Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Oct 2022 · 2 min read

*पटाखों की लिस्ट (कहानी)*

पटाखों की लिस्ट (कहानी)
■■■■■■■■■■■■■■■■
दीपक और उसके छोटे भाई अखिल ने मिलकर दीवाली के लिए खरीदे जाने वाले पटाखों की पूरी लिस्ट तैयार कर रखी थी। अनार ,फुलझड़ी, जमीन पर घूमने वाला सुदर्शन चक्र तथा साथ ही राकेट – बम ,चटाई – बम आदि की पूरी लिस्ट थी। सोच रहे थे ,परसों जाकर आतिशबाजी मैदान से खरीद लाएँगे । इस समय कुछ सस्ती मिल जाएगी । लिस्ट दीपक के पास जेब में रखी हुई थी।
घर से निकलकर कॉलोनी के गेट की तरफ वह बढ़ा ही था कि पड़ोस के खन्ना अंकल मिल गए । कहने लगे “बड़े भाई साहब की तबियत खराब है । उन्हें साँस लेने में तकलीफ है । ”
सुनते ही दीपक ने पहला काम राजेश जी की तबियत पूछने का किया । राजेश जी घर पर चारपाई पर अधलेटी अवस्था में थे। दीपक को देखते ही उन्होंने कहा “आओ दीपक बेटा ! ठीक हो ? ”
दीपक ने कहा” मैं तो ठीक हूँ, लेकिन सुना है कुछ आपकी तबियत ठीक नहीं चल रही है ?”
राजेश जी मुस्कुराए और कुछ कहने ही वाले थे ,तभी उन्हें खाँसी का फंदा लगा । काफी देर तक खाँसते रहे । चेहरा तमतमा गया । दीपक को यह सब देख कर बहुत दुख हो रहा था । फिर जब खाँसी शांत हुई तो राजेश जी ने कहा “बेटा ! अब इस उमर में यह सब तो चलता ही रहता है । आज सुबह ही घर में रसोई में कुछ सामान बनते समय धुँआ आँगन में फैल गया और उसके बाद से मुझे खाँसी का दौरा पड़ना शुरू हो गया है । कई दिन से यही स्थिति चल रही है। थोड़ा – सा भी धुँआ बर्दाश्त करने की स्थिति नहीं है।”
दीपक ने सहानुभूति प्रकट की “धुँए से तो आपको परहेज करना ही चाहिए।”
राजेश जी ने कहा “सवाल मेरे परहेज का नहीं है । सवाल तो हमारे आस-पड़ोस के परहेज का है ।”
दीपक बोला “मैं समझा नहीं ।”
राजेश जी ने कहा “अब दीवाली आने वाली है । लोग पटाखे खरीदेंगे ,लेकिन अगर वह यह सोच लें कि उनके पटाखों से जो धुँआ निकलेगा वह मेरे जैसे न जाने कितने लोगों को कितनी तकलीफ देगा, तो फिर मेरी समस्या का हल हो जाएगा ।”
इतना सुनने के बाद दीपक से फिर वहाँ बैठा नहीं गया । वह चिंता की मुद्रा में बाहर निकला । कुछ दूर चला और फिर कूड़ेदान के पास पहुँचकर उसने अपनी जेब में रखा हुआ पटाखों की लिस्ट वाला कागज निकाला और उसके टुकड़े-टुकड़े करके कूड़ेदान में फेंक दिया ।
“””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””
लेखक : रवि प्रकाश , बाजार सर्राफा, रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

Language: Hindi
1 Like · 125 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
“I will keep you ‘because I prayed for you.”
“I will keep you ‘because I prayed for you.”
पूर्वार्थ
गृहस्थ संत श्री राम निवास अग्रवाल( आढ़ती )
गृहस्थ संत श्री राम निवास अग्रवाल( आढ़ती )
Ravi Prakash
संस्कार का गहना
संस्कार का गहना
Sandeep Pande
विधवा
विधवा
Acharya Rama Nand Mandal
पल भर फासला है
पल भर फासला है
Ansh
आइये - ज़रा कल की बात करें
आइये - ज़रा कल की बात करें
Atul "Krishn"
राम रहीम और कान्हा
राम रहीम और कान्हा
Dinesh Kumar Gangwar
जहां से चले थे वहीं आ गए !
जहां से चले थे वहीं आ गए !
Kuldeep mishra (KD)
योग
योग
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
मन में एक खयाल बसा है
मन में एक खयाल बसा है
Rekha khichi
बाजार आओ तो याद रखो खरीदना क्या है।
बाजार आओ तो याद रखो खरीदना क्या है।
Rajendra Kushwaha
ख़्वाब टूटा
ख़्वाब टूटा
Dr fauzia Naseem shad
जब कोई दिल से जाता है
जब कोई दिल से जाता है
Sangeeta Beniwal
माँ सच्ची संवेदना....
माँ सच्ची संवेदना....
डॉ.सीमा अग्रवाल
" एक थी बुआ भतेरी "
Dr Meenu Poonia
3028.*पूर्णिका*
3028.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"स्मृति"
Dr. Kishan tandon kranti
अखंड भारत
अखंड भारत
कार्तिक नितिन शर्मा
मुकाम यू ही मिलते जाएंगे,
मुकाम यू ही मिलते जाएंगे,
Buddha Prakash
सन् २०२३ में,जो घटनाएं पहली बार हुईं
सन् २०२३ में,जो घटनाएं पहली बार हुईं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
किसी ज्योति ने मुझको यूं जीवन दिया
किसी ज्योति ने मुझको यूं जीवन दिया
gurudeenverma198
King of the 90s - Television
King of the 90s - Television
Bindesh kumar jha
साथ था
साथ था
SHAMA PARVEEN
..
..
*प्रणय प्रभात*
नीलम शर्मा ✍️
नीलम शर्मा ✍️
Neelam Sharma
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
चाय ही पी लेते हैं
चाय ही पी लेते हैं
Ghanshyam Poddar
रात के अंँधेरे का सौंदर्य वही बता सकता है जिसमें बहुत सी रात
रात के अंँधेरे का सौंदर्य वही बता सकता है जिसमें बहुत सी रात
Neerja Sharma
दुरीयों के बावजूद...
दुरीयों के बावजूद...
सुरेश ठकरेले "हीरा तनुज"
"सूनी मांग" पार्ट-2
Radhakishan R. Mundhra
Loading...