Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jan 2024 · 3 min read

परीक्षाएँ आ गईं……..अब समय न बिगाड़ें

दोस्तों, परीक्षाएँ प्रारम्भ होने में अब बस थोड़ा ही समय बाकी रह गया है । हमने पूरे साल जो किया-सो-किया लेकिन अब समय आ गया है कि हम अपने समय को व्यर्थ न गवाएँ क्योंकि अगर ये समय भी निकल गया तो फिर हमारे हाथ कुछ नहीं लगेगा और हम ठगे से रह जाएँगे ।

हम सालभर पढ़ाई की सिर्फ़ प्लानिंग करते हैं लेकिन आप कितने प्रतिशत उस पर चल पाते हैं ये आप और हम सब जानते हैं । साल की शुरुआत में हम सोचते हैं अभी तो जुलाई है इस बार ऐसी पढ़ाई करूंगा, इतने अच्छे अंक लाऊंगा की माँ-बाप को भी मुझ पर नाज़ होगा ।

सितंबर तक आते-आते हम सोचते हैं कि अभी तो सिर्फ़ दो महीने ही तो निकले हैं बस, आज से पढ़ाई शुरू करते हैं और उत्साह में पढ़ाई का टाइम-टेबल बनाते हैं कि रोज सात-आठ घंटे भी पढूँगा तो अच्छा खासा स्कोर लूंगा । दिसंबर आते आते हमें ठण्ड लगने लगती है बहुत ज्यादा नींद आने लगती है ।
जनवरी आते-आते सोचने लगते है कोई बात नहीं अभी भी एक महीना बाकी है अभी से आज से ही पढना शुरू करूंगा तो भी साठ,सत्तर परसेंट कहीं नहीं गए । फरवरी आते ही अब हमें चिंता होने लगती है कैसे पढूँ, कहाँ से पढूँ , कौन-सा टॉपिक ज्यादा महत्वपूर्ण है ये हम निर्णय ही नहीं कर पाते और शांत मन से, दृढ़ता से योजना बनाने की बजाय फिर से किताब बंद कर देते हैं ।

परीक्षा से एक सप्ताह पहले सोचते हैं कि अब भी अगर मैं सर के बताये महत्वपूर्ण प्रश्न याद कर लूँगा तो पास तो हो ही जाऊँगा । परीक्षा के दिन अरे! ये प्रश्न तो मैंने देखा था, लेकिन याद नहीं किया, ये प्रश्न तो सर ने समझाया था लेकिन मैंने ध्यान नहीं दिया । अंत में ये कैफ़ीयत होती है हमारी परीक्षा के दिनों में, एग्जाम हॉल से बाहर निकलते हैं तो कहते हैं कि इतना तो लिख ही आया हूँ कि पास तो हो जाऊँगा । अब सब कुछ परीक्षक के मूड पर निर्भर है कि वह कैसे कॉपी चेक करते हैं ।

ऐसे फालतू और बेकार के बहाने बनाते हुए हम अपना पूरा साल खराब कर देते हैं । अंत में हमारे हाथ क्या लगा साल भर की बर्बादी समय और पैसों का नुकसान, समाज में बेइज्जती, माता-पिता की मेहनत बेकार और दोस्तों में उड़ता मज़ाक ।

इसका कारण क्या रहा ? इसका कारण ये रहा कि आपने सालभर वह सब काम किये जिसे किये बिना भी आपको कोई फ़र्क नहीं पड़ता लेकिन सिर्फ़ एक वही काम नहीं किया जिससे आपको आपके माता-पिता को फ़र्क पड़ता है, आपने पढ़ाई नहीं की और जाने-अनजाने खुद को ही बेवकूफ बनाते रहे । बेचारे माँ-बाप ने एक ही काम दिया था, पढ़ाई करने का लेकिन हमसे वह भी नहीं हुआ और हमने पढ़ाई छोड़ कर सब काम किए ।

अब हम अपनी असफलता का ठीकरा दूसरों के सिर पर फोड़ने का प्रयास करते हैं । अपनी असफलता का कारण बताते हैं कि स्कूल में पढ़ाई नहीं होती थी, टीचर अच्छा नहीं पढ़ाते थे । कोर्स जल्दी-जल्दी पूरा करवा दिया था, मैं बीमार हो गया था ।

