Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jul 2016 · 1 min read

*नील गगन*

नील गगन में
चमके तारा
लगता है वो
बड़ा ही प्यारा

रंग धवल सा
निखरा निखरा
झलके हरदम
हसीं नजारा

नील गगन में
चमके तारा
हरि भजन का
करे इशारा

नील गगन में
चमके तारा….
*धर्मेन्द्र अरोड़ा*

Language: Hindi
Tag: कविता
1 Comment · 337 Views
You may also like:
माँ बाप का बटवारा
Ram Krishan Rastogi
वरिष्ठ गीतकार स्व.शिवकुमार अर्चन को समर्पित श्रद्धांजलि नवगीत
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मैं बेचैन हो जाऊं
Dr fauzia Naseem shad
✍️वो इंसा ही क्या ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
मिलेंगे लोग कुछ ऐसे गले हॅंसकर लगाते हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
कुछ तो है
मानक लाल"मनु"
गीत//तुमने मिलना देखा, हमने मिलकर फिर खो जाना देखा।
Shiva Awasthi
*षड्यंत्र (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
🚩अमर काव्य हर हृदय को, दे सद्ज्ञान-प्रकाश
Pt. Brajesh Kumar Nayak
जी उठती हूं...तड़प उठती हूं...
Seema 'Tu hai na'
भूख
Varun Singh Gautam
स्वतंत्रता दिवस
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
✍️प्रकृति के नियम✍️
'अशांत' शेखर
"अद्भुत हिंदुस्तान"
Dr Meenu Poonia
ईश्वर के रूप 'पिता'
Gouri tiwari
मोटर गाड़ी खिलौना
Buddha Prakash
आतुरता
अंजनीत निज्जर
भ्राजक
DR ARUN KUMAR SHASTRI
वह मुझे याद आती रही रात भर।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
आज असंवेदनाओं का संसार देखा।
Manisha Manjari
जिंदगी तो धोखा है।
Taj Mohammad
ये चिड़िया
Anamika Singh
कुछ ना रहा
Nitu Sah
क्या बताये वो पहली नजर का इश्क
N.ksahu0007@writer
लेखनी
Rashmi Sanjay
तुम जो हो
Shekhar Chandra Mitra
इन्द्रवज्रा छंद (शिवेंद्रवज्रा स्तुति)
बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
वर्तमान से वक्त बचा लो तुम निज के निर्माण में...
AJAY AMITABH SUMAN
फौजी ज़िन्दगी
Lohit Tamta
-जीवनसाथी -
bharat gehlot
Loading...