Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Jan 2023 · 1 min read

भोली बाला

भोली बाला

भोली बाला ले चली, कर पूजा का थाल।
सुंदर श्यामल तन लिये, नागिन जैसे बाल ।
नागिन जैसे बाल, कोकिला जैसी बोली।
प्रिये ,दन्तिका धवल,नासिका है हमजोली।
कहें प्रेम कविराय,बिहँस कर मारे गोली।
अधर रचाकर लाल,लाज से सिमटे भोली।
डा.प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम

169 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
View all
You may also like:
बच्चे
बच्चे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
शेष न बचा
शेष न बचा
Er. Sanjay Shrivastava
!! उमंग !!
!! उमंग !!
Akash Yadav
*** मां की यादें ***
*** मां की यादें ***
Chunnu Lal Gupta
दिलों का हाल तु खूब समझता है
दिलों का हाल तु खूब समझता है
नूरफातिमा खातून नूरी
"इस रोड के जैसे ही _
Rajesh vyas
😊■रोज़गार■😊
😊■रोज़गार■😊
*Author प्रणय प्रभात*
🙏 गुरु चरणों की धूल 🙏
🙏 गुरु चरणों की धूल 🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
लाख़ ज़ख्म हो दिल में,
लाख़ ज़ख्म हो दिल में,
पूर्वार्थ
राजनीति के क़ायदे,
राजनीति के क़ायदे,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
तू है तसुव्वर में तो ए खुदा !
तू है तसुव्वर में तो ए खुदा !
ओनिका सेतिया 'अनु '
*अभिनंदन हे तर्जनी, तुम पॉंचों में खास (कुंडलिया)*
*अभिनंदन हे तर्जनी, तुम पॉंचों में खास (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
आदर्श शिक्षक
आदर्श शिक्षक
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
" आज भी है "
Aarti sirsat
अगर आप सही हैं तो खुद को साबित करने के लिए ताकत क्यों लगानी
अगर आप सही हैं तो खुद को साबित करने के लिए ताकत क्यों लगानी
Seema Verma
महिलाएं अक्सर हर पल अपने सौंदर्यता ,कपड़े एवम् अपने द्वारा क
महिलाएं अक्सर हर पल अपने सौंदर्यता ,कपड़े एवम् अपने द्वारा क
Rj Anand Prajapati
बदला लेने से बेहतर है
बदला लेने से बेहतर है
शेखर सिंह
इसका क्या सबूत है, तू साथ सदा मेरा देगी
इसका क्या सबूत है, तू साथ सदा मेरा देगी
gurudeenverma198
3225.*पूर्णिका*
3225.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आना ओ नोनी के दाई
आना ओ नोनी के दाई
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
हम भारत के लोग उड़ाते
हम भारत के लोग उड़ाते
Satish Srijan
Love
Love
Abhijeet kumar mandal (saifganj)
यूँ  भी  हल्के  हों  मियाँ बोझ हमारे  दिल के
यूँ भी हल्के हों मियाँ बोझ हमारे दिल के
Sarfaraz Ahmed Aasee
आज़ाद भारत एक ऐसा जुमला है
आज़ाद भारत एक ऐसा जुमला है
SURYA PRAKASH SHARMA
पर्वतों से भी ऊॅ॑चा,बुलंद इरादा रखता हूॅ॑ मैं
पर्वतों से भी ऊॅ॑चा,बुलंद इरादा रखता हूॅ॑ मैं
VINOD CHAUHAN
R J Meditation Centre, Darbhanga
R J Meditation Centre, Darbhanga
Ravikesh Jha
मोदी जी
मोदी जी
Shivkumar Bilagrami
"कभी-कभी"
Dr. Kishan tandon kranti
गीतिका-
गीतिका-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
1-कैसे विष मज़हब का फैला, मानवता का ह्रास हुआ
1-कैसे विष मज़हब का फैला, मानवता का ह्रास हुआ
Ajay Kumar Vimal
Loading...