Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Feb 2024 · 3 min read

पराठों का स्वर्णिम इतिहास

हमें तो एक रोटी और पराठे में, केवल यही एक अन्तर दिखता है।
एक बस तवे के ऊपर ही रहे, तो दूजा तवे के बिना ही सिकता है।
सही कहा गया है कि दिल के ताले की चाबी होती है पेट के पास।
बड़ा ही सुगंधित और स्वादिष्ट है, इन पराठों का स्वर्णिम इतिहास।

पहले तो उत्तर भारत राज्यों ने, पराठे का ख़ूब प्रचार प्रसार किया।
बाद में तो सभी दिशाओं ने, इस दिशा से छीन वो अधिकार लिया।
पराठा किस दिशा का व्यंजन?, ऐसी बहस तो छिड़ी है अनायास।
बड़ा ही सुगंधित और स्वादिष्ट है, इन पराठों का स्वर्णिम इतिहास।

सिंगापुर में कहते हैं रोटी प्राटा, मलेशिया और मॉरीशस में फराटा।
तटवर्ती देश कहते बस्सप शट, म्यांमार में पराठा कहलाए पलाता।
जिसे इतने सारे देशों ने अपनाया, उसमें कुछ तो बात होगी ख़ास।
बड़ा ही सुगंधित और स्वादिष्ट है, इन पराठों का स्वर्णिम इतिहास।

कभी खाली-भरा, तो कभी ज़्यादा-ज़रा, इसके भी रूप अनेक हैं।
गोल, तिकोना व चौकोर जैसे ही, इसके मनमोहक रूप अनेक हैं।
सदियों से सब पर उपकार करे, ये हर भूखे उदर में भर दे विश्वास।
बड़ा ही सुगंधित और स्वादिष्ट है, इन पराठों का स्वर्णिम इतिहास।

आलू, प्याज व गोभी रूप में, हर पराठे की स्टफिंग तैयार होती है।
मूली, पनीर व मिक्स रूप में, स्वाद की नई फिलिंग तैयार होती है।
ऐसे नए प्रयोगों को देखते ही, अधिक बढ़ जाती है भूख की आस।
बड़ा ही सुगंधित और स्वादिष्ट है, इन पराठों का स्वर्णिम इतिहास।

रहे भूखा पेट, हो ख़ाली समय, पराठा दोनों समस्याओं का हल है।
जो सारी सब्जियाँ रोचक बनाए, ऐसा ही सार्थक प्रयास सकल है।
इनका राज हर रसोई की प्लेट में, ऐसा कोई शेष नहीं रहा निवास।
बड़ा ही सुगंधित और स्वादिष्ट है, इन पराठों का स्वर्णिम इतिहास।

मक्खन पराठे का रूप निखारे, ज़ायका तो घी मिलने से आता है।
अचार थाली की शोभा बढ़ाते, दही मिलाते ही प्यार बढ़ जाता है।
प्रत्येक खाद्य के साथ मिलकर, सदा बदलता रहा इसका लिबास।
बड़ा ही सुगंधित और स्वादिष्ट है, इन पराठों का स्वर्णिम इतिहास।

अब वो समय भी विलय हुआ, जज़्बात की कोई बात नहीं करता।
यहाॅं सबको त्वरित खाना चाहिए, स्वाद की कोई बात नहीं करता।
आज की भागती ज़िन्दगी से, विलुप्त हुई भोजन में छिपी मिठास।
बड़ा ही सुगंधित और स्वादिष्ट है, इन पराठों का स्वर्णिम इतिहास।

आज पीढ़ियाँ चाव से चखे, विदेशी चाउमिन, मोमो, थुप्पा व रोल।
जो कम खाए तो जी ललचाए, ज़्यादा खाए तो पाचन में हो झोल।
आज तो फास्ट-फूड का ज़माना, खुलकर करे पराठों पर उपहास।
बड़ा ही सुगंधित और स्वादिष्ट है, इन पराठों का स्वर्णिम इतिहास।

इस देश के अधिकांश राज्यों में, आज भी पराठे का बोलबाला है।
हर थाली से है इसका जुड़ाव, पराठा ही सबका प्रमुख निवाला है।
यूॅं लोगों से वाहवाही मिलते ही, आ जाए इस व्यंजन को भी सांस।
बड़ा ही सुगंधित और स्वादिष्ट है, इन पराठों का स्वर्णिम इतिहास।

स्वदेश के लोग शिक्षा-दीक्षा के लिए, विदेशों की ओर जाने लगे हैं।
विदेशी तो भारत से प्रभावित होके, इस देश की ओर आने लगे हैं।
सभ्यता व समाज के संग में, हो गया है इस व्यंजन का भी प्रवास।
बड़ा ही सुगंधित और स्वादिष्ट है, इन पराठों का स्वर्णिम इतिहास।

भारत के साथ अन्य कई देश भी, पराठों का भरपूर स्वाद लेते हैं।
पराठों का रसास्वादन करते हुए, सब खुश होकर इसे दाद देते हैं।
पुष्प की सुगंध को फैलने के लिए, थोड़ा तो करना होता है प्रयास।
बड़ा ही सुगंधित और स्वादिष्ट है, इन पराठों का स्वर्णिम इतिहास।

चाहे कोई कुछ भी कहे, पराठे से ज़्यादा बार ये मन कोई न जीता।
अब फास्ट-फूड की प्रशंसा में, पराठों का भव्य युग बेरंग ही बीता।
कई पकवान चखने के बाद भी, शांत नहीं होती ये उदर की प्यास।
बड़ा ही सुगंधित और स्वादिष्ट है, इन पराठों का स्वर्णिम इतिहास।

4 Likes · 64 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
View all
You may also like:
क्रिकेट
क्रिकेट
SHAMA PARVEEN
वो अनजाना शहर
वो अनजाना शहर
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
वेलेंटाइन डे समन्दर के बीच और प्यार करने की खोज के स्थान को
वेलेंटाइन डे समन्दर के बीच और प्यार करने की खोज के स्थान को
Rj Anand Prajapati
जो समाज की बनाई व्यस्था पे जितना खरा उतरता है वो उतना ही सम्
जो समाज की बनाई व्यस्था पे जितना खरा उतरता है वो उतना ही सम्
Utkarsh Dubey “Kokil”
बिजली कड़कै
बिजली कड़कै
MSW Sunil SainiCENA
भाव - श्रृँखला
भाव - श्रृँखला
Shyam Sundar Subramanian
*हर शाम निहारूँ मै*
*हर शाम निहारूँ मै*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
"दर्द दर्द ना रहा"
Dr. Kishan tandon kranti
#अब_यादों_में
#अब_यादों_में
*Author प्रणय प्रभात*
तुम तो हो जाते हो नाराज
तुम तो हो जाते हो नाराज
gurudeenverma198
जगन्नाथ रथ यात्रा
जगन्नाथ रथ यात्रा
Pooja Singh
बेटियां
बेटियां
Madhavi Srivastava
*छलने को तैयार है, छलिया यह संसार (कुंडलिया)*
*छलने को तैयार है, छलिया यह संसार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
--शेखर सिंह
--शेखर सिंह
शेखर सिंह
अजीज़ सारे देखते रह जाएंगे तमाशाई की तरह
अजीज़ सारे देखते रह जाएंगे तमाशाई की तरह
_सुलेखा.
2331.पूर्णिका
2331.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
क्या हो, अगर कोई साथी न हो?
क्या हो, अगर कोई साथी न हो?
Vansh Agarwal
शाम
शाम
Kanchan Khanna
*** पल्लवी : मेरे सपने....!!! ***
*** पल्लवी : मेरे सपने....!!! ***
VEDANTA PATEL
पत्र
पत्र
लक्ष्मी सिंह
मशाल
मशाल
नेताम आर सी
हिन्दी दोहा बिषय- सत्य
हिन्दी दोहा बिषय- सत्य
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
एक उम्र
एक उम्र
Rajeev Dutta
अलिकुल की गुंजार से,
अलिकुल की गुंजार से,
sushil sarna
मुकेश का दीवाने
मुकेश का दीवाने
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
वक़्त के साथ
वक़्त के साथ
Dr fauzia Naseem shad
Jay prakash dewangan
Jay prakash dewangan
Jay Dewangan
जिन्दगी के रंग
जिन्दगी के रंग
Santosh Shrivastava
आगे क्या !!!
आगे क्या !!!
Dr. Mahesh Kumawat
भाथी के विलुप्ति के कगार पर होने के बहाने / MUSAFIR BAITHA
भाथी के विलुप्ति के कगार पर होने के बहाने / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
Loading...