Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Feb 2023 · 1 min read

नौनी लगै घमौरी रे ! (बुंदेली गीत)

जूड़ी-जूड़ी
बैहर चल रई
नौनी लगै घमौरी रे !

उठत भुंसराँ
कुहला पर रव,
सूरज दुफरै लौ जूड़े ।
धौर कें बाहर
धौर कें भीतर
हो रय बारे औ’ बूड़े ।

खाँसी चल रई
छींकें आ रईं
बँद-बँद जात दतौरी रे !

पतरी बुसकट
पैर भगुनियाँ
टिटकारत जावै ढुरवा ।
जाड़े में पथरा-
से हो गय
बिना पनैंओं के फरवा ।

गेरत जा रव
टलवा,नटवा
गैंएँ कल्लू, धौरी रे !

जरसी पैरें
छैल-छबीले
मोंड़ीं-मौड़ा बनयानें ।
काँछ लगी
धुतिया में बऊएँ
झारें घर,अँगना,सारें ।

मजबूरी में
कर रईं कर्री
गोरी काया कौंरी रे !

जूड़ी-जूड़ी
बैहर चल रई
नौनी लगै घमौरी रे !
०००
— ईश्वर दयाल गोस्वामी

Language: Hindi
Tag: गीत
7 Likes · 8 Comments · 433 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*शाकाहारी भोज, रोज सब सज्जन खाओ (कुंडलिया)*
*शाकाहारी भोज, रोज सब सज्जन खाओ (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
मेरी धड़कनों में
मेरी धड़कनों में
हिमांशु Kulshrestha
हम कहाँ से कहाँ आ गए हैं। पहले के समय में आयु में बड़ों का स
हम कहाँ से कहाँ आ गए हैं। पहले के समय में आयु में बड़ों का स
ख़ान इशरत परवेज़
कविता
कविता
Rambali Mishra
सूर्य देव की अरुणिम आभा से दिव्य आलोकित है!
सूर्य देव की अरुणिम आभा से दिव्य आलोकित है!
Bodhisatva kastooriya
हर एक मंजिल का अपना कहर निकला
हर एक मंजिल का अपना कहर निकला
कवि दीपक बवेजा
हर चढ़ते सूरज की शाम है,
हर चढ़ते सूरज की शाम है,
Lakhan Yadav
3664.💐 *पूर्णिका* 💐
3664.💐 *पूर्णिका* 💐
Dr.Khedu Bharti
चिकने घड़े
चिकने घड़े
ओनिका सेतिया 'अनु '
Be beautiful 😊
Be beautiful 😊
Rituraj shivem verma
दोहा सप्तक. . . . . दौलत
दोहा सप्तक. . . . . दौलत
sushil sarna
"भेद-अभेद"
Dr. Kishan tandon kranti
मैं आखिर उदास क्यों होउँ
मैं आखिर उदास क्यों होउँ
DrLakshman Jha Parimal
Gazal
Gazal
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
गुहार
गुहार
Sonam Puneet Dubey
शुभकामना संदेश.....
शुभकामना संदेश.....
Awadhesh Kumar Singh
आइसक्रीम के बहाने
आइसक्रीम के बहाने
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जिंदगी की उड़ान
जिंदगी की उड़ान
Kanchan verma
#सामयिक_कविता:-
#सामयिक_कविता:-
*प्रणय प्रभात*
कोई आदत नहीं
कोई आदत नहीं
Dr fauzia Naseem shad
प्रेम छिपाये ना छिपे
प्रेम छिपाये ना छिपे
शेखर सिंह
वो कहते हैं कहाँ रहोगे
वो कहते हैं कहाँ रहोगे
VINOD CHAUHAN
हर दफ़ा जब बात रिश्तों की आती है तो इतना समझ आ जाता है की ये
हर दफ़ा जब बात रिश्तों की आती है तो इतना समझ आ जाता है की ये
पूर्वार्थ
मैं अक्सर तन्हाई में......बेवफा उसे कह देता हूँ
मैं अक्सर तन्हाई में......बेवफा उसे कह देता हूँ
सिद्धार्थ गोरखपुरी
शाकाहारी बने
शाकाहारी बने
Sanjay ' शून्य'
ले आए तुम प्रेम प्रस्ताव,
ले आए तुम प्रेम प्रस्ताव,
Bindesh kumar jha
भरोसा खुद पर
भरोसा खुद पर
Mukesh Kumar Sonkar
हर क्षण  आनंद की परम अनुभूतियों से गुजर रहा हूँ।
हर क्षण आनंद की परम अनुभूतियों से गुजर रहा हूँ।
Ramnath Sahu
नयकी दुलहिन
नयकी दुलहिन
आनन्द मिश्र
बाज़ार में क्लीवेज : क्लीवेज का बाज़ार / MUSAFIR BAITHA
बाज़ार में क्लीवेज : क्लीवेज का बाज़ार / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
Loading...