Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jun 2023 · 1 min read

पर्यावरण

प्रदूषित हो रहा दुनिया का पर्यावरण ।
अब नहीं सुरक्षित धरती का आवरण ।
अतः क्यों ना जाएं हम प्रकृति की शरण ।
तभी रुकेगा सजीव-निर्जीव का क्षरण ।
मानव अपना लो अब उत्तम आचरण ।
प्राणियों को करने दो स्वतंत्र विचरण ।
लगाओ पेड़ वनों को न काटो ।
यह शुभ संदेश सभी को बाँटो ।
तेल के वाहन कम ही चलाओ ।
वड़वानल से जंगलों को बचाओ ।
करो सीमित जनसंख्या न बढ़ाओ ।
उद्जन बढ़ाओ ओम् जीवन बचाओ ।

ओमप्रकाश भारती ओम्

Language: Hindi
1 Like · 289 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from ओमप्रकाश भारती *ओम्*
View all
You may also like:
"सच्चाई"
Dr. Kishan tandon kranti
!! बच्चों की होली !!
!! बच्चों की होली !!
Chunnu Lal Gupta
मैं हु दीवाना तेरा
मैं हु दीवाना तेरा
Basant Bhagawan Roy
देव उठनी
देव उठनी
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
" मेरी ओकात क्या"
भरत कुमार सोलंकी
हर रात मेरे साथ ये सिलसिला हो जाता है
हर रात मेरे साथ ये सिलसिला हो जाता है
Madhuyanka Raj
मन मर्जी के गीत हैं,
मन मर्जी के गीत हैं,
sushil sarna
23/40.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/40.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
वो दौर था ज़माना जब नज़र किरदार पर रखता था।
वो दौर था ज़माना जब नज़र किरदार पर रखता था।
शिव प्रताप लोधी
अजीज़ सारे देखते रह जाएंगे तमाशाई की तरह
अजीज़ सारे देखते रह जाएंगे तमाशाई की तरह
_सुलेखा.
समझदार तो मैं भी बहुत हूँ,
समझदार तो मैं भी बहुत हूँ,
डॉ. दीपक मेवाती
मतदान करो
मतदान करो
TARAN VERMA
गर जानना चाहते हो
गर जानना चाहते हो
SATPAL CHAUHAN
खेल भावनाओं से खेलो, जीवन भी है खेल रे
खेल भावनाओं से खेलो, जीवन भी है खेल रे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
उन पुरानी किताबों में
उन पुरानी किताबों में
Otteri Selvakumar
कान्हा प्रीति बँध चली,
कान्हा प्रीति बँध चली,
Neelam Sharma
हमारी सम्पूर्ण ज़िंदगी एक संघर्ष होती है, जिसमे क़दम-क़दम पर
हमारी सम्पूर्ण ज़िंदगी एक संघर्ष होती है, जिसमे क़दम-क़दम पर
SPK Sachin Lodhi
सफर अंजान राही नादान
सफर अंजान राही नादान
VINOD CHAUHAN
मदर्स डे
मदर्स डे
Satish Srijan
समझ
समझ
अखिलेश 'अखिल'
मंदिर का न्योता ठुकराकर हे भाई तुमने पाप किया।
मंदिर का न्योता ठुकराकर हे भाई तुमने पाप किया।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
कुछ खो गया, तो कुछ मिला भी है
कुछ खो गया, तो कुछ मिला भी है
Anil Mishra Prahari
आज बाजार बन्द है
आज बाजार बन्द है
gurudeenverma198
"चुनाव के दौरान नेता गरीबों के घर खाने ही क्यों जाते हैं, गर
गुमनाम 'बाबा'
■ इकलखोरों के लिए अनमोल उपहार
■ इकलखोरों के लिए अनमोल उपहार "अकेलापन।"
*Author प्रणय प्रभात*
लोग एक दूसरे को परखने में इतने व्यस्त हुए
लोग एक दूसरे को परखने में इतने व्यस्त हुए
ruby kumari
*सीखा सब आकर यहीं, थोड़ा-थोड़ा ज्ञान (कुंडलिया)*
*सीखा सब आकर यहीं, थोड़ा-थोड़ा ज्ञान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
7-सूरज भी डूबता है सरे-शाम देखिए
7-सूरज भी डूबता है सरे-शाम देखिए
Ajay Kumar Vimal
मां की प्रतिष्ठा
मां की प्रतिष्ठा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
उसी पथ से
उसी पथ से
Kavita Chouhan
Loading...