Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Oct 2023 · 1 min read

न जमीन रखता हूँ न आसमान रखता हूँ

न जमीन रखता हूँ न आसमान रखता हूँ
अगर कुछ रखता हूँ –2
तो अलग पहचान रखता हूँ

लोग समझते हैं मैं बदनसीब हूँ बड़ा
वो क्या जानें हुजूर मुझको–2
मैं जिंदगी की जरूरत तमाम रखता हूँ
न जमीन रखता हूँ न आसमान रखता हूँ

न जरूरत है मुझे झूठे खजानों की
नहीं ऐसी दौलत चाहिए –2
मैं सच्चाई और स्वाभिमान रखता हूँ
न जमीन रखता हूँ न आसमान रखता हूँ

कोई प्यार कोई इश्क कोई मोहब्बत
रखता है धड़कते दिल में–2
मैं फौलादी सीने में हिन्दुस्तान रखता हूँ
न जमीन रखता हूँ न आसमान रखता हूँ

‘V9द’ कौन हिंदू कौन मुस्लिम, सिक्ख,
और कहो ईसाई है कौन–2
मैं इंसान हूँ इंसानियत ईमान रखता हूँ
न जमीन रखता हूँ न आसमान रखता हूँ

स्वरचित
( V9द चौहान )

2 Likes · 226 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from VINOD CHAUHAN
View all
You may also like:
ग़ज़ल - फितरतों का ढेर
ग़ज़ल - फितरतों का ढेर
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
जीवन में शॉर्ट कट 2 मिनट मैगी के जैसे होते हैं जो सिर्फ दो म
जीवन में शॉर्ट कट 2 मिनट मैगी के जैसे होते हैं जो सिर्फ दो म
Neelam Sharma
15, दुनिया
15, दुनिया
Dr Shweta sood
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
गणेश चतुर्थी
गणेश चतुर्थी
Surinder blackpen
कहां गए (कविता)
कहां गए (कविता)
Akshay patel
हाइकु (#मैथिली_भाषा)
हाइकु (#मैथिली_भाषा)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
💤 ये दोहरा सा किरदार 💤
💤 ये दोहरा सा किरदार 💤
Dr Manju Saini
Success rule
Success rule
Naresh Kumar Jangir
उपहास
उपहास
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
"प्यासा"प्यासा ही चला, मिटा न मन का प्यास ।
Vijay kumar Pandey
ज़िन्दगी में अगर ऑंख बंद कर किसी पर विश्वास कर लेते हैं तो
ज़िन्दगी में अगर ऑंख बंद कर किसी पर विश्वास कर लेते हैं तो
Paras Nath Jha
यक़ीनन एक ना इक दिन सभी सच बात बोलेंगे
यक़ीनन एक ना इक दिन सभी सच बात बोलेंगे
Sarfaraz Ahmed Aasee
संबंधो में अपनापन हो
संबंधो में अपनापन हो
संजय कुमार संजू
*चाँद को भी क़बूल है*
*चाँद को भी क़बूल है*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
!! कुद़रत का संसार !!
!! कुद़रत का संसार !!
Chunnu Lal Gupta
मित्र, चित्र और चरित्र बड़े मुश्किल से बनते हैं। इसे सँभाल क
मित्र, चित्र और चरित्र बड़े मुश्किल से बनते हैं। इसे सँभाल क
Anand Kumar
हम ख़फ़ा हो
हम ख़फ़ा हो
Dr fauzia Naseem shad
"What comes easy won't last,
पूर्वार्थ
एकांत
एकांत
Monika Verma
2896.*पूर्णिका*
2896.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
रंगों का त्यौहार है, उड़ने लगा अबीर
रंगों का त्यौहार है, उड़ने लगा अबीर
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आदि ब्रह्म है राम
आदि ब्रह्म है राम
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
फितरत
फितरत
Ravi Prakash
सुध जरा इनकी भी ले लो ?
सुध जरा इनकी भी ले लो ?
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
न दिया धोखा न किया कपट,
न दिया धोखा न किया कपट,
Satish Srijan
"आसानी से"
Dr. Kishan tandon kranti
वो रास्ता तलाश रहा हूं
वो रास्ता तलाश रहा हूं
Vikram soni
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Neeraj Agarwal
जब दिल ही उससे जा लगा..!
जब दिल ही उससे जा लगा..!
SPK Sachin Lodhi
Loading...