Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Jan 2024 · 1 min read

पत्थर की अभिलाषा

राह पर पड़े पत्थर ने सोचा इक दिन यह भी
क्या जीवन है ?
नित प्रतिदिन ठोकरें
खाता फिरता हूं,
दिशाहीन मैं इधर-उधर लुढ़कता टूटता
बिखरता रहता हूं,

हेय दृष्टि का पात्र मैं,
नही दया का पात्र अंशमात्र मैं,

मै कठोरता उपमा धारक,
बुरे भाव व्यक्त परिभाषित कारक,

मैं स्पंदनहीन सही पर निरर्थक नहीं
मेरा अस्तित्व बेकार,
सार्थक प्रयोग पर निर्भर मेरा जीवन जो
करे मुझे साकार,

कुछ आकांक्षाएं, कुछ अभिलाषाएं हैं मेरी
जिनसे हो सार्थक मेरा जीवन इस संसार,

बनूँ किसी विद्यालय की नींव का पत्थर जो
ज्ञान का करे प्रसार,
या बनूँ उस पुल का पत्थर का जो जटिल
आवागमन का करे निस्तार,

या बनूँ किसी शिल्पकार की कलाकृति जिसका
जग सम्मान करे,
नहीं लालसा हो जाऊँ प्रतिष्ठित किसी मंदिर में जहां सब मेरा सम्मान करें,

अभिलाषा मेरी बन सकूं
वीर शहीदों के स्मारक का एक पत्थर
जिनका राष्ट्र् सम्मान करे।

Language: Hindi
81 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Shyam Sundar Subramanian
View all
You may also like:
*जाता सूरज शाम का, आता प्रातः काल (कुंडलिया)*
*जाता सूरज शाम का, आता प्रातः काल (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
चलो कल चाय पर मुलाक़ात कर लेंगे,
चलो कल चाय पर मुलाक़ात कर लेंगे,
गुप्तरत्न
अपनी सरहदें जानते है आसमां और जमीन...!
अपनी सरहदें जानते है आसमां और जमीन...!
Aarti sirsat
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
"YOU ARE GOOD" से शुरू हुई मोहब्बत "YOU
nagarsumit326
Compromisation is a good umbrella but it is a poor roof.
Compromisation is a good umbrella but it is a poor roof.
GOVIND UIKEY
इसरो के हर दक्ष का,
इसरो के हर दक्ष का,
Rashmi Sanjay
देश का वामपंथ
देश का वामपंथ
विजय कुमार अग्रवाल
अब रिश्तों का व्यापार यहां बखूबी चलता है
अब रिश्तों का व्यापार यहां बखूबी चलता है
Pramila sultan
ये रब की बनाई हुई नेमतें
ये रब की बनाई हुई नेमतें
Shweta Soni
*भिन्नात्मक उत्कर्ष*
*भिन्नात्मक उत्कर्ष*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
2969.*पूर्णिका*
2969.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
गुरू द्वारा प्राप्त ज्ञान के अनुसार जीना ही वास्तविक गुरू दक
गुरू द्वारा प्राप्त ज्ञान के अनुसार जीना ही वास्तविक गुरू दक
SHASHANK TRIVEDI
भाग्य प्रबल हो जायेगा
भाग्य प्रबल हो जायेगा
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
सीख
सीख
Adha Deshwal
रखो वक्त निकाल कर  नजदीकिया और  निभा लो अपनापन जो भी रिश्ते
रखो वक्त निकाल कर नजदीकिया और निभा लो अपनापन जो भी रिश्ते
पूर्वार्थ
एक मुक्तक
एक मुक्तक
सतीश तिवारी 'सरस'
Gazal
Gazal
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
“दो अपना तुम साथ मुझे”
“दो अपना तुम साथ मुझे”
DrLakshman Jha Parimal
समूची दुनिया में
समूची दुनिया में
*प्रणय प्रभात*
घर के किसी कोने में
घर के किसी कोने में
आकांक्षा राय
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-146 के चयनित दोहे
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-146 के चयनित दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
"हकीकत"
Dr. Kishan tandon kranti
विश्व जनसंख्या दिवस
विश्व जनसंख्या दिवस
Bodhisatva kastooriya
घबराना हिम्मत को दबाना है।
घबराना हिम्मत को दबाना है।
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
ये बता दे तू किधर जाएंगे।
ये बता दे तू किधर जाएंगे।
सत्य कुमार प्रेमी
Attraction
Attraction
Vedha Singh
कुछ कहूं ना कहूं तुम भी सोचा करो,
कुछ कहूं ना कहूं तुम भी सोचा करो,
Sanjay ' शून्य'
कवि 'घाघ' की कहावतें
कवि 'घाघ' की कहावतें
Indu Singh
जिंदा होने का सबूत
जिंदा होने का सबूत
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Loading...