Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Aug 2023 · 1 min read

पथ नहीं होता सरल

** गीतिका **
~~
रह नहीं सकता अधिक क्षण ताश का सुन्दर महल।
है कठिन जब जिन्दगी तो पथ नहीं होता सरल।

चाहतें ऊंची बहुत जब हो सबल आधार भी।
साथ इसके है जरूरी हौंसला भी हो अटल।

प्रीत के संसार का कुछ मूल्य हो सकता नहीं।
किन्तु सब कुछ हो गया है अर्थ ही क्यों आजकल।

जब हवा में टिक नहीं पाते भवन हैं ताश के।
स्वप्न मिथ्या देखकर भी मन कभी जाता बहल।

खिल उठेगी जिन्दगी जब तुम मुहब्बत का सिला दो।
छोड़ कर मतभेद सारे दो कदम तो साथ चल।

छोड़ कर सारा बड़प्पन सब हकीकत में जिएं।
जिस तरह कीचड़ भरे तालाब में खिलते कमल।
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
-सुरेन्द्रपाल वैद्य, ०९/०८/२०२३

1 Like · 205 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from surenderpal vaidya
View all
You may also like:
!! पत्थर नहीं हूँ मैं !!
!! पत्थर नहीं हूँ मैं !!
Chunnu Lal Gupta
सच जानते हैं फिर भी अनजान बनते हैं
सच जानते हैं फिर भी अनजान बनते हैं
Sonam Puneet Dubey
चलो कहीं दूर जाएँ हम, यहाँ हमें जी नहीं लगता !
चलो कहीं दूर जाएँ हम, यहाँ हमें जी नहीं लगता !
DrLakshman Jha Parimal
ज़िंदगी फिर भी हमें
ज़िंदगी फिर भी हमें
Dr fauzia Naseem shad
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
मैं बिल्कुल आम-सा बंदा हूँ...!!
मैं बिल्कुल आम-सा बंदा हूँ...!!
Ravi Betulwala
*सेवा सबकी ही करी, माँ ने जब तक जान (कुंडलिया)*
*सेवा सबकी ही करी, माँ ने जब तक जान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
I Have No Desire To Be Found At Any Cost
I Have No Desire To Be Found At Any Cost
Manisha Manjari
तेरी मोहब्बत में इस क़दर दिल हारे हैं
तेरी मोहब्बत में इस क़दर दिल हारे हैं
Rekha khichi
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ना हो अपनी धरती बेवा।
ना हो अपनी धरती बेवा।
Ashok Sharma
#शेर-
#शेर-
*प्रणय प्रभात*
हिरनी जैसी जब चले ,
हिरनी जैसी जब चले ,
sushil sarna
आजकल सबसे जल्दी कोई चीज टूटती है!
आजकल सबसे जल्दी कोई चीज टूटती है!
उमेश बैरवा
कोई दर ना हीं ठिकाना होगा
कोई दर ना हीं ठिकाना होगा
Shweta Soni
सृष्टि की अभिदृष्टि कैसी?
सृष्टि की अभिदृष्टि कैसी?
AJAY AMITABH SUMAN
औरत की हँसी
औरत की हँसी
Dr MusafiR BaithA
भाड़ में जाओ
भाड़ में जाओ
ruby kumari
पाती प्रभु को
पाती प्रभु को
Saraswati Bajpai
मुझसे देखी न गई तकलीफ़,
मुझसे देखी न गई तकलीफ़,
पूर्वार्थ
*हनुमान के राम*
*हनुमान के राम*
Kavita Chouhan
"तेरी यादें"
Dr. Kishan tandon kranti
कल तलक
कल तलक
Santosh Shrivastava
कविता
कविता
Rambali Mishra
सत्य की खोज
सत्य की खोज
SHAMA PARVEEN
नई नसल की फसल
नई नसल की फसल
विजय कुमार अग्रवाल
दीवारें ऊँचीं हुईं, आँगन पर वीरान ।
दीवारें ऊँचीं हुईं, आँगन पर वीरान ।
Arvind trivedi
*परवरिश की उड़ान* ( 25 of 25 )
*परवरिश की उड़ान* ( 25 of 25 )
Kshma Urmila
गुड़िया
गुड़िया
Dr. Pradeep Kumar Sharma
भारत देश
भारत देश
लक्ष्मी सिंह
Loading...