Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Feb 2024 · 1 min read

नींद आती है सोने दो

नींद आती है सोने दो
जगाते स्वप्न बेचैनी से
भूला के इन सारे क्षणों को
चैन के साये में खोने दो।

इक नया कल फिर से आएगा
नई चुनौतियाँ, उम्मीद लिये
कर्तव्यपथ पर मुझको चलना
आशा,विश्वास भीतर भरना

ऊर्जा फिर नई भर जाएगी
चमत्कार वो दिखलाएगी
बोझिल होती साँसे कभी
अनचाहे दर्द,थकन से यूँ

विस्मृत कर व्रण अब सारे
नव उत्साह संग चलना होगा
बोझिल सी श्वासों में फिर से
स्फूर्ति को यूँ भरना होगा

चलते हुये कभी थमना भी
अनूठे पल में सँवरना है
मद्धम निशि यूँ बीत जायेगी
नव्य भोर,इक आस लायेगी।।

✍️”कविता चौहान”
स्वरचित एवं मौलिक

45 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मंजिल की अब दूरी नही
मंजिल की अब दूरी नही
देवराज यादव
चैन क्यों हो क़रार आने तक
चैन क्यों हो क़रार आने तक
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
शर्म शर्म आती है मुझे ,
शर्म शर्म आती है मुझे ,
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
💐प्रेम कौतुक-543💐
💐प्रेम कौतुक-543💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
शेर
शेर
Monika Verma
******आधे - अधूरे ख्वाब*****
******आधे - अधूरे ख्वाब*****
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
#ग़ज़ल
#ग़ज़ल
आर.एस. 'प्रीतम'
रुक्मिणी संदेश
रुक्मिणी संदेश
Rekha Drolia
चाँद पर रखकर कदम ये यान भी इतराया है
चाँद पर रखकर कदम ये यान भी इतराया है
Dr Archana Gupta
मुक्तक
मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
"मैं" के रंगों में रंगे होते हैं, आत्मा के ये परिधान।
Manisha Manjari
दादा की मूँछ
दादा की मूँछ
Dr Nisha nandini Bhartiya
“ इन लोगों की बात सुनो”
“ इन लोगों की बात सुनो”
DrLakshman Jha Parimal
2598.पूर्णिका
2598.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
एक कवि की कविता ही पूजा, यहाँ अपने देव को पाया
एक कवि की कविता ही पूजा, यहाँ अपने देव को पाया
Dr.Pratibha Prakash
बाल कविता: जंगल का बाज़ार
बाल कविता: जंगल का बाज़ार
Rajesh Kumar Arjun
दोहा- छवि
दोहा- छवि
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
Meditation
Meditation
Ravikesh Jha
प्रेम तो हर कोई चाहता है;
प्रेम तो हर कोई चाहता है;
Dr Manju Saini
प्रेम लौटता है धीमे से
प्रेम लौटता है धीमे से
Surinder blackpen
"एक भगोड़ा"
*Author प्रणय प्रभात*
चिड़िया चली गगन आंकने
चिड़िया चली गगन आंकने
AMRESH KUMAR VERMA
*देना सबको चाहिए, अपनी ऑंखें दान (कुंडलिया )*
*देना सबको चाहिए, अपनी ऑंखें दान (कुंडलिया )*
Ravi Prakash
बच्चे बूढ़े और जवानों में
बच्चे बूढ़े और जवानों में
विशाल शुक्ल
🥀✍अज्ञानी की 🥀
🥀✍अज्ञानी की 🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
"सबक"
Dr. Kishan tandon kranti
दर्शन की ललक
दर्शन की ललक
Neelam Sharma
सच और सोच
सच और सोच
Neeraj Agarwal
तूफान सी लहरें मेरे अंदर है बहुत
तूफान सी लहरें मेरे अंदर है बहुत
कवि दीपक बवेजा
Khuch chand kisso ki shuruat ho,
Khuch chand kisso ki shuruat ho,
Sakshi Tripathi
Loading...