Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Nov 2022 · 1 min read

परवाना ।

जल-जलकर इस तरह भी बिखर जाना होता है
मुहब्बत में बेवफा नहीं परवाना होता है।
a m prahari.

Language: Hindi
163 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Anil Mishra Prahari
View all
You may also like:
हर किसी के पास एक जैसी ज़िंदगी की घड़ी है, फिर एक तो आराम से
हर किसी के पास एक जैसी ज़िंदगी की घड़ी है, फिर एक तो आराम से
पूर्वार्थ
****अपने स्वास्थ्य से प्यार करें ****
****अपने स्वास्थ्य से प्यार करें ****
Kavita Chouhan
(वक्त)
(वक्त)
Sangeeta Beniwal
चँचल हिरनी
चँचल हिरनी
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
*विश्व योग का दिन पावन, इक्कीस जून को आता(गीत)*
*विश्व योग का दिन पावन, इक्कीस जून को आता(गीत)*
Ravi Prakash
कितनी हीं बार
कितनी हीं बार
Shweta Soni
इस सियासत का ज्ञान कैसा है,
इस सियासत का ज्ञान कैसा है,
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
दिनांक:- २४/५/२०२३
दिनांक:- २४/५/२०२३
संजीव शुक्ल 'सचिन'
वातावरण चितचोर
वातावरण चितचोर
surenderpal vaidya
यहां कोई बेरोजगार नहीं हर कोई अपना पक्ष मजबूत करने में लगा ह
यहां कोई बेरोजगार नहीं हर कोई अपना पक्ष मजबूत करने में लगा ह
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
स्त्री जब
स्त्री जब
Rachana
सुन्दरता और आईना
सुन्दरता और आईना
Dr. Kishan tandon kranti
"योगी-योगी"
*प्रणय प्रभात*
आ ख़्वाब बन के आजा
आ ख़्वाब बन के आजा
Dr fauzia Naseem shad
मेरे दिल की गहराई में,
मेरे दिल की गहराई में,
Dr. Man Mohan Krishna
विश्वास
विश्वास
विजय कुमार अग्रवाल
.....★.....
.....★.....
Abhishek Shrivastava "Shivaji"
वो सुहाने दिन
वो सुहाने दिन
Aman Sinha
श्री राम का अन्तर्द्वन्द
श्री राम का अन्तर्द्वन्द
Paras Nath Jha
ग़ज़ल/नज़्म - दस्तूर-ए-दुनिया तो अब ये आम हो गया
ग़ज़ल/नज़्म - दस्तूर-ए-दुनिया तो अब ये आम हो गया
अनिल कुमार
*अध्यापिका
*अध्यापिका
Naushaba Suriya
बधाई हो बधाई, नये साल की बधाई
बधाई हो बधाई, नये साल की बधाई
gurudeenverma198
नहीं घुटता दम अब सिगरेटों के धुएं में,
नहीं घुटता दम अब सिगरेटों के धुएं में,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
रक्षाबंधन
रक्षाबंधन
Harminder Kaur
जन गण मन अधिनायक जय हे ! भारत भाग्य विधाता।
जन गण मन अधिनायक जय हे ! भारत भाग्य विधाता।
Neelam Sharma
3363.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3363.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
दृष्टिकोण
दृष्टिकोण
Dhirendra Singh
,,
,,
Sonit Parjapati
मानव जीवन में जरूरी नहीं
मानव जीवन में जरूरी नहीं
Dr.Rashmi Mishra
न्याय यात्रा
न्याय यात्रा
Bodhisatva kastooriya
Loading...