Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Jun 2016 · 1 min read

न हो बेनूर ये कोहनूर बस इतनी कृपा करना

^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^
अधर हैं सूर्य सम तपते , सजन बन मेघ आओ तुम ।

झमाझम झूम कर बरसो , हरित चूनर उढ़ाओ तुम ।

न हो बेनूर ये कोहनूर बस इतनी कृपा करना ,

जले ये मन बदन मेरा , तपन इसकी बुझाओ तुम ।

^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^
वीर पटेल —

Language: Hindi
2 Comments · 350 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"कागज"
Dr. Kishan tandon kranti
जो लिखा नहीं.....लिखने की कोशिश में हूँ...
जो लिखा नहीं.....लिखने की कोशिश में हूँ...
Vishal babu (vishu)
देखिए खूबसूरत हुई भोर है।
देखिए खूबसूरत हुई भोर है।
surenderpal vaidya
नामवर रोज बनते हैं,
नामवर रोज बनते हैं,
Satish Srijan
धूल
धूल
नन्दलाल सुथार "राही"
मेरी हथेली पर, तुम्हारी उंगलियों के दस्तख़त
मेरी हथेली पर, तुम्हारी उंगलियों के दस्तख़त
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
सावन आया
सावन आया
Neeraj Agarwal
जिंदा है धर्म स्त्री से ही
जिंदा है धर्म स्त्री से ही
श्याम सिंह बिष्ट
फितरत कभी नहीं बदलती
फितरत कभी नहीं बदलती
Madhavi Srivastava
तेरी जुल्फों के साये में भी अब राहत नहीं मिलती।
तेरी जुल्फों के साये में भी अब राहत नहीं मिलती।
Phool gufran
छत्तीसगढ़ स्थापना दिवस
छत्तीसगढ़ स्थापना दिवस
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
इंसान और कुता
इंसान और कुता
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
*कूड़ा फेंका गया कार से (बाल कविता)*
*कूड़ा फेंका गया कार से (बाल कविता)*
Ravi Prakash
*अवध  में  प्रभु  राम  पधारें है*
*अवध में प्रभु राम पधारें है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
You are the sanctuary of my soul.
You are the sanctuary of my soul.
Manisha Manjari
ऐ माँ! मेरी मालिक हो तुम।
ऐ माँ! मेरी मालिक हो तुम।
Harminder Kaur
2554.पूर्णिका
2554.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
क्यों छोड़ गए तन्हा
क्यों छोड़ गए तन्हा
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
💐Prodigy Love-34💐
💐Prodigy Love-34💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अब भी दुनिया का सबसे कठिन विषय
अब भी दुनिया का सबसे कठिन विषय "प्रेम" ही है
DEVESH KUMAR PANDEY
सुनो कभी किसी का दिल ना दुखाना
सुनो कभी किसी का दिल ना दुखाना
shabina. Naaz
सितारा कोई
सितारा कोई
shahab uddin shah kannauji
■ आज का चिंतन...
■ आज का चिंतन...
*Author प्रणय प्रभात*
खुशबू बन कर
खुशबू बन कर
Surinder blackpen
शहर कितना भी तरक्की कर ले लेकिन संस्कृति व सभ्यता के मामले म
शहर कितना भी तरक्की कर ले लेकिन संस्कृति व सभ्यता के मामले म
Anand Kumar
हे राम तुम्हारा अभिनंदन।
हे राम तुम्हारा अभिनंदन।
सत्य कुमार प्रेमी
बसंत बहार
बसंत बहार
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
यादों से कह दो न छेड़ें हमें
यादों से कह दो न छेड़ें हमें
sushil sarna
उसको ख़ुद से ही ये गिला होगा ।
उसको ख़ुद से ही ये गिला होगा ।
Neelam Sharma
भोले नाथ तेरी सदा ही जय
भोले नाथ तेरी सदा ही जय
नेताम आर सी
Loading...