Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 May 2024 · 1 min read

पढ़ लेना मुझे तुम किताबों में..

काव्य सर्जन —
पढ लेना मुझे किताबों में-
****************************

जब याद मेरी आने लगे ,
बदली बनकर छाने लगे!
धडकन तन थरथराने लगे ,
तब पढ लेना तुम,
मुझे किताबों में!

भाव बंधे उमड़ा चिन्तन ,
रसाल शब्द से उर मन्थन !
प्रीत का अनुरागी चंदन,
लेखन में जीवित मन दर्पण !
कागज पर छलका गहरा है ,
प्रकृत मसि चित्र उकेरा है !
स्मृतियों में अक्स लुभाने लगे,
तब पढ लेना तुम!
मुझे किताबों में !!

व्यथित तृषित दिल छलका था ,
तप्त शूल सम अश्रु ढुलका था !
उर अन्तर गम की दहक भरी ,
सजल नयन फिर मुस्काया था!
कुछ अनकहा था लावा भीतर,
विवश हृदय भाव अनमोल ,
भाव सुमन लिखे दिल खोल !
तब पढ लेना तुम!
मुझे किताबों में!!

मौन श्वांसों का स्पंदन था ,
अन्तर हृदय में क्रंदन था !
प्राणों का मौन उत्सर्जन था ,
मोह काटता उर मंथन था !
देह छूटती पर,आत्म मिलन ,
अहसासे बयां बिन मोल ,
लिखा अन्तर पट खोल !
तब पढ लेना तुम!
मुझे किताबों में!!

✍️ सीमा गर्ग ‘मजरी’
मौलिक सृजन
मेरठ कैंट उत्तर प्रदेश।

Language: Hindi
41 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
#काहे_ई_बिदाई_होला_बाबूजी_के_घर_से?
#काहे_ई_बिदाई_होला_बाबूजी_के_घर_से?
संजीव शुक्ल 'सचिन'
गोस्वामी तुलसीदास
गोस्वामी तुलसीदास
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
तुम कहो तो कुछ लिखूं!
तुम कहो तो कुछ लिखूं!
विकास सैनी The Poet
#संवाद (#नेपाली_लघुकथा)
#संवाद (#नेपाली_लघुकथा)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
*गाथा बिहार की*
*गाथा बिहार की*
Mukta Rashmi
दोहा- छवि
दोहा- छवि
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
ईश्वर अल्लाह गाड गुरु, अपने अपने राम
ईश्वर अल्लाह गाड गुरु, अपने अपने राम
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कौन है जिम्मेदार?
कौन है जिम्मेदार?
Pratibha Pandey
"बेहतर है चुप रहें"
Dr. Kishan tandon kranti
थोड़ा प्रयास कर समस्या का समाधान स्वयं ढ़ुंढ़ लेने से समस्या
थोड़ा प्रयास कर समस्या का समाधान स्वयं ढ़ुंढ़ लेने से समस्या
Paras Nath Jha
ओ मां के जाये वीर मेरे...
ओ मां के जाये वीर मेरे...
Sunil Suman
Second Chance
Second Chance
Pooja Singh
जब तक लहू बहे रग- रग में
जब तक लहू बहे रग- रग में
शायर देव मेहरानियां
जिंदगी माना कि तू बड़ी खूबसूरत है ,
जिंदगी माना कि तू बड़ी खूबसूरत है ,
Manju sagar
हम आज भी
हम आज भी
Dr fauzia Naseem shad
प्रेम भरी नफरत
प्रेम भरी नफरत
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
कल आंखों मे आशाओं का पानी लेकर सभी घर को लौटे है,
कल आंखों मे आशाओं का पानी लेकर सभी घर को लौटे है,
manjula chauhan
*सावन-भादो दो नहीं, सिर्फ माह के नाम (कुंडलिया)*
*सावन-भादो दो नहीं, सिर्फ माह के नाम (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
उतर गए निगाह से वे लोग भी पुराने
उतर गए निगाह से वे लोग भी पुराने
सिद्धार्थ गोरखपुरी
अज़ल से इंतजार किसका है
अज़ल से इंतजार किसका है
Shweta Soni
मेहनत कर तू फल होगा
मेहनत कर तू फल होगा
Anamika Tiwari 'annpurna '
शब्दों मैं अपने रह जाऊंगा।
शब्दों मैं अपने रह जाऊंगा।
गुप्तरत्न
हे गुरुवर तुम सन्मति मेरी,
हे गुरुवर तुम सन्मति मेरी,
Kailash singh
अधूरे सवाल
अधूरे सवाल
Shyam Sundar Subramanian
जय श्री राम।
जय श्री राम।
Anil Mishra Prahari
गौरैया
गौरैया
Dr.Pratibha Prakash
9. *रोज कुछ सीख रही हूँ*
9. *रोज कुछ सीख रही हूँ*
Dr .Shweta sood 'Madhu'
निभाना साथ प्रियतम रे (विधाता छन्द)
निभाना साथ प्रियतम रे (विधाता छन्द)
नाथ सोनांचली
#ग़ज़ल-
#ग़ज़ल-
*प्रणय प्रभात*
Loading...