Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Feb 2024 · 2 min read

नेता के बोल

(वोट के पहले)

वोट माँगने आए हैं , जोड़ कर दोनों हाथ
बोले कभी ना छोड़ेंगे, हम जनता का साथ

इस जनता का साथ, कभी जो हमने छोड़ा
उम्मीदों का तार, जैसे हो हम ही ने तोडा

भूखा होगा कोई ना, ना सोएगा खाली पेट
हर कोई शिक्षा पाएगा, विद्यालय में बैठ

जहां खड़े हैं आज हम, यहीं पर एक नल होगा
बहेगी मोटी धार उससे, कि मीठा उसका जल होगा

यहाँ के हर गली में, सड़के पूरी पक्की होंगीं
देते हैं ये ज़बान हम, यहाँ बड़ी तरक्की होगी

सूरज ढलने पर भी, रातें ना काली होंगीं
अब हर घर-घर में, बल्ब की लाली होगी

हर मजदुर के घर में, गैस का चूल्हा होगा
घर होगा पूरा स्वच्छ, कहीं ना धुला होगा

यहां नो कोई नीचा, ना कोई ऊँचा होगा
न्याय सभी के साथ, बिल्कुल समूचा होगा

न्याय समूचा होगा, जब हम कुर्सी पर होंगे
बिन कुर्सी के कहो, हम, न्याय कहाँ से देंगे?

एक बार जो आपसे जुड़े हमारा हाथ
अगले पांच साल तक छोड़ेंगे ना साथ

हमें पता है वोट, आप हमको को ही देंगे
आपके हर संकट को, शपथ है हम हर लेंगे

अब चलते है हम, कई जगह है जाना
अपना ये उद्देश्य, सभी को है समझाना

(वोट के बाद)
नेता बोले क्रोध से, करके टेढ़ी नाक
घर के अंदर कैसे घुसे, कहाँ से आये आप?

कहाँ से आए आप, बात क्या है बतलाओ?
बिना काम के तुम, सर मेरा मत खाओ

घर पर मेरे भोज है, काम पड़े है अनेक
तु भूखा है तो क्या करूँ, तू मेरी थाल ना देख

लिख पढ़ के क्या पाएगा, तेरा बच्चा आज?
आज करेगा चाकरी तो, कल कर लेगा राज

नल नहीं तो क्या हुआ, नहीं मेरा कोई दोष
मैं कोई कामगार नहीं, कर ले थोड़ा होश

कच्ची पक्की सड़को का, हमें नहीं कुछ खेद
तूने हमसे पुछा कैसे, क्या है इसमें भेद?

बिजली लाने की कब, हमने कही थी बात
दिया जलाए देख लो, बीत जाएगी रात

लकड़ी के चूल्हे से देखो, मरते किट पतंग
गैस के खर्च से तुम्हारी, जेब हो जाएगी तंग

ना भूल अपनी औकात, के तू है नीचा प्राणी
चमड़ी खींच लेंगे तेरी, भौंह जो तूने तानी

कुर्सी पर हम बैठे गए,बन गए माला माल
आएँगे फिर पूछने, चुनाव में तेरा हाल

आम जनता बने रहो, लेना न कुछ सीख
झोली फैलाए फिर आएँगे, देना वोटों की भीख

61 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
2822. *पूर्णिका*
2822. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
चूरचूर क्यों ना कर चुकी हो दुनिया,आज तूं ख़ुद से वादा कर ले
चूरचूर क्यों ना कर चुकी हो दुनिया,आज तूं ख़ुद से वादा कर ले
Nilesh Premyogi
मर्दुम-बेज़ारी
मर्दुम-बेज़ारी
Shyam Sundar Subramanian
भाव और ऊर्जा
भाव और ऊर्जा
कवि रमेशराज
*रिश्ते*
*रिश्ते*
Dushyant Kumar
इश्क़ में जूतियों का भी रहता है डर
इश्क़ में जूतियों का भी रहता है डर
आकाश महेशपुरी
फागुन
फागुन
Punam Pande
मानव-जीवन से जुड़ा, कृत कर्मों का चक्र।
मानव-जीवन से जुड़ा, कृत कर्मों का चक्र।
डॉ.सीमा अग्रवाल
मृत्यु शैय्या
मृत्यु शैय्या
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
खुदा रखे हमें चश्मे-बद से सदा दूर...
खुदा रखे हमें चश्मे-बद से सदा दूर...
shabina. Naaz
मोबाइल
मोबाइल
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
तुम मुझे यूँ ही याद रखना
तुम मुझे यूँ ही याद रखना
Bhupendra Rawat
समुद्र इसलिए खारा क्योंकि वो हमेशा लहराता रहता है यदि वह शां
समुद्र इसलिए खारा क्योंकि वो हमेशा लहराता रहता है यदि वह शां
Rj Anand Prajapati
पधारो मेरे प्रदेश तुम, मेरे राजस्थान में
पधारो मेरे प्रदेश तुम, मेरे राजस्थान में
gurudeenverma198
हुस्न और खूबसूरती से भरे हुए बाजार मिलेंगे
हुस्न और खूबसूरती से भरे हुए बाजार मिलेंगे
शेखर सिंह
माता शबरी
माता शबरी
SHAILESH MOHAN
जख्म हरे सब हो गए,
जख्म हरे सब हो गए,
sushil sarna
💐प्रेम कौतुक-339💐
💐प्रेम कौतुक-339💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
युगांतर
युगांतर
Suryakant Dwivedi
#अजब_गज़ब
#अजब_गज़ब
*Author प्रणय प्रभात*
मुक्तक
मुक्तक
जगदीश शर्मा सहज
मूकनायक
मूकनायक
मनोज कर्ण
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-152से चुने हुए श्रेष्ठ दोहे
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-152से चुने हुए श्रेष्ठ दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
शहज़ादी
शहज़ादी
Satish Srijan
चिल्हर
चिल्हर
Dr. Pradeep Kumar Sharma
क्या क्या बताए कितने सितम किए तुमने
क्या क्या बताए कितने सितम किए तुमने
Kumar lalit
बचपन याद बहुत आता है
बचपन याद बहुत आता है
VINOD CHAUHAN
काश कभी ऐसा हो पाता
काश कभी ऐसा हो पाता
Rajeev Dutta
ख़ुदी के लिए
ख़ुदी के लिए
Dr fauzia Naseem shad
राजस्थानी भाषा में
राजस्थानी भाषा में
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
Loading...