Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 May 2023 · 2 min read

नौका विहार

नौका विहार और इंसान की इंसानियत में,
में असंख्य समानताएं, विषमताएं हैं।
नौका पानी पर चल रही है तो सब ठीक,
जरा सा सुराख होने पर डगमगाना शुरू हो जाती है,
ठीक उसी प्रकार इंसान की इंसानियत भी है,
जब तक इन्सान की इन्सानियत में सत्यनिष्ठा,
प्रेम, कर्मठता, कर्मण्यता है तब तक तो ठीक है,
किंतु जैसे ही इन गुणों में बदलाव आता है,
इन्सान को इन्सानियत रूपी नौका,
डगमगाना शुरू हो जाती है।
……………..
मानव की अस्तित्व है इन्सानियत रूपी नौका,
सत्कर्मों का लेखा – जोखा है यह नौका,
किंतु जब तक बेसुराख है यह नौका तब तक सब ठीक,
वरना सुराख पड़ने पर
अपने साए को भी शरीर से अलग कर देती है यह नौका।
इस नौका के सत्कर्म दो चपु हैं,
जो दुखमय भवसागर में संतुलन बनाते हैं,
जब दुष्कर्मों की सेंध लग जाती इस नौका पर तो,
नौका में सुराख पड़ना स्वाभाविक है,
सुराख पड़ने से नौका पर सवार नौका विहार प्राणी,
का लड़खड़ाना इस बात का प्रतीक है कि,
दीया – बाती के सम्मिलन का समय आ गया है,
विनाशकारी समय पास है और,
नौका विहार करने वाले प्राणी की नौका,
समुद्र में समाहित होने का समय समीप है।
………..
नौका विहार और इंसान की इंसानियत,
सत्कर्मों और दुष्कर्मों के संघर्षों की गाथा है,
समुद्र में पानी और आत्मा में रूहानियत अस्तित्व जरूरी है,
जब दोनों समाप्त हो जाते हैं,
आत्मा परमात्मा में मिल जाती है,
और नौका विहार करने वाला इन्सान,
प्रभु का अंश बन जाता है।
तब धरा और आकाश के मध्य क्षितिज रेखा ,
में भी समानता आ जाती है।
इंसान का रूहानियत सफ़र अपनी मंजिल के,
पायदान पर पहुंच जाता है।

घोषणा – उक्त रचना मौलिक अप्रकाशित और स्वरचित है। यह रचना किसी अन्य फेसबुक ग्रुप या व्हाट्स ग्रुप पर प्रकाशित नहीं हुई है।

डॉ प्रवीण ठाकुर
भाषा अधिकारी,
निगमित निकाय भारत सरकार
शिमला हिमाचल प्रदेश।

Language: Hindi
127 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
प्रिय
प्रिय
The_dk_poetry
बाल कविता: चिड़िया आयी
बाल कविता: चिड़िया आयी
Rajesh Kumar Arjun
“दुमका संस्मरण 3” ट्रांसपोर्ट सेवा (1965)
“दुमका संस्मरण 3” ट्रांसपोर्ट सेवा (1965)
DrLakshman Jha Parimal
कोई नही है वास्ता
कोई नही है वास्ता
Surinder blackpen
सबला नारी
सबला नारी
आनन्द मिश्र
अकेलापन
अकेलापन
Neeraj Agarwal
जल प्रदूषण दुःख की है खबर
जल प्रदूषण दुःख की है खबर
Buddha Prakash
ये दुनिया है आपकी,
ये दुनिया है आपकी,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
चिन्ता और चिता मे अंतर
चिन्ता और चिता मे अंतर
Ram Krishan Rastogi
हिंदी दोहा शब्द - भेद
हिंदी दोहा शब्द - भेद
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
3-“ये प्रेम कोई बाधा तो नहीं “
3-“ये प्रेम कोई बाधा तो नहीं “
Dilip Kumar
2555.पूर्णिका
2555.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
जय माँ कालरात्रि 🙏
जय माँ कालरात्रि 🙏
डॉ.सीमा अग्रवाल
■ हाइकू पर हाइकू।।
■ हाइकू पर हाइकू।।
*Author प्रणय प्रभात*
नागिन
नागिन
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
बखान गुरु महिमा की,
बखान गुरु महिमा की,
Yogendra Chaturwedi
बालको से पग पग पर अपराध होते ही रहते हैं।उन्हें केवल माता के
बालको से पग पग पर अपराध होते ही रहते हैं।उन्हें केवल माता के
Shashi kala vyas
*त्रिशूल (बाल कविता)*
*त्रिशूल (बाल कविता)*
Ravi Prakash
माॅं
माॅं
Pt. Brajesh Kumar Nayak
प्रेम पल्लवन
प्रेम पल्लवन
Er.Navaneet R Shandily
इक चितेरा चांद पर से चित्र कितने भर रहा।
इक चितेरा चांद पर से चित्र कितने भर रहा।
umesh mehra
मुझ जैसा रावण बनना भी संभव कहां ?
मुझ जैसा रावण बनना भी संभव कहां ?
Mamta Singh Devaa
बॉर्डर पर जवान खड़ा है।
बॉर्डर पर जवान खड़ा है।
Kuldeep mishra (KD)
चाँद पूछेगा तो  जवाब  क्या  देंगे ।
चाँद पूछेगा तो जवाब क्या देंगे ।
sushil sarna
समृद्धि
समृद्धि
Paras Nath Jha
विश्व कविता दिवस
विश्व कविता दिवस
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet kumar Shukla
Let’s use the barter system.
Let’s use the barter system.
पूर्वार्थ
अधरों को अपने
अधरों को अपने
Dr. Meenakshi Sharma
Loading...