डराने के लिए【 मुक्तक】*
Ravi Prakash
करवाचौथ
करवाचौथ
Neeraj Agarwal
स्त्रियाँ
स्त्रियाँ
Shweta Soni
कुदरत से मिलन , अद्धभुत मिलन।
कुदरत से मिलन , अद्धभुत मिलन।
Kuldeep mishra (KD)
यहां कोई बेरोजगार नहीं हर कोई अपना पक्ष मजबूत करने में लगा ह
यहां कोई बेरोजगार नहीं हर कोई अपना पक्ष मजबूत करने में लगा ह
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
Loading...