Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Aug 2023 · 1 min read

पयसी

लेखक नाम – डॉ अरुण कुमार शास्त्री
निवास स्थान- दिल्ली एन सी आर
विषय- माँ के बिना जीवन व्यर्थ है
विधा – पद्य
शीर्षक – पयसी

जननी सुरक्षा से अधिक सुरक्षित
जगत में होता कौन है ।
माँ का स्थान सर्वाधिक प्रतिष्ठित,
यही बतलाता व्योम है ।
जातक की निर्मूल अवस्था,
माता उसका मूल्यांकन ।
जो कोई बांचे जो कोई जांचें,
परिभाषित समूल है ।
बिना मूल के तरु तिरस्कृत,
त्रिशंकु सा कहलाता है ।
जुड़ा हुआ जो वृक्ष जड़ों से,
जगत में अति भव्य शोभा पाता है ।
व्यक्ति के जन्मोत्सव का निर्माण,
स्थापित होना स्वाभाविक हो जाता है ।
कर्म कांड पर आधारित है,
जगत व्यवस्था नभ स्थल की ।
इस अवसर से उपलब्ध प्रक्रिया,
को गुरु संदेश भी जाता है ।
यूं तो मानव सभ्यता के,
आदि की अटकल अचल अघोर हैं ।
जननी सुरक्षा से अधिक सुरक्षित
जगत में होता कौन है ।
माँ का स्थान सर्वाधिक प्रतिष्ठित,
यही बतलाता व्योम है ।
तेरा मेरा इसका उसका,
अर्थ निगोड़ा निरगुण का हिस्सा है ।
तकनीकी विकास में लेकिन,
ये सब बहुत जरूरी रस्ता है
राह सुनिश्चित जीवन का उद्देश्य,
हो निश्चित यही ठीक सा लगता है ।
जननी सुरक्षा से अधिक सुरक्षित
जगत में होता कौन है ।
माँ का स्थान सर्वाधिक प्रतिष्ठित,
यही बतलाता व्योम है ।

Language: Hindi
484 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
"श्रृंगारिका"
Ekta chitrangini
हिंदी का आनंद लीजिए __
हिंदी का आनंद लीजिए __
Manu Vashistha
जीवन
जीवन
Bodhisatva kastooriya
झूठा घमंड
झूठा घमंड
Shekhar Chandra Mitra
लेकिन, प्यार जहां में पा लिया मैंने
लेकिन, प्यार जहां में पा लिया मैंने
gurudeenverma198
💐अज्ञात के प्रति-127💐
💐अज्ञात के प्रति-127💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
किस कदर है व्याकुल
किस कदर है व्याकुल
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
”ज़िन्दगी छोटी नहीं होती
”ज़िन्दगी छोटी नहीं होती
शेखर सिंह
कहां से कहां आ गए हम..!
कहां से कहां आ गए हम..!
Srishty Bansal
कौन किसके बिन अधूरा है
कौन किसके बिन अधूरा है
Ram Krishan Rastogi
"ग़ौरतलब"
Dr. Kishan tandon kranti
व्यवहार कैसा होगा बोल बता देता है..,
व्यवहार कैसा होगा बोल बता देता है..,
कवि दीपक बवेजा
रिश्तों में झुकना हमे मुनासिब लगा
रिश्तों में झुकना हमे मुनासिब लगा
Dimpal Khari
नारी पुरुष
नारी पुरुष
Neeraj Agarwal
🙅महा-राष्ट्रवाद🙅
🙅महा-राष्ट्रवाद🙅
*Author प्रणय प्रभात*
"शाम-सवेरे मंदिर जाना, दीप जला शीश झुकाना।
आर.एस. 'प्रीतम'
वर्तमान गठबंधन राजनीति के समीकरण - एक मंथन
वर्तमान गठबंधन राजनीति के समीकरण - एक मंथन
Shyam Sundar Subramanian
संघर्षों की एक कथाः लोककवि रामचरन गुप्त +इंजीनियर अशोक कुमार गुप्त [ पुत्र ]
संघर्षों की एक कथाः लोककवि रामचरन गुप्त +इंजीनियर अशोक कुमार गुप्त [ पुत्र ]
कवि रमेशराज
स्वाल तुम्हारे-जवाब हमारे
स्वाल तुम्हारे-जवाब हमारे
Ravi Ghayal
*जब कभी दिल की ज़मीं पे*
*जब कभी दिल की ज़मीं पे*
Poonam Matia
अकेले आए हैं ,
अकेले आए हैं ,
Shutisha Rajput
*शुभ स्वतंत्रता दिवस हमारा (बाल कविता)*
*शुभ स्वतंत्रता दिवस हमारा (बाल कविता)*
Ravi Prakash
मेरी लाज है तेरे हाथ
मेरी लाज है तेरे हाथ
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
ऐसे जीना जिंदगी,
ऐसे जीना जिंदगी,
sushil sarna
2315.पूर्णिका
2315.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मदिरा वह धीमा जहर है जो केवल सेवन करने वाले को ही नहीं बल्कि
मदिरा वह धीमा जहर है जो केवल सेवन करने वाले को ही नहीं बल्कि
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
ग़ज़ल-हलाहल से भरे हैं ज़ाम मेरे
ग़ज़ल-हलाहल से भरे हैं ज़ाम मेरे
अरविन्द राजपूत 'कल्प'
हिन्दी दोहा बिषय-चरित्र
हिन्दी दोहा बिषय-चरित्र
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
वंदना
वंदना
Rashmi Sanjay
प्रिय भतीजी के लिए...
प्रिय भतीजी के लिए...
डॉ.सीमा अग्रवाल
Loading...