ऐसे फालतू के बहाने आप बनाते रहो इससे किसी को कोई फ़र्क नहीं पड़ता । फ़र्क पड़ता है तो सिर्फ़ आपके माँ-बाप को जो आपसे कई आशाएँ लगा के बैठे थे और दूसरा आपको क्योंकि आपके विद्यार्थी जीवन का एक महत्वपूर्ण वर्ष आपकी लापरवाही से बर्बाद हो चुका है ।

तो दोस्तों अपने समय को बेकार की चीज़ों से बचाने की कोशिश करो और मन लगाकर पढ़ाई में लग जाओ । अभी भी यदि पूरी मेहनत से लग जाओगे तो अब भी सफलता की संभावनाएँ हैं । अब एक-एक दिन, एक-एक मिनट कीमती है अब तक हुआ–सो–हुआ अब भी सँभल जाओ और समय को अपने बेकार के बहानों में बर्बाद मत करो क्योंकि समय कंभी लौटकर नहीं आता ।
पंकज कुमार शर्मा ‘प्रखर’
कोटा , राज.

Language: Hindi
1 Like · 70 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जाति बनाम जातिवाद।
जाति बनाम जातिवाद।
Acharya Rama Nand Mandal
कुछ बीते हुए पल -बीते हुए लोग जब कुछ बीती बातें
कुछ बीते हुए पल -बीते हुए लोग जब कुछ बीती बातें
Atul "Krishn"
काँटों के बग़ैर
काँटों के बग़ैर
Vishal babu (vishu)
*मुर्गा की बलि*
*मुर्गा की बलि*
Dushyant Kumar
तेरे जागने मे ही तेरा भला है
तेरे जागने मे ही तेरा भला है
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"सोचिए जरा"
Dr. Kishan tandon kranti
* भीतर से रंगीन, शिष्टता ऊपर से पर लादी【हिंदी गजल/ गीति
* भीतर से रंगीन, शिष्टता ऊपर से पर लादी【हिंदी गजल/ गीति
Ravi Prakash
शिव की महिमा
शिव की महिमा
Praveen Sain
अगर उठ गए ये कदम तो चलना भी जरुरी है
अगर उठ गए ये कदम तो चलना भी जरुरी है
'अशांत' शेखर
बद मिजाज और बद दिमाग इंसान
बद मिजाज और बद दिमाग इंसान
shabina. Naaz
■आज का सवाल■
■आज का सवाल■
*Author प्रणय प्रभात*
पेड़ पौधे (ताटंक छन्द)
पेड़ पौधे (ताटंक छन्द)
नाथ सोनांचली
बाल कविता: 2 चूहे मोटे मोटे (2 का पहाड़ा, शिक्षण गतिविधि)
बाल कविता: 2 चूहे मोटे मोटे (2 का पहाड़ा, शिक्षण गतिविधि)
Rajesh Kumar Arjun
बादलों को आज आने दीजिए।
बादलों को आज आने दीजिए।
surenderpal vaidya
भारत बनाम इंडिया
भारत बनाम इंडिया
Harminder Kaur
बचपन याद बहुत आता है
बचपन याद बहुत आता है
VINOD CHAUHAN
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
Ghazal
Ghazal
shahab uddin shah kannauji
लब्ज़ परखने वाले अक्सर,
लब्ज़ परखने वाले अक्सर,
ओसमणी साहू 'ओश'
माह -ए -जून में गर्मी से राहत के लिए
माह -ए -जून में गर्मी से राहत के लिए
सिद्धार्थ गोरखपुरी
बाजार में जरूर रहते हैं साहब,
बाजार में जरूर रहते हैं साहब,
Sanjay ' शून्य'
मुसलसल ईमान-
मुसलसल ईमान-
Bodhisatva kastooriya
बहुत से लोग तो तस्वीरों में ही उलझ जाते हैं ,उन्हें कहाँ होश
बहुत से लोग तो तस्वीरों में ही उलझ जाते हैं ,उन्हें कहाँ होश
DrLakshman Jha Parimal
वर्षा
वर्षा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मृत्यु शैय्या
मृत्यु शैय्या
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
मैं अकेला महसूस करता हूं
मैं अकेला महसूस करता हूं
पूर्वार्थ
3261.*पूर्णिका*
3261.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
परिवर्तन विकास बेशुमार🧭🛶🚀🚁
परिवर्तन विकास बेशुमार🧭🛶🚀🚁
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
शिर्डी के साईं बाबा
शिर्डी के साईं बाबा
Sidhartha Mishra
बड़ी मादक होती है ब्रज की होली
बड़ी मादक होती है ब्रज की होली
कवि रमेशराज
Loading...