Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 May 2023 · 1 min read

परशुराम का परशु खरीदो,

परशुराम का परशु खरीदो,
शम्भू का पैना त्रिशूल।
रण चंडी कृपाण हो घर मे,
इसमें न करना कुछ भूल।

आज बुद्ध अवरुद्ध बनेगा,
गुरु गोविंद सिंह ध्याओ।
मिलकर रहो पंच प्यारे बन,
शस्त्र का पथ अपनाओ।

सतीश सृजन

427 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Satish Srijan
View all
You may also like:
*सुख या खुशी*
*सुख या खुशी*
Shashi kala vyas
हालातों से युद्ध हो हुआ।
हालातों से युद्ध हो हुआ।
Kuldeep mishra (KD)
कृष्ण चतुर्थी भाद्रपद, है गणेशावतार
कृष्ण चतुर्थी भाद्रपद, है गणेशावतार
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कहां जाके लुकाबों
कहां जाके लुकाबों
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
पुस्तक
पुस्तक
जगदीश लववंशी
गांधी जी का चौथा बंदर
गांधी जी का चौथा बंदर
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
चश्मा
चश्मा
लक्ष्मी सिंह
दुर्गा माँ
दुर्गा माँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
“Your work is going to fill a large part of your life, and t
“Your work is going to fill a large part of your life, and t
पूर्वार्थ
सोचो
सोचो
Dinesh Kumar Gangwar
हम संभलते है, भटकते नहीं
हम संभलते है, भटकते नहीं
Ruchi Dubey
एक पल में ये अशोक बन जाता है
एक पल में ये अशोक बन जाता है
ruby kumari
#आज_का_आह्वान
#आज_का_आह्वान
*Author प्रणय प्रभात*
बिन फ़न के, फ़नकार भी मिले और वे मौके पर डँसते मिले
बिन फ़न के, फ़नकार भी मिले और वे मौके पर डँसते मिले
Anand Kumar
मेरी गुड़िया
मेरी गुड़िया
Kanchan Khanna
महिलाएं जितना तेजी से रो सकती है उतना ही तेजी से अपने भावनाओ
महिलाएं जितना तेजी से रो सकती है उतना ही तेजी से अपने भावनाओ
Rj Anand Prajapati
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
2899.*पूर्णिका*
2899.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
संस्कार का गहना
संस्कार का गहना
Sandeep Pande
प्यार में आलिंगन ही आकर्षण होता हैं।
प्यार में आलिंगन ही आकर्षण होता हैं।
Neeraj Agarwal
* चली रे चली *
* चली रे चली *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
वसंत के दोहे।
वसंत के दोहे।
Anil Mishra Prahari
रिश्तों को निभा
रिश्तों को निभा
Dr fauzia Naseem shad
*नया साल*
*नया साल*
Dushyant Kumar
कभी आंख मारना कभी फ्लाइंग किस ,
कभी आंख मारना कभी फ्लाइंग किस ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
बैसाखी....
बैसाखी....
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
बड़ी कथाएँ ( लघुकथा संग्रह) समीक्षा
बड़ी कथाएँ ( लघुकथा संग्रह) समीक्षा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
संवेदना
संवेदना
Ekta chitrangini
गैरो को कोई अपने बना कर तो देख ले
गैरो को कोई अपने बना कर तो देख ले
कृष्णकांत गुर्जर
*लो कर में नवनीत (हास्य कुंडलिया)*
*लो कर में नवनीत (हास्य कुंडलिया)*
Ravi Prakash
Loading...