Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jul 2016 · 1 min read

*नील गगन*

नील गगन में
चमके तारा
लगता है वो
बड़ा ही प्यारा

रंग धवल सा
निखरा निखरा
झलके हरदम
हसीं नजारा

नील गगन में
चमके तारा
हरि भजन का
करे इशारा

नील गगन में
चमके तारा….
धर्मेन्द्र अरोड़ा

Language: Hindi
1 Comment · 486 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
नारी वेदना के स्वर
नारी वेदना के स्वर
Shyam Sundar Subramanian
वतन के लिए
वतन के लिए
नूरफातिमा खातून नूरी
■ #मुक्तक
■ #मुक्तक
*Author प्रणय प्रभात*
खुद की तलाश
खुद की तलाश
Madhavi Srivastava
भाई घर की शान है, बहनों का अभिमान।
भाई घर की शान है, बहनों का अभिमान।
डॉ.सीमा अग्रवाल
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
प्रकृति के स्वरूप
प्रकृति के स्वरूप
डॉ० रोहित कौशिक
*रंगीला रे रंगीला (Song)*
*रंगीला रे रंगीला (Song)*
Dushyant Kumar
रात के अंँधेरे का सौंदर्य वही बता सकता है जिसमें बहुत सी रात
रात के अंँधेरे का सौंदर्य वही बता सकता है जिसमें बहुत सी रात
Neerja Sharma
फैलाकर खुशबू दुनिया से जाने के लिए
फैलाकर खुशबू दुनिया से जाने के लिए
कवि दीपक बवेजा
रंजीत शुक्ल
रंजीत शुक्ल
Ranjeet Kumar Shukla
मोबाइल फोन
मोबाइल फोन
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
" प्रार्थना "
Chunnu Lal Gupta
किसान
किसान
Dp Gangwar
करवाचौथ
करवाचौथ
Surinder blackpen
💐Prodigy Love-7💐
💐Prodigy Love-7💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
काश कही ऐसा होता
काश कही ऐसा होता
Swami Ganganiya
नेता पक रहा है
नेता पक रहा है
Sanjay ' शून्य'
(साक्षात्कार) प्रमुख तेवरीकार रमेशराज से प्रसिद्ध ग़ज़लकार मधुर नज़्मी की अनौपचारिक बातचीत
(साक्षात्कार) प्रमुख तेवरीकार रमेशराज से प्रसिद्ध ग़ज़लकार मधुर नज़्मी की अनौपचारिक बातचीत
कवि रमेशराज
ख़ाइफ़ है क्यों फ़स्ले बहारांँ, मैं भी सोचूँ तू भी सोच
ख़ाइफ़ है क्यों फ़स्ले बहारांँ, मैं भी सोचूँ तू भी सोच
Sarfaraz Ahmed Aasee
आपको देखते ही मेरे निगाहें आप पर आके थम जाते हैं
आपको देखते ही मेरे निगाहें आप पर आके थम जाते हैं
Sukoon
सागर की ओर
सागर की ओर
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
आकाश दीप - (6 of 25 )
आकाश दीप - (6 of 25 )
Kshma Urmila
मेरी हर कविता में सिर्फ तुम्हरा ही जिक्र है,
मेरी हर कविता में सिर्फ तुम्हरा ही जिक्र है,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
आशिकी
आशिकी
साहिल
बहुमत
बहुमत
मनोज कर्ण
दे दो, दे दो,हमको पुरानी पेंशन
दे दो, दे दो,हमको पुरानी पेंशन
gurudeenverma198
3027.*पूर्णिका*
3027.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ज़िंदगी मौत पर
ज़िंदगी मौत पर
Dr fauzia Naseem shad
कृष्ण सुदामा मित्रता,
कृष्ण सुदामा मित्रता,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...