Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Jan 2023 · 1 min read

निश्छल छंद विधान

निश्छल -छंद का विधान में मुक्तक

“निश्छल- छंद” सम मात्रिक छंद है। यह 23 मात्राओं का छंद है जिसमें 16,7 मात्राओं पर यति आवश्यक है। अंत में वाचिक भार 21 यानि गुरु लघु (गाल) होना अनिवार्य है। चार चरण वाले निश्छल छंद में क्रमागत दो-दो या चारों चरण समतुकांत होते हैं। 16 मात्राओं के अंत में चौपाई छंद के विधानानुसार चौकल आता है, जगण (121) नहीं।

“कहर ढाहता घोर कुहासा”

पहन शीत की झीनी चादर, आई भोर।
लगा धुंध का पहरा जग में, चारों ओर।
ठिठुर रहा खगदल शाखा