Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jan 24, 2017 · 1 min read

पगली

?मनोहर छंद?

ढाकती थी तन दिवानी!
मोल जीवन का न जानी!
लोग पत्थर मारते थे!
हर समय दुत्कारते थे!

रूप नारी का बनाया!
बोध तन का आ न पाया!
लूट बैठा इक लुटेरा!
नर्क का इक बीज गेरा!

माह नौ अब बीतते थे!
दाँव पशु के जीतते थे!
रूप लेता माँस सा वो!
आखरी इक साँस सा वो!

जन्म लेता जीव दिखता!
हाय दाता लेख लिखता!
दूध आँचल में भरा था!
घाव पिछला भी हरा था!

नीर नैनों में विधाता!
मोह उपजा नेह आता!
गोद में चिपका रही थी!
क्या हुआ कुछ अनकही थी!

साँस हरपल थम रही थी!
राह में अब रम रही थी!
छोड़ जाती थी दिवानी
एक पगली की कहानी!

अनन्या “श्री”

379 Views
You may also like:
1971 में आरंभ हुई थी अनूठी त्रैमासिक पत्रिका "शिक्षा और...
Ravi Prakash
मौसम की पहली बारिश....
Dr. Alpa H. Amin
ये चिड़िया
Anamika Singh
आज अपने ही घर से बेघर हो रहे है।
Taj Mohammad
तितली सी उड़ान है
VINOD KUMAR CHAUHAN
यह तो वक्ती हस्ती है।
Taj Mohammad
पुरी के समुद्र तट पर (1)
Shailendra Aseem
होली का संदेश
Anamika Singh
लगा हूँ...
Sandeep Albela
हमारे पापा
पाण्डेय चिदानन्द
चलो जिन्दगी को फिर से।
Taj Mohammad
कवि
Vijaykumar Gundal
"बेटी के लिए उसके पिता "
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
🌺🌺🌺शायद तुम ही मेरी मंजिल हो🌺🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बहते अश्कों से पूंछो।
Taj Mohammad
कौन किसके बिन अधूरा है
Ram Krishan Rastogi
हो गई स्याह वह सुबह
gurudeenverma198
नवगीत
Mahendra Narayan
कोहिनूर
Dr.sima
फ़ालतू बात यही है
gurudeenverma198
*तजकिरातुल वाकियात* (पुस्तक समीक्षा )
Ravi Prakash
दर्पण!
सेजल गोस्वामी
पिता खुशियों का द्वार है।
Taj Mohammad
🌻🌻🌸"इतना क्यों बहका रहे हो,अपने अन्दाज पर"🌻🌻🌸
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पिता और एफडी
सूर्यकांत द्विवेदी
My dear Mother.
Taj Mohammad
निस्वार्थ पापा
Shubham Shankhydhar
तेरी खैर मांगता हूं खुदा से।
Taj Mohammad
तब मुझसे मत करना कोई सवाल तुम
gurudeenverma198
ट्रेजरी का पैसा
Mahendra Rai
Loading...