Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Feb 2017 · 1 min read

@@ पंजाब मेरा @@

मेरा पंजाब किसी से कम नहीं
इसी लिए मुझे किसी का गम नहीं
एक बार जिस ने इस धरती को चूमा
फिर उस को आता कहीं चैन नहीं !!

इंसान नहीं इंसानियत बसती है यहाँ
हैवानियत नहीं, बस इंसानियत रहती है वहां
लोगो की दिलो में मैल नहीं, किसी से बैर नहीं
यहाँ रहकर, इसी लिए आता चैन नहीं !!

क्या सेवा भावना बसती हैं यहाँ के लोगो में
आदर सत्कार की नदिया सदा बहती हैं लोगो में
नानक, तेग बहादुर, भगत सिंह की यह धरती है
बस रह रह कर याद आती है, मेरे पंजाब की !!

लंगर, छबील, खेतो की हरियाली मन को भाती है
सदा दरियाओं की कल कल मन को भाती है
आपसी प्रेम , समर्पण, देखना हो तो आ जाओ पंजाब
क्यों की गुरुओ की धरती, हर दम प्रेम बरसाती है !!

माताओं का जिगर देखो, भेज कर अपने लाल देश सेवा में
कभी गम को अपने दिल के साथ नहीं लगाती है
एक न्योछावर हो गया तो क्या, दूजा भेज दूँगी
भारत माता, पंजाब के पुत्रो को हर पल यहाँ बुलाती है !!

जय हो,,मेरा प्रेम पंजाब..,

अजीत तलवार
मेरठ

Language: Hindi
198 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
View all
You may also like:
ओ मां के जाये वीर मेरे...
ओ मां के जाये वीर मेरे...
Sunil Suman
"बचपन याद आ रहा"
Sandeep Kumar
जो लिखा नहीं.....लिखने की कोशिश में हूँ...
जो लिखा नहीं.....लिखने की कोशिश में हूँ...
Vishal babu (vishu)
सच तो आज न हम न तुम हो
सच तो आज न हम न तुम हो
Neeraj Agarwal
"सत्य अमर है"
Ekta chitrangini
सफर 👣जिंदगी का
सफर 👣जिंदगी का
डॉ० रोहित कौशिक
बचपन की यादें
बचपन की यादें
प्रीतम श्रावस्तवी
चल सतगुर के द्वार
चल सतगुर के द्वार
Satish Srijan
Anand mantra
Anand mantra
Rj Anand Prajapati
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
तुम्हारा दिल ही तुम्हे आईना दिखा देगा
तुम्हारा दिल ही तुम्हे आईना दिखा देगा
VINOD CHAUHAN
तरस रहा हर काश्तकार
तरस रहा हर काश्तकार
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
तू आ पास पहलू में मेरे।
तू आ पास पहलू में मेरे।
Taj Mohammad
Quote Of The Day
Quote Of The Day
Saransh Singh 'Priyam'
■ निष्कर्ष.....
■ निष्कर्ष.....
*Author प्रणय प्रभात*
*** मुफ़लिसी ***
*** मुफ़लिसी ***
Chunnu Lal Gupta
3178.*पूर्णिका*
3178.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मस्ती का त्योहार है,
मस्ती का त्योहार है,
sushil sarna
गोलगप्पा/पानीपूरी
गोलगप्पा/पानीपूरी
लक्ष्मी सिंह
ना मानी हार
ना मानी हार
Dr. Meenakshi Sharma
आसमानों को छूने की जद में निकले
आसमानों को छूने की जद में निकले
कवि दीपक बवेजा
किसी गैर के पल्लू से बंधी चवन्नी को सिक्का समझना मूर्खता होत
किसी गैर के पल्लू से बंधी चवन्नी को सिक्का समझना मूर्खता होत
विमला महरिया मौज
बदल जाएगा तू इस हद तलक़ मैंने न सोचा था
बदल जाएगा तू इस हद तलक़ मैंने न सोचा था
Johnny Ahmed 'क़ैस'
राम नाम की धूम
राम नाम की धूम
surenderpal vaidya
कब तक यही कहे
कब तक यही कहे
मानक लाल मनु
मौत की हक़ीक़त है
मौत की हक़ीक़त है
Dr fauzia Naseem shad
गुरु माया का कमाल
गुरु माया का कमाल
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*भूमिका*
*भूमिका*
Ravi Prakash
वो जो हूबहू मेरा अक्स है
वो जो हूबहू मेरा अक्स है
Shweta Soni
"इंसान"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...