Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Oct 2016 · 1 min read

निष्ठुर तम हम दूर भगाएँ

मानव-मानव का भेद मिटाएँ
दिल से दिल के दीप जलाएँ

आँसू की यह लड़ियाँ टूटे
खुशियों की फुलझड़ियाँ छूटे
शोषण, पीड़ा, शोक भुलाएँ
दिल से दिल के दीप जलाएँ

कितने दीप जल नहीं पाते
कितने दीप बुझ बुझ जाते
दीपक राग मिलकर गाएँ
दिल से दिल के दीप जलाएँ

बाहर बाहर उजियारा है
भीतर गहरा अँधियारा है
अंतर्मन में ज्योति जगाएँ
दिल से दिल के दीप जलाएँ

मंगलघट कण कण में छलके
कोई उर ना सुख को तरसे
हर धड़कन की प्यास बुझाएँ
दिल से दिल के दीप जलाएँ

आलोकित हो सबका जीवन
बरसे वैभव आँगन आँगन
निष्ठुर तम हम दूर भगाएँ
दिल से दिल के दीप जलाएँ

रोशन धरती, रोशन नभ हो
शुभ ही शुभ हो, अब ना अशुभ हो
कुछ ऐसी हो दीपशिखाएँ
दिल से दिल के दीप जलाएँ

© हिमकर श्याम

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Comment · 483 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दुखद अंत 🐘
दुखद अंत 🐘
Rajni kapoor
सफर सफर की बात है ।
सफर सफर की बात है ।
Yogendra Chaturwedi
कुछ इनायतें ख़ुदा की, कुछ उनकी दुआएं हैं,
कुछ इनायतें ख़ुदा की, कुछ उनकी दुआएं हैं,
Nidhi Kumar
काल  अटल संसार में,
काल अटल संसार में,
sushil sarna
■ मुक्तक / पल-पल जीवन
■ मुक्तक / पल-पल जीवन
*Author प्रणय प्रभात*
*खाऍं मेवा से भरे, प्रतिदिन भर-भर थाल (कुंडलिया)*
*खाऍं मेवा से भरे, प्रतिदिन भर-भर थाल (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
जानवर और आदमी में फर्क
जानवर और आदमी में फर्क
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
गर्मी की छुट्टियां
गर्मी की छुट्टियां
Manu Vashistha
हमें जीना सिखा रहे थे।
हमें जीना सिखा रहे थे।
Buddha Prakash
बुंदेली लघुकथा - कछु तुम समजे, कछु हम
बुंदेली लघुकथा - कछु तुम समजे, कछु हम
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
💐प्रेम कौतुक-420💐
💐प्रेम कौतुक-420💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सच बोलने की हिम्मत
सच बोलने की हिम्मत
Shekhar Chandra Mitra
खरी - खरी
खरी - खरी
Mamta Singh Devaa
हवलदार का करिया रंग (हास्य कविता)
हवलदार का करिया रंग (हास्य कविता)
दुष्यन्त 'बाबा'
यादों की किताब पर खिताब
यादों की किताब पर खिताब
Mahender Singh Manu
जितना लफ़्ज़ों में
जितना लफ़्ज़ों में
Dr fauzia Naseem shad
"लट्टू"
Dr. Kishan tandon kranti
नित  हर्ष  रहे   उत्कर्ष  रहे,   कर  कंचनमय  थाल  रहे ।
नित हर्ष रहे उत्कर्ष रहे, कर कंचनमय थाल रहे ।
Ashok deep
Tumko pane ki hasrat hi to thi ,
Tumko pane ki hasrat hi to thi ,
Sakshi Tripathi
यहाँ सब बहर में हैं
यहाँ सब बहर में हैं
Suryakant Dwivedi
" मुझमें फिर से बहार न आयेगी "
Aarti sirsat
इन्सानियत
इन्सानियत
Bodhisatva kastooriya
World Tobacco Prohibition Day
World Tobacco Prohibition Day
Tushar Jagawat
!!  श्री गणेशाय् नम्ः  !!
!! श्री गणेशाय् नम्ः !!
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
रात
रात
SHAMA PARVEEN
कुछ कहूं ना कहूं तुम भी सोचा करो,
कुछ कहूं ना कहूं तुम भी सोचा करो,
Sanjay ' शून्य'
हे राम हृदय में आ जाओ
हे राम हृदय में आ जाओ
Saraswati Bajpai
संध्या वंदन कीजिए,
संध्या वंदन कीजिए,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
श्री राम भजन
श्री राम भजन
Khaimsingh Saini
Perfection, a word which cannot be described within the boun
Perfection, a word which cannot be described within the boun
नव लेखिका
Loading...