Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Jan 2024 · 1 min read

* पत्ते झड़ते जा रहे *

** कुण्डलिया **
~~
पत्ते झड़ते जा रहे, सब वृक्षों के खूब।
और सूखती जा रही, हरी भरी सी दूब।
हरी भरी सी दूब, शीत ने दस्तक दी है।
मुरझाए सब फूल, बहुत यह बेदर्दी है।
कहते वैद्य सुरेन्द्र, नहीं बनता कुछ कहते।
ऋतु बसंत के पूर्व, रहे हैं पत्ते झड़ते।
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
मंगलमय हर ओर हो, राजकीय नववर्ष।
लेकिन इसमें है नहीं, भाव कहीं नव हर्ष।
भाव कहीं नव हर्ष, नही यह भारत का है।
भारतीय पंचांग, यहां के जन-मन का है।
कहते वैद्य सुरेन्द्र, देश का अभ्युदय हो।
लिए स्वदेशी भाव, हर घड़ी मंगलमय हो।
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
मन सबके भाता बहुत, जलता हुआ अलाव।
राहत कुछ मिलती मगर, घटता नहीं प्रभाव।
घटता नहीं प्रभाव, खुले में कटे ज़िन्दगी।
फुटपाथों पर रात, बीतती नित्य रतजगी।
कहते वैद्य सुरेन्द्र, सहन करता सब जीवन।
लेकिन क्यों चुपचाप, सदा रहता दुखिया मन।
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
सर्दी की इस ठंड से, कैसे पाएं पार।
आपस में मिल बैठकर, करते लोग विचार।
करते लोग विचार, नहीं जब स्थाई घर है।
कैसा अपना भाग्य, भटकना इधर उधर है।
कहते वैद्य सुरेन्द्र, बात है हमदर्दी की।
सेंकें खूब अलाव, बिताएं ऋतु सर्दी की।
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

-सुरेन्द्रपाल वैद्य, मण्डी (हि.प्र.)

1 Like · 1 Comment · 109 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from surenderpal vaidya
View all
You may also like:
THE MUDGILS.
THE MUDGILS.
Dhriti Mishra
दोहा पंचक. . .
दोहा पंचक. . .
sushil sarna
3296.*पूर्णिका*
3296.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
लालची नेता बंटता समाज
लालची नेता बंटता समाज
विजय कुमार अग्रवाल
मच्छर
मच्छर
लक्ष्मी सिंह
गुरु कृपा
गुरु कृपा
Satish Srijan
करम के नांगर  ला भूत जोतय ।
करम के नांगर ला भूत जोतय ।
Lakhan Yadav
*जिंदगी की दौड़ में ,कुछ पा गया कुछ खो गया (हिंदी गजल
*जिंदगी की दौड़ में ,कुछ पा गया कुछ खो गया (हिंदी गजल
Ravi Prakash
मैं स्वयं हूं..👇
मैं स्वयं हूं..👇
Shubham Pandey (S P)
सफर ऐसा की मंजिल का पता नहीं
सफर ऐसा की मंजिल का पता नहीं
Anil chobisa
सच जिंदा रहे(मुक्तक)
सच जिंदा रहे(मुक्तक)
दुष्यन्त 'बाबा'
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कम कमाना कम ही खाना, कम बचाना दोस्तो!
कम कमाना कम ही खाना, कम बचाना दोस्तो!
सत्य कुमार प्रेमी
कुछ इस तरह टुटे है लोगो के नजरअंदाजगी से
कुछ इस तरह टुटे है लोगो के नजरअंदाजगी से
पूर्वार्थ
ज़िंदगी चलती है
ज़िंदगी चलती है
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
ना प्रेम मिल सका ना दोस्ती मुकम्मल हुई...
ना प्रेम मिल सका ना दोस्ती मुकम्मल हुई...
Keshav kishor Kumar
सच्ची होली
सच्ची होली
Mukesh Kumar Rishi Verma
■सत्ता के लिए■
■सत्ता के लिए■
*Author प्रणय प्रभात*
अपने ख्वाबों से जो जंग हुई
अपने ख्वाबों से जो जंग हुई
VINOD CHAUHAN
"जर्दा"
Dr. Kishan tandon kranti
You are the sanctuary of my soul.
You are the sanctuary of my soul.
Manisha Manjari
मजहब
मजहब
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मैं इन्सान हूं, इन्सान ही रहने दो।
मैं इन्सान हूं, इन्सान ही रहने दो।
नेताम आर सी
*परवरिश की उड़ान* ( 25 of 25 )
*परवरिश की उड़ान* ( 25 of 25 )
Kshma Urmila
भूख
भूख
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
नमन मंच
नमन मंच
Neeraj Agarwal
"हमारे नेता "
DrLakshman Jha Parimal
धीरे धीरे बदल रहा
धीरे धीरे बदल रहा
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
अहसास तेरे....
अहसास तेरे....
Santosh Soni
गजल सगीर
गजल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
Loading...