Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Dec 2023 · 1 min read

–: पत्थर :–

–: पत्थर :–

पत्थरों, पेड़ों, नदी को पूजते
प्रकृति का संरक्षण हमारा मंत्र है
ईश्वर की प्रार्थना कैसे भी करें
सनातन में हर कोई स्वतंत्र है

पत्थरों से मूर्तियां हमने गढ़ीं
अनगिनत छवियाँ भी उकेरी गयीं
साकार को पूजें या माने निराकार
न बंधन, न विवशता थोपी गयीं

पत्थरों से ही देवालय बने
शिल्प और सौंदर्य अद्वितीय हैं
मनन, चिंतन,सत्संग के लिये
शांति के स्थल अतुलनीय हैं

पत्थरों ने लेकिन सोचा न था
कल ये ऐसे हाथ में भी जाएंगे
तोड़कर फेंकेंगा इंसा की तरफ
जख्म, गहरे घाव ये दे जाएंगे

1 Like · 4 Comments · 170 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अहंकार का एटम
अहंकार का एटम
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
पावस में करती प्रकृति,
पावस में करती प्रकृति,
Mahendra Narayan
*स्वर्ग में सबको मिला तन, स्वस्थ और जवान है 【गीतिका】*
*स्वर्ग में सबको मिला तन, स्वस्थ और जवान है 【गीतिका】*
Ravi Prakash
#ज़मीनी_सच
#ज़मीनी_सच
*Author प्रणय प्रभात*
आते ही ख़याल तेरा आँखों में तस्वीर बन जाती है,
आते ही ख़याल तेरा आँखों में तस्वीर बन जाती है,
डी. के. निवातिया
माँ शारदे
माँ शारदे
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
"सच की सूरत"
Dr. Kishan tandon kranti
ज़िंदगानी
ज़िंदगानी
Shyam Sundar Subramanian
क्षितिज के उस पार
क्षितिज के उस पार
Suryakant Dwivedi
प्यार और नफ़रत
प्यार और नफ़रत
Dr. Pradeep Kumar Sharma
वक्त गुजर जायेगा
वक्त गुजर जायेगा
Sonu sugandh
एहसास के रिश्तों में
एहसास के रिश्तों में
Dr fauzia Naseem shad
हम जो भी कार्य करते हैं वो सब बाद में वापस लौट कर आता है ,चा
हम जो भी कार्य करते हैं वो सब बाद में वापस लौट कर आता है ,चा
Shashi kala vyas
कुछ चंद लोंगो ने कहा है कि
कुछ चंद लोंगो ने कहा है कि
सुनील कुमार
ए रब मेरे मरने की खबर उस तक पहुंचा देना
ए रब मेरे मरने की खबर उस तक पहुंचा देना
श्याम सिंह बिष्ट
मेरे दिल ❤️ में जितने कोने है,
मेरे दिल ❤️ में जितने कोने है,
शिव प्रताप लोधी
💐प्रेम कौतुक-243💐
💐प्रेम कौतुक-243💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
श्याम दिलबर बना जब से
श्याम दिलबर बना जब से
Khaimsingh Saini
11, मेरा वजूद
11, मेरा वजूद
Dr Shweta sood
रिसाइकल्ड रिश्ता - नया लेबल
रिसाइकल्ड रिश्ता - नया लेबल
Atul "Krishn"
Wishing power and expectation
Wishing power and expectation
Ankita Patel
क्या ये गलत है ?
क्या ये गलत है ?
Rakesh Bahanwal
मेरा शरीर और मैं
मेरा शरीर और मैं
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सज्जन से नादान भी, मिलकर बने महान।
सज्जन से नादान भी, मिलकर बने महान।
आर.एस. 'प्रीतम'
चंद्रयान-3
चंद्रयान-3
Mukesh Kumar Sonkar
International Self Care Day
International Self Care Day
Tushar Jagawat
" लो आ गया फिर से बसंत "
Chunnu Lal Gupta
विनती
विनती
Kanchan Khanna
तूणीर (श्रेष्ठ काव्य रचनाएँ)
तूणीर (श्रेष्ठ काव्य रचनाएँ)
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ओमप्रकाश वाल्मीकि : व्यक्तित्व एवं कृतित्व
ओमप्रकाश वाल्मीकि : व्यक्तित्व एवं कृतित्व
Dr. Narendra Valmiki
Loading...