Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Jul 2016 · 1 min read

न फैला हाथ तू अपना ज़रा सम्मान पैदा कर

न फैला हाथ तू अपना ज़रा सम्मान पैदा कर
हमेशा सर उठा के जीने का अभिमान पैदा कर

लुटा दे ज़िन्दगी हिंदोस्तानी आन की ख़ातिर
मेरे भाई तू खुद में इक वही इंसान पैदा कर

ये अम्नो-चैन की दौलत जो चाहे बाँटना सबमें
मेरे मौला यहाँ ऐसे भी तू धनवान पैदा कर

कि सब जुल्म ओ सितम के सामने कमज़ोर दिखते हैं
ये ज़ुल्मत खत्म हों कुछ तरह ईमान पैदा कर

तेरे क़दमों में आकर खुद करे सजदा तेरी मंज़िल
तु अपने हौसलों में यार इतनी जान पैदा कर

जहाँ तेरे कदम मेरे कदम का साथ दे पाये
ऐ मेरे हमसफ़र ऐसा कोई सोपान पैदा कर

मिला क्या है अभी तक इस लड़ाई और झगड़े में
मुहब्बत से सजा गुलशन न तू शमशान पैदा कर

सियासत शहंशाह अब तक कई तूने दिए लेकिन
बस अब तू मुल्क में नेता नहीं दरबान पैदा कर

तेरे ही वास्ते ये दौर ये ऊंचाइयां ‘माही’
तु अपने दिल की धरती से नए अरमान पैदा कर ।।

यही इक आख़िरी ख्वाहिश है ‘माही’ की मिरे मौला
जो इसकी शान है सब में वही तू शान पैदा कर

माही

1 Like · 419 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आंखे बाते जुल्फे मुस्कुराहटे एक साथ में ही वार कर रही हो,
आंखे बाते जुल्फे मुस्कुराहटे एक साथ में ही वार कर रही हो,
Vishal babu (vishu)
तुमने मुझे दिमाग़ से समझने की कोशिश की
तुमने मुझे दिमाग़ से समझने की कोशिश की
Rashmi Ranjan
किसी विमर्श के लिए विवादों की जरूरत खाद की तरह है जिनके ज़रि
किसी विमर्श के लिए विवादों की जरूरत खाद की तरह है जिनके ज़रि
Dr MusafiR BaithA
नदी की बूंद
नदी की बूंद
Sanjay ' शून्य'
सर्वनाम के भेद
सर्वनाम के भेद
Neelam Sharma
ये मतलबी ज़माना, इंसानियत का जमाना नहीं,
ये मतलबी ज़माना, इंसानियत का जमाना नहीं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
किरणों का कोई रंग नहीं होता
किरणों का कोई रंग नहीं होता
Atul "Krishn"
दर्द
दर्द
Dr. Seema Varma
हिम्मत कभी न हारिए
हिम्मत कभी न हारिए
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
मैं उसके इंतजार में नहीं रहता हूं
मैं उसके इंतजार में नहीं रहता हूं
कवि दीपक बवेजा
समाप्त वर्ष 2023 मे अगर मैने किसी का मन व्यवहार वाणी से किसी
समाप्त वर्ष 2023 मे अगर मैने किसी का मन व्यवहार वाणी से किसी
Ranjeet kumar patre
दहेज ना लेंगे
दहेज ना लेंगे
भरत कुमार सोलंकी
नई जगह ढूँढ लो
नई जगह ढूँढ लो
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
माँ
माँ
नन्दलाल सुथार "राही"
23/159.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/159.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मतदान
मतदान
Anil chobisa
हम सब में एक बात है
हम सब में एक बात है
Yash mehra
हिंदीग़ज़ल में होता है ऐसा ! +रमेशराज
हिंदीग़ज़ल में होता है ऐसा ! +रमेशराज
कवि रमेशराज
दोहा छन्द
दोहा छन्द
नाथ सोनांचली
सारे एहसास के
सारे एहसास के
Dr fauzia Naseem shad
*पद्म विभूषण स्वर्गीय गुलाम मुस्तफा खान साहब से दो मुलाकातें*
*पद्म विभूषण स्वर्गीय गुलाम मुस्तफा खान साहब से दो मुलाकातें*
Ravi Prakash
तुम पर क्या लिखूँ ...
तुम पर क्या लिखूँ ...
Harminder Kaur
🙏 * गुरु चरणों की धूल*🙏
🙏 * गुरु चरणों की धूल*🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
वर्षा के दिन आए
वर्षा के दिन आए
Dr. Pradeep Kumar Sharma
दुनिया एक मेला है
दुनिया एक मेला है
VINOD CHAUHAN
कैसे रखें हम कदम,आपकी महफ़िल में
कैसे रखें हम कदम,आपकी महफ़िल में
gurudeenverma198
जुनून
जुनून
अखिलेश 'अखिल'
🙅किस्सा कुर्सी का🙅
🙅किस्सा कुर्सी का🙅
*Author प्रणय प्रभात*
छंद
छंद
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
साहस है तो !
साहस है तो !
Ramswaroop Dinkar
Loading...