Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Jun 8, 2016 · 1 min read

न हो बेनूर ये कोहनूर बस इतनी कृपा करना

^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^
अधर हैं सूर्य सम तपते , सजन बन मेघ आओ तुम ।

झमाझम झूम कर बरसो , हरित चूनर उढ़ाओ तुम ।

न हो बेनूर ये कोहनूर बस इतनी कृपा करना ,

जले ये मन बदन मेरा , तपन इसकी बुझाओ तुम ।

^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^
वीर पटेल —

2 Comments · 184 Views
You may also like:
यह सिर्फ़ वर्दी नहीं, मेरी वो दौलत है जो मैंने...
Lohit Tamta
ऐ मातृभूमि ! तुम्हें शत-शत नमन
Anamika Singh
पापा करते हो प्यार इतना ।
Buddha Prakash
समय ।
Kanchan sarda Malu
सूरज से मनुहार (ग्रीष्म-गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
सब अपने नसीबों का
Dr fauzia Naseem shad
विश्व फादर्स डे पर शुभकामनाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बुद्ध भगवान की शिक्षाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
रफ्तार
Anamika Singh
"खुद की तलाश"
Ajit Kumar "Karn"
स्वर कटुक हैं / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
* सत्य,"मीठा या कड़वा" *
मनोज कर्ण
बुध्द गीत
Buddha Prakash
शरद ऋतु ( प्रकृति चित्रण)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
#पूज्य पिता जी
आर.एस. 'प्रीतम'
मेरे पिता है प्यारे पिता
Vishnu Prasad 'panchotiya'
सागर ही क्यों
Shivkumar Bilagrami
कुछ नहीं इंसान को
Dr fauzia Naseem shad
हमें अब राम के पदचिन्ह पर चलकर दिखाना है
Dr Archana Gupta
ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
रुक-रुक बरस रहे मतवारे / (सावन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
द माउंट मैन: दशरथ मांझी
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
पिता क्या है?
Varsha Chaurasiya
पिता की छांव
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
पिता
विजय कुमार 'विजय'
माँ तुम अनोखी हो
Anamika Singh
सत्य कभी नही मिटता
Anamika Singh
इस दर्द को यदि भूला दिया, तो शब्द कहाँ से...
Manisha Manjari
दर्द इतने बुरे नहीं होते
Dr fauzia Naseem shad
कोशिशें हों कि भूख मिट जाए ।
Dr fauzia Naseem shad
Loading...