Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jul 2016 · 1 min read

….. .. पद ……

भगवन!क्यों नहिं दर्शन पाऊँ ।
योग मंत्र श्रुति ग्रन्थ न जानू , कैसे तुमको ध्याऊँ ?
मृदु-पद उन्मुख सतत् हृदय में , मूरति मञ्जु सजाऊँ ।
सजल नयन अवरुद्ध कण्ठ से , कैसे मैं गुण गाऊँ ?
असुर कुपित पतितों को तारा , कैसे यह बिसराऊँ ?
राम रटूँ शिव श्याम मान सम , मुरली मधुर बजाऊँ ।
अगणित जीवन वार चुका , अब, हठ कर प्राण गवाऊँ ।

Language: Hindi
Tag: कविता
371 Views
You may also like:
बना कुंच से कोंच,रेल-पथ विश्रामालय।।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
हमसफर
लक्ष्मी सिंह
ख़्वाहिश पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
खस्सीक दाम दस लाख
Ranjit Jha
मेरे हर सिम्त जो ग़म....
अश्क चिरैयाकोटी
गाँव के रंग में
सिद्धार्थ गोरखपुरी
शायरी
श्याम सिंह बिष्ट
सिंधु का विस्तार देखो
surenderpal vaidya
जंजीरों मे जकड़े लोगो
विनोद सिल्ला
बुढ़ापे में जीने के गुरु मंत्र
Ram Krishan Rastogi
पैर नहीं चलते थे भाई के, पर बल्ला बाकमाल चलता...
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
सत्यमंथन
मनोज कर्ण
पिंजरबद्ध प्राणी की चीख
AMRESH KUMAR VERMA
गुमनामी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
आकाश के नीचे
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
संघर्ष बिना कुछ नहीं मिलता
Shriyansh Gupta
*शंकर तुम्हें प्रणाम है (भक्ति-गीत)*
Ravi Prakash
कभी कभी।
Taj Mohammad
चंदा मामा
Dr. Kishan Karigar
ईद
Khushboo Khatoon
मनु के वंशज
Shekhar Chandra Mitra
रूखा रे ! यह झाड़ / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कुछ ऐसे बिखरना चाहती हूँ।
Saraswati Bajpai
वादा करके चले गए
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
इन्साफ
Alok Saxena
✍️प्यारी बिटिया ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
अखबार में क्या आएगा
कवि दीपक बवेजा
इन्सान
Seema 'Tu hai na'
'राजूश्री'
पंकज कुमार कर्ण
अपने किसी पद का तू
gurudeenverma198
Loading...