Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Feb 2024 · 1 min read

पतंग

मुस्कुराती पतंग
बलखाती, इठलाती
आसमान की ऊंचाई
को स्पर्श करती
अंजाम से अज्ञान
अबोध बनी मुसलसल
मचल रही।

चाहे अनचाहे
हमे जीवन का पावन
संदेश दे रही है
निष्काम भाव से हमे
जीवन जीने का
सार्वभौमिक
उद्घोष कर रही है।

कदापि वह
जीवन की अर्थहीनता
तबियत से है जानती
कभी अनंत आकाश
की गहराइयों को
सहर्ष नापती
कभी बादलों के
स्वभाव को भापती
ओंस बिंदुओं से
करती साक्षात्कार
कभी कट कर जलाशय
नदी व सागर का
बनती शिकार।

फिर भी अपनी यात्रा
निरंतर जारी
रखती है
निर्मोही जीवन के
सार को समझाती
जीवन के गहन अर्थ
को बताती
पतंग हममें आसक्ति से
दूर अनासक्ति का
भाव करती तिरोहित
मोक्ष को करती प्रेरित
निर्मेष पतंग
जीवन से हमारा
है मोहभंग करती
इस असार संसार
की सारता के बारे में
हमको बताती
इस सत्य को धारण
करने का संदेश देती है
हां सत्य है पतंग
हमे एक नये प्रयोग
से भिज्ञ करती है।

निर्मेष

2 Likes · 73 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
View all
You may also like:
कविता
कविता
Shweta Soni
सम्मान
सम्मान
Paras Nath Jha
जीवन मंत्र वृक्षों के तंत्र होते हैं
जीवन मंत्र वृक्षों के तंत्र होते हैं
Neeraj Agarwal
कम आ रहे हो ख़़्वाबों में आजकल,
कम आ रहे हो ख़़्वाबों में आजकल,
Shreedhar
मेरे होंठों पर
मेरे होंठों पर
Surinder blackpen
"मुश्किल वक़्त और दोस्त"
Lohit Tamta
आजाद पंछी
आजाद पंछी
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
#justareminderekabodhbalak
#justareminderekabodhbalak
DR ARUN KUMAR SHASTRI
वो मूर्ति
वो मूर्ति
Kanchan Khanna
दिल चेहरा आईना
दिल चेहरा आईना
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
*चलो नई जिंदगी की शुरुआत करते हैं*.....
*चलो नई जिंदगी की शुरुआत करते हैं*.....
Harminder Kaur
हिंदी दोहा- अर्चना
हिंदी दोहा- अर्चना
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस
अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस
Dr. Kishan tandon kranti
The only difference between dreams and reality is perfection
The only difference between dreams and reality is perfection
सिद्धार्थ गोरखपुरी
ये आँखें तेरे आने की उम्मीदें जोड़ती रहीं
ये आँखें तेरे आने की उम्मीदें जोड़ती रहीं
Kailash singh
हम और तुम
हम और तुम
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
--जो फेमस होता है, वो रूखसत हो जाता है --
--जो फेमस होता है, वो रूखसत हो जाता है --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
ताउम्र जलता रहा मैं तिरे वफ़ाओं के चराग़ में,
ताउम्र जलता रहा मैं तिरे वफ़ाओं के चराग़ में,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
दो शे'र ( मतला और इक शे'र )
दो शे'र ( मतला और इक शे'र )
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
जब भी अपनी दांत दिखाते
जब भी अपनी दांत दिखाते
AJAY AMITABH SUMAN
बहुत दाम हो गए
बहुत दाम हो गए
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
बात खो गई
बात खो गई
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
छोड़कर जाने वाले क्या जाने,
छोड़कर जाने वाले क्या जाने,
शेखर सिंह
मूर्ख बनाने की ओर ।
मूर्ख बनाने की ओर ।
Buddha Prakash
23/140.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/140.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
एक
एक
हिमांशु Kulshrestha
..कदम आगे बढ़ाने की कोशिश करता हू...*
..कदम आगे बढ़ाने की कोशिश करता हू...*
Naushaba Suriya
"नुक़्ता-चीनी" करना
*प्रणय प्रभात*
सफाई कामगारों के हक और अधिकारों की दास्तां को बयां करती हुई कविता 'आखिर कब तक'
सफाई कामगारों के हक और अधिकारों की दास्तां को बयां करती हुई कविता 'आखिर कब तक'
Dr. Narendra Valmiki
गौरेया (ताटंक छन्द)
गौरेया (ताटंक छन्द)
नाथ सोनांचली
Loading...