Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 May 2024 · 1 min read

पत्थर भी तेरे दिल से अच्छा है

हां ये सच है कि
बहुत कठोर होता है
पर एक निश्चित प्रहार पर
वह भी टूट ही जाता है
मजबूती से उसका दामन भी छुट ही जाता है
अच्छा है कि तेरे दिल जैसा नही है
वरना मूर्तियों को आकार नही मिलता
नदियों को राह नही मिलती
इंसानों को आवास नही मिलता
अच्छा है कि पत्थरों ने टूटना सीख लिया है

Language: Hindi
1 Like · 19 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*होटल राजमहल हुए, महाराज सब आम (कुंडलिया)*
*होटल राजमहल हुए, महाराज सब आम (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
घर और घर की याद
घर और घर की याद
डॉ० रोहित कौशिक
नव अंकुर स्फुटित हुआ है
नव अंकुर स्फुटित हुआ है
Shweta Soni
वक्त का घुमाव तो
वक्त का घुमाव तो
Mahesh Tiwari 'Ayan'
"वोट के मायने"
Dr. Kishan tandon kranti
एक भ्रम जाल है
एक भ्रम जाल है
Atul "Krishn"
भर लो नयनों में नीर
भर लो नयनों में नीर
Arti Bhadauria
ऊँचाई .....
ऊँचाई .....
sushil sarna
जहां पर जन्म पाया है वो मां के गोद जैसा है।
जहां पर जन्म पाया है वो मां के गोद जैसा है।
सत्य कुमार प्रेमी
मेघा तू सावन में आना🌸🌿🌷🏞️
मेघा तू सावन में आना🌸🌿🌷🏞️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
दीवारों की चुप्पी में
दीवारों की चुप्पी में
Sangeeta Beniwal
#लघु_कविता
#लघु_कविता
*Author प्रणय प्रभात*
तस्वीर
तस्वीर
Dr. Mahesh Kumawat
कल कल करती बेकल नदियां
कल कल करती बेकल नदियां
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
संघर्षों को लिखने में वक्त लगता है
संघर्षों को लिखने में वक्त लगता है
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
हो गई जब खत्म अपनी जिंदगी की दास्तां..
हो गई जब खत्म अपनी जिंदगी की दास्तां..
Vishal babu (vishu)
अहंकार अभिमान रसातल की, हैं पहली सीढ़ी l
अहंकार अभिमान रसातल की, हैं पहली सीढ़ी l
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
खामोश रहेंगे अभी तो हम, कुछ नहीं बोलेंगे
खामोश रहेंगे अभी तो हम, कुछ नहीं बोलेंगे
gurudeenverma198
आज के दौर के मौसम का भरोसा क्या है।
आज के दौर के मौसम का भरोसा क्या है।
Phool gufran
साँसें कागज की नाँव पर,
साँसें कागज की नाँव पर,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
छोटी-छोटी बातों से, ऐ दिल परेशाँ न हुआ कर,
छोटी-छोटी बातों से, ऐ दिल परेशाँ न हुआ कर,
_सुलेखा.
*** तस्वीर....! ***
*** तस्वीर....! ***
VEDANTA PATEL
दीपावली
दीपावली
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
सच तो सच ही रहता हैं।
सच तो सच ही रहता हैं।
Neeraj Agarwal
*निरोध (पंचचामर छंद)*
*निरोध (पंचचामर छंद)*
Rituraj shivem verma
गले से लगा ले मुझे प्यार से
गले से लगा ले मुझे प्यार से
Basant Bhagawan Roy
लहर आजादी की
लहर आजादी की
चक्षिमा भारद्वाज"खुशी"
निश्छल प्रेम
निश्छल प्रेम
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
लफ़्ज़ों में ज़िंदगी को
लफ़्ज़ों में ज़िंदगी को
Dr fauzia Naseem shad
जीने का हौसला भी
जीने का हौसला भी
Rashmi Sanjay
Loading...