Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Jul 2016 · 1 min read

पतझड़ है ज़िंदगी

वो छोड़ा है शहर जबसे पतझड़ है ज़िंदगी
भीगी-भीगी सी आंखे है पतझड़ है ज़िंदगी

बसर करे कहाँ ढह गया है आशियाना
खो गई है खुशियाँ कहाँ पतझड़ है ज़िंदगी

न किया फ़िर इस दिल ने उसका इंतज़ार
गम से कर ली है दोस्ती पतझड़ है ज़िंदगी

रुसवा भी हुए चाहत में , फना भी हो गये
तन्हाई का आलम है पतझड़ है ज़िंदगी

जीवन अधूरा डूब गई सपनों की नईया
पीर की बयार आ ठहरा पतझड़ है ज़िंदगी

यादों की भंवर में फस गया दिल बेचारा
न सावन न मधुमास पतझड़ है ज़िंदगी

माना हमें बना दी उसकी यादों ने शायर
छूप-छूप के रो रहें है पतझड़ है ज़िंदगी

“दुष्यंत” तूने क्या पाया जालिम दुनिया से
पल-पल है चोट खाया पतझड़ है ज़िंदगी

1 Comment · 762 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dushyant Kumar Patel
View all
You may also like:
It always seems impossible until It's done
It always seems impossible until It's done
Naresh Kumar Jangir
ऋण चुकाना है बलिदानों का
ऋण चुकाना है बलिदानों का
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
अंधविश्वास का पोषण
अंधविश्वास का पोषण
Mahender Singh Manu
अपनी क़िस्मत के दर्द
अपनी क़िस्मत के दर्द
Dr fauzia Naseem shad
नई दिल्ली
नई दिल्ली
Dr. Girish Chandra Agarwal
बहुत सस्ती दर से कीमत लगाई उसने
बहुत सस्ती दर से कीमत लगाई उसने
कवि दीपक बवेजा
आज फिर उनकी याद आई है,
आज फिर उनकी याद आई है,
Yogini kajol Pathak
सीनाजोरी (व्यंग्य)
सीनाजोरी (व्यंग्य)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
✍️ इंसान सिखता जरूर है...!
✍️ इंसान सिखता जरूर है...!
'अशांत' शेखर
*यार के पैर  जहाँ पर वहाँ  जन्नत है*
*यार के पैर जहाँ पर वहाँ जन्नत है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
गंगा
गंगा
डॉ. रजनी अग्रवाल 'वाग्देवी रत्ना'
पंचशील गीत
पंचशील गीत
Buddha Prakash
25)”हिन्दी भाषा”
25)”हिन्दी भाषा”
Sapna Arora
क्यों तुमने?
क्यों तुमने?
Dr. Meenakshi Sharma
*गणेश जी (बाल कविता)*
*गणेश जी (बाल कविता)*
Ravi Prakash
रिश्तों में पड़ी सिलवटें
रिश्तों में पड़ी सिलवटें
Surinder blackpen
आस्था और चुनौती
आस्था और चुनौती
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
#दोहा-
#दोहा-
*Author प्रणय प्रभात*
Jannat ke khab sajaye hai,
Jannat ke khab sajaye hai,
Sakshi Tripathi
हिरनगांव की रियासत
हिरनगांव की रियासत
Prashant Tiwari
वो अपना अंतिम मिलन..
वो अपना अंतिम मिलन..
Rashmi Sanjay
जिंदगी हमने जी कब,
जिंदगी हमने जी कब,
Umender kumar
" जुदाई "
Aarti sirsat
यादों का सफ़र...
यादों का सफ़र...
Santosh Soni
.....★.....
.....★.....
Abhishek Shrivastava "Shivaji"
*
*"गौतम बुद्ध"*
Shashi kala vyas
मन की कसक
मन की कसक
पंछी प्रगति
छाती
छाती
Dr.Pratibha Prakash
अहंकार अभिमान रसातल की, हैं पहली सीढ़ी l
अहंकार अभिमान रसातल की, हैं पहली सीढ़ी l
Shyamsingh Lodhi (Tejpuriya)
मुक्तक
मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
Loading...