Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Aug 2023 · 1 min read

नैतिकता की नींव पर प्रारंभ किये गये किसी भी व्यवसाय की सफलता

नैतिकता की नींव पर प्रारंभ किये गये किसी भी व्यवसाय की सफलता में स्थायित्व की संभावना अधिक होती है।

Paras Nath Jha

304 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Paras Nath Jha
View all
You may also like:
खोटा सिक्का
खोटा सिक्का
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मौन में भी शोर है।
मौन में भी शोर है।
लक्ष्मी सिंह
¡¡¡●टीस●¡¡¡
¡¡¡●टीस●¡¡¡
Dr Manju Saini
💐प्रेम कौतुक-229💐
💐प्रेम कौतुक-229💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जीवन की इतने युद्ध लड़े
जीवन की इतने युद्ध लड़े
ruby kumari
मुझ पर तुम्हारे इश्क का साया नहीं होता।
मुझ पर तुम्हारे इश्क का साया नहीं होता।
सत्य कुमार प्रेमी
रंजीत कुमार शुक्ल
रंजीत कुमार शुक्ल
Ranjeet Kumar Shukla
छोड़ी घर की देहरी ,छोड़ा घर का द्वार (कुंडलिया)
छोड़ी घर की देहरी ,छोड़ा घर का द्वार (कुंडलिया)
Ravi Prakash
2652.पूर्णिका
2652.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
माँ लक्ष्मी
माँ लक्ष्मी
Bodhisatva kastooriya
और क्या ज़िंदगी का हासिल है
और क्या ज़िंदगी का हासिल है
Shweta Soni
अब तो उठ जाओ, जगाने वाले आए हैं।
अब तो उठ जाओ, जगाने वाले आए हैं।
नेताम आर सी
हकीकत
हकीकत
अखिलेश 'अखिल'
"शब्दकोश में शब्द नहीं हैं, इसका वर्णन रहने दो"
Kumar Akhilesh
■ हार के ठेकेदार।।
■ हार के ठेकेदार।।
*Author प्रणय प्रभात*
इस नदी की जवानी गिरवी है
इस नदी की जवानी गिरवी है
Sandeep Thakur
मुझमें एक जन सेवक है,
मुझमें एक जन सेवक है,
Punam Pande
जी रहे हैं सब इस शहर में बेज़ार से
जी रहे हैं सब इस शहर में बेज़ार से
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
भैया  के माथे तिलक लगाने बहना आई दूर से
भैया के माथे तिलक लगाने बहना आई दूर से
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
Khud ke khalish ko bharne ka
Khud ke khalish ko bharne ka
Sakshi Tripathi
मुकद्दर से ज्यादा
मुकद्दर से ज्यादा
rajesh Purohit
खूब ठहाके लगा के बन्दे
खूब ठहाके लगा के बन्दे
Akash Yadav
खुश वही है जिंदगी में जिसे सही जीवन साथी मिला है क्योंकि हर
खुश वही है जिंदगी में जिसे सही जीवन साथी मिला है क्योंकि हर
Ranjeet kumar patre
मैं तुम और हम
मैं तुम और हम
Ashwani Kumar Jaiswal
*ताना कंटक सा लगता है*
*ताना कंटक सा लगता है*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*इस बरस*
*इस बरस*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हाथ की उंगली😭
हाथ की उंगली😭
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
दीवारें खड़ी करना तो इस जहां में आसान है
दीवारें खड़ी करना तो इस जहां में आसान है
Charu Mitra
"नजरिया"
Dr. Kishan tandon kranti
सुप्रभात
सुप्रभात
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
Loading...