Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Feb 2023 · 1 min read

“पकौड़ियों की फ़रमाइश” —(हास्य रचना)

सालो दिहिस लगाइ, पकौड़िन, प्रातहिँ रट्टा,
कचरि गए हम आज, ढोइ बेसन कै कट्टा।

दुबरो हमरो गात, लगति बहु हट्टाकट्टा,
पसरो सोफा माहिँ, लगावहुँ एक रपट्टा।

तेल-गैस सब महँग, लेउँ केहि भाँति इकट्ठा,
कर्जा बढ़्यो हमार, लगत इज्ज्त पै बट्टा।

पाहुन आवत देखि, जाउँ कित, खेलत सट्टा,
देखि महाजन, दौड़, लगावत हौँ सरपट्टा।

कहुँ साड़ी, सलवार सूट, कहुँ माँगि दुपट्टा,
बेतन मिलतहिँँ छीनि, घरैतिन मारि झपट्टा।

दबी ढकी कछु नाहिं, उठि गए सिगरे फट्टा,
झाँकि परौसिन देखि, लगावै जी भर ठठ्ठा।

“आशा” बरनि न जाइ, पड़े हाथन महँ ढठ्ठा,
नयनन नीर बहाइ, पीसि चटनी सिलबट्टा..!

पाहुन # अतिथि, guest

Language: Hindi
5 Likes · 6 Comments · 285 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
View all
You may also like:
.......... मैं चुप हूं......
.......... मैं चुप हूं......
Naushaba Suriya
ज़िन्दगी में सफल नहीं बल्कि महान बनिए सफल बिजनेसमैन भी है,अभ
ज़िन्दगी में सफल नहीं बल्कि महान बनिए सफल बिजनेसमैन भी है,अभ
Rj Anand Prajapati
बाप के ब्रह्मभोज की पूड़ी
बाप के ब्रह्मभोज की पूड़ी
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
बहकी बहकी बातें करना
बहकी बहकी बातें करना
Surinder blackpen
बीते कल की क्या कहें,
बीते कल की क्या कहें,
sushil sarna
हे ईश्वर किसी की इतनी भी परीक्षा न लें
हे ईश्वर किसी की इतनी भी परीक्षा न लें
Gouri tiwari
मन्नत के धागे
मन्नत के धागे
Dr. Mulla Adam Ali
कुछ बहुएँ ससुराल में
कुछ बहुएँ ससुराल में
Artist Sudhir Singh (सुधीरा)
शोख- चंचल-सी हवा
शोख- चंचल-सी हवा
लक्ष्मी सिंह
🙂
🙂
Sukoon
2451.पूर्णिका
2451.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
गिफ्ट में क्या दू सोचा उनको,
गिफ्ट में क्या दू सोचा उनको,
Yogendra Chaturwedi
सर-ए-बाजार पीते हो...
सर-ए-बाजार पीते हो...
आकाश महेशपुरी
मै ज़ब 2017 मे फेसबुक पर आया आया था
मै ज़ब 2017 मे फेसबुक पर आया आया था
शेखर सिंह
मैं तो महज आईना हूँ
मैं तो महज आईना हूँ
VINOD CHAUHAN
बाल कविता: चूहे की शादी
बाल कविता: चूहे की शादी
Rajesh Kumar Arjun
वक्त कितना भी बुरा हो,
वक्त कितना भी बुरा हो,
Dr. Man Mohan Krishna
♥️♥️दौर ए उल्फत ♥️♥️
♥️♥️दौर ए उल्फत ♥️♥️
umesh mehra
यही एक काम बुरा, जिंदगी में हमने किया है
यही एक काम बुरा, जिंदगी में हमने किया है
gurudeenverma198
श्री राम राज्याभिषेक
श्री राम राज्याभिषेक
नवीन जोशी 'नवल'
🧟☠️अमावस की रात☠️🧟
🧟☠️अमावस की रात☠️🧟
SPK Sachin Lodhi
■ क़तआ (मुक्तक)
■ क़तआ (मुक्तक)
*Author प्रणय प्रभात*
पूछ रही हूं
पूछ रही हूं
Srishty Bansal
बालि हनुमान मलयुद्ध
बालि हनुमान मलयुद्ध
Anil chobisa
अल्फ़ाजी
अल्फ़ाजी
Mahender Singh
"बदलाव"
Dr. Kishan tandon kranti
*मेला (बाल कविता)*
*मेला (बाल कविता)*
Ravi Prakash
Tufan ki  pahle ki khamoshi ka andesha mujhe hone hi laga th
Tufan ki pahle ki khamoshi ka andesha mujhe hone hi laga th
Sakshi Tripathi
**वसन्त का स्वागत है*
**वसन्त का स्वागत है*
Mohan Pandey
वह मुझे चाहता बहुत तो था
वह मुझे चाहता बहुत तो था
Shweta Soni
Loading...