Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Feb 2017 · 1 min read

पतझड़ से बहार

तेरे प्यार की कस्ती में सवार हो चली हूँ में
पतझड़ सी थी में अब बहार हो चली हूँ में

एक नजर जो डाली मुझपर
छाई अजब सी लाली मुझपर
बेरंग सी थी मैं अब रंगदार हो चली हूँ मे।
पतझड़ सी__________।

पावन हुई मै छु कर तुझको
तेरी खुशबू गई है छु कर मुझको
नीरस सी थी मै अब रसदार हो चली हूँ म।
पतधड़ सी___________।

कनखी से वो देखे मुझको
लाज न आए देखो उसको
नजर मिलते ही शर्मशार हो चली हूँ मै।
पतझड़ सी____________।

Language: Hindi
402 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
भावुक हुए बहुत दिन हो गए
भावुक हुए बहुत दिन हो गए
Suryakant Dwivedi
लघुकथा - दायित्व
लघुकथा - दायित्व
अशोक कुमार ढोरिया
मां
मां
Dr Parveen Thakur
मत रो मां
मत रो मां
Shekhar Chandra Mitra
चोरबत्ति (मैथिली हायकू)
चोरबत्ति (मैथिली हायकू)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
शुभ रात्रि
शुभ रात्रि
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
"जिन्दगी"
Dr. Kishan tandon kranti
हिंदू धर्म आ हिंदू विरोध।
हिंदू धर्म आ हिंदू विरोध।
Acharya Rama Nand Mandal
कहां की बात, कहां चली गई,
कहां की बात, कहां चली गई,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
वो ख़्वाहिशें जो सदियों तक, ज़हन में पलती हैं, अब शब्द बनकर, बस पन्नों पर बिखरा करती हैं।
वो ख़्वाहिशें जो सदियों तक, ज़हन में पलती हैं, अब शब्द बनकर, बस पन्नों पर बिखरा करती हैं।
Manisha Manjari
थकावट दूर करने की सबसे बड़ी दवा चेहरे पर खिली मुस्कुराहट है।
थकावट दूर करने की सबसे बड़ी दवा चेहरे पर खिली मुस्कुराहट है।
Rj Anand Prajapati
ज़िन्दगी के
ज़िन्दगी के
Santosh Shrivastava
अभिमान
अभिमान
Neeraj Agarwal
है शिव ही शक्ति,शक्ति ही शिव है
है शिव ही शक्ति,शक्ति ही शिव है
sudhir kumar
संस्कृतियों का समागम
संस्कृतियों का समागम
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
तुमसे मिलना इतना खुशनुमा सा था
तुमसे मिलना इतना खुशनुमा सा था
Kumar lalit
श्री रामचरितमानस में कुछ स्थानों पर घटना एकदम से घटित हो जाती है ऐसे ही एक स्थान पर मैंने यह
श्री रामचरितमानस में कुछ स्थानों पर घटना एकदम से घटित हो जाती है ऐसे ही एक स्थान पर मैंने यह "reading between the lines" लिखा है
SHAILESH MOHAN
बच्चा सिर्फ बच्चा होता है
बच्चा सिर्फ बच्चा होता है
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कठिनाईयां देखते ही डर जाना और इससे उबरने के लिए कोई प्रयत्न
कठिनाईयां देखते ही डर जाना और इससे उबरने के लिए कोई प्रयत्न
Paras Nath Jha
आप हाथो के लकीरों पर यकीन मत करना,
आप हाथो के लकीरों पर यकीन मत करना,
शेखर सिंह
श्री सुंदरलाल सिंघानिया ने सुनाया नवाब कल्बे अली खान के आध्यात्मिक व्यक्तित्व क
श्री सुंदरलाल सिंघानिया ने सुनाया नवाब कल्बे अली खान के आध्यात्मिक व्यक्तित्व क
Ravi Prakash
राम नाम अतिसुंदर पथ है।
राम नाम अतिसुंदर पथ है।
Vijay kumar Pandey
घर छोड़ गये तुम
घर छोड़ गये तुम
Rekha Drolia
निराला जी पर दोहा
निराला जी पर दोहा
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
लक्ष्य हासिल करना उतना सहज नहीं जितना उसके पूर्ति के लिए अभि
लक्ष्य हासिल करना उतना सहज नहीं जितना उसके पूर्ति के लिए अभि
Sukoon
देख बहना ई कैसा हमार आदमी।
देख बहना ई कैसा हमार आदमी।
सत्य कुमार प्रेमी
3292.*पूर्णिका*
3292.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Colours of Life!
Colours of Life!
R. H. SRIDEVI
अवधी गीत
अवधी गीत
प्रीतम श्रावस्तवी
प्रतीक्षा
प्रतीक्षा
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
Loading...