Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jun 2023 · 2 min read

नेताजी (कविता)

मंच पर कोई नेता…
फिर उसके भाषण…
भाषण में कुछ ज़ायकेदार, लच्छेदार बातें
कुछ चुटकुले, कुछ गम्भीर बातें…
अपने बलिदानों के किस्से फिर,
अचानक…अचानक से
उसकी आंखें भर आना…
फिर अपने गमछे से या रुमाल से अपनी आँखें पोंछना।
फिर एक कार्यकर्ता द्वारा उसे पानी के गिलास की पेशकश
वो उसका एक घूंट में पानी पी जाना…
फिर सजल नेत्रों से तुम्हारी तरफ़, भीड़ की तरफ़ देखना
और रुंधे गले से फिर से भाषण शुरू
उसके साथ तुम में से भी लोग आंखों से सजल हो जाते हो
फिर घोषणाओं की बारी….
और हर घोषणा पर तुम्हारी ताली…
फिर अगले चुनाव का ज़िक्र
हाथ जोड़े वो माँगता है तुमसे मदद
और फिर तुम्हारा उसके नाम के साथ ज़िंदाबाद के नारे लगाना
तुम्हारी तालियां, तुम्हारे नारे, तुम्हारा ज़िंदाबाद कहना
सब कुछ पहुंच रहा है उस तक…
बस केवल तुम्हारी एक चीज़ नहीं पहुंचती उस तक…
और वो है…
तुम्हारे…उस भीड़ के ख़ुश चेहरों के अंदर छुपा दर्द।
तुम्हारी आहें, परेशानियां,तुम्हारी नाली, तुम्हारी सड़क
तुम्हारी बीमारियां, तुम्हारी आम समस्याएं
वो तुम्हारी तालियां, तारीफ़ें, नारे ले जाता है
और तुम घर साथ ले जाते हो उसकी घोषणाएं
वो घोषणाएं जो शायद ही धरातल पर उतरें।

एक बात और….
वो जो मंच पे जो कार्यकर्ता था ना?
जो नेता जी के भावुक होने पर उसे पानी पिला रहा था।
वो 20 साल पहले भी कार्यकर्ता था, और आज भी कार्यकर्ता है।
ये नेताजी 20 साल पहले कार्यकर्ता थे
आज राज्य सरकार में मंत्री हैं।
सुनो पदोन्नति के लिए भी
बहुत पापड़ बेलने पड़ते हैं।

Artist Sudhir Singh- सुधीरा की कलम ✍️ से…

316 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जरूरी नहीं ऐसा ही हो तब
जरूरी नहीं ऐसा ही हो तब
gurudeenverma198
काली मां
काली मां
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
अयोध्या धाम तुम्हारा तुमको पुकारे
अयोध्या धाम तुम्हारा तुमको पुकारे
Harminder Kaur
मैं तो महज इंसान हूँ
मैं तो महज इंसान हूँ
VINOD CHAUHAN
धुप मे चलने और जलने का मज़ाक की कुछ अलग है क्योंकि छाव देखते
धुप मे चलने और जलने का मज़ाक की कुछ अलग है क्योंकि छाव देखते
Ranjeet kumar patre
'मन चंगा तो कठौती में गंगा' कहावत के बर्थ–रूट की एक पड़ताल / DR MUSAFIR BAITHA
'मन चंगा तो कठौती में गंगा' कहावत के बर्थ–रूट की एक पड़ताल / DR MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
सच कहना जूठ कहने से थोड़ा मुश्किल होता है, क्योंकि इसे कहने म
सच कहना जूठ कहने से थोड़ा मुश्किल होता है, क्योंकि इसे कहने म
ruby kumari
*कवि बनूँ या रहूँ गवैया*
*कवि बनूँ या रहूँ गवैया*
Mukta Rashmi
मातृत्व
मातृत्व
साहित्य गौरव
बिन मौसम बरसात
बिन मौसम बरसात
लक्ष्मी सिंह
मन मूरख बहुत सतावै
मन मूरख बहुत सतावै
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सब खो गए इधर-उधर अपनी तलाश में
सब खो गए इधर-उधर अपनी तलाश में
Shweta Soni
"ख्वाब"
Dr. Kishan tandon kranti
"अमर रहे गणतंत्र" (26 जनवरी 2024 पर विशेष)
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
तेरी याद आती है
तेरी याद आती है
Akash Yadav
मोहब्बत
मोहब्बत
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
संविधान का पालन
संविधान का पालन
विजय कुमार अग्रवाल
गंदा धंधा
गंदा धंधा
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मुकाम
मुकाम
Swami Ganganiya
असतो मा सद्गमय
असतो मा सद्गमय
Kanchan Khanna
श्याम सुंदर तेरी इन आंखों की हैं अदाएं क्या।
श्याम सुंदर तेरी इन आंखों की हैं अदाएं क्या।
umesh mehra
Badalo ki chirti hui meri khahish
Badalo ki chirti hui meri khahish
Sakshi Tripathi
आधुनिक समय में धर्म के आधार लेकर
आधुनिक समय में धर्म के आधार लेकर
पूर्वार्थ
*रोना-धोना छोड़ कर, मुस्काओ हर रोज (कुंडलिया)*
*रोना-धोना छोड़ कर, मुस्काओ हर रोज (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
प्रजातन्त्र आडंबर से नहीं चलता है !
प्रजातन्त्र आडंबर से नहीं चलता है !
DrLakshman Jha Parimal
बिना अश्क रोने की होती नहीं खबर
बिना अश्क रोने की होती नहीं खबर
sushil sarna
3461🌷 *पूर्णिका* 🌷
3461🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
*** आकांक्षा : आसमान की उड़ान..! ***
*** आकांक्षा : आसमान की उड़ान..! ***
VEDANTA PATEL
आशार
आशार
Bodhisatva kastooriya
रमेशराज की ‘ गोदान ‘ के पात्रों विषयक मुक्तछंद कविताएँ
रमेशराज की ‘ गोदान ‘ के पात्रों विषयक मुक्तछंद कविताएँ
कवि रमेशराज
Loading...