Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Aug 2023 · 1 min read

पत्नी के जन्मदिन पर….

मेरा आईना अब मुझे ढूंढता है,
मैं खुद को तेरी आँखों में देखने जो लगा हूँ…

मेरा वक्त अब मुझसे पूछता है,
मैं तेरे वक्त में शामिल जो हो गया हूँ…

मेरे रास्ते अब खफा हो गए मुझसे,
मैं तेरे कदमों के पीछे अपने कदम रखने जो लगा हूँ…

अब मेरी खुशी भी मेरे लबों पर नहीं है,
मैं तेरी हँसी में हर वक्त मुसकुराने जो लगा हूँ…

मेरा नहीं मुझमें कुछ भी बचा है,
तू सागर है मैं बूंद बनकर तुझमें समाने जो लगा हूँ…

अब मेरे सपने मेरे नहीं है,
तेरी खुली आँखों से अपनी आंखें बंद कर देखने जो लगा हूँ…

मेरा दिल मेरे सीने में मिलता नहीं अब,
मैं धड़कन बनकर तेरे सीने में धड़कने जो लगा हूँ…

मैं क्या कहूँ खुद को, मैं हूँ नहीं हूँ,
मैं तेरी खुदायी में ख्याल बनकर जो खोने जो लगा हूँ…

मैं हूँ तो तेरा, तू है तो मेरी,
तेरा मेरी से हटकर तू आकाश की गंगा मैं खला हो गया हूँ…।।

Language: Hindi
2 Likes · 573 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
View all
You may also like:
अरबपतियों की सूची बेलगाम
अरबपतियों की सूची बेलगाम
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
"ऐ मितवा"
Dr. Kishan tandon kranti
हमारा भारतीय तिरंगा
हमारा भारतीय तिरंगा
Neeraj Agarwal
मौसम का मिजाज़ अलबेला
मौसम का मिजाज़ अलबेला
Buddha Prakash
3098.*पूर्णिका*
3098.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
रजनी छंद (विधान सउदाहरण)
रजनी छंद (विधान सउदाहरण)
Subhash Singhai
मेरी जिंदगी भी तुम हो,मेरी बंदगी भी तुम हो
मेरी जिंदगी भी तुम हो,मेरी बंदगी भी तुम हो
कृष्णकांत गुर्जर
ग़ज़ल/नज़्म - आज़ मेरे हाथों और पैरों में ये कम्पन सा क्यूँ है
ग़ज़ल/नज़्म - आज़ मेरे हाथों और पैरों में ये कम्पन सा क्यूँ है
अनिल कुमार
प्रकृति और तुम
प्रकृति और तुम
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मैं भी तुम्हारी परवाह, अब क्यों करुँ
मैं भी तुम्हारी परवाह, अब क्यों करुँ
gurudeenverma198
Fragrance of memories
Fragrance of memories
Bidyadhar Mantry
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हमें कोयले संग हीरे मिले हैं।
हमें कोयले संग हीरे मिले हैं।
surenderpal vaidya
मोबाइल है हाथ में,
मोबाइल है हाथ में,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
एक ख्वाब थे तुम,
एक ख्वाब थे तुम,
लक्ष्मी सिंह
वो जो ख़ामोश
वो जो ख़ामोश
Dr fauzia Naseem shad
जीवन के गीत
जीवन के गीत
Harish Chandra Pande
मनोकामनी
मनोकामनी
Kumud Srivastava
हाईकु
हाईकु
Neelam Sharma
अलाव की गर्माहट
अलाव की गर्माहट
Arvina
जब भी बुलाओ बेझिझक है चली आती।
जब भी बुलाओ बेझिझक है चली आती।
Ahtesham Ahmad
प्यार का पंचनामा
प्यार का पंचनामा
Dr Parveen Thakur
लाभ की इच्छा से ही लोभ का जन्म होता है।
लाभ की इच्छा से ही लोभ का जन्म होता है।
Rj Anand Prajapati
कविता : याद
कविता : याद
Rajesh Kumar Arjun
जिन्हें नशा था
जिन्हें नशा था
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
सत्य छिपकर तू कहां बैठा है।
सत्य छिपकर तू कहां बैठा है।
Taj Mohammad
#क़तआ
#क़तआ
*प्रणय प्रभात*
मां महागौरी
मां महागौरी
Mukesh Kumar Sonkar
आज बुढ़ापा आया है
आज बुढ़ापा आया है
Namita Gupta
दीप में कोई ज्योति रखना
दीप में कोई ज्योति रखना
Shweta Soni
Loading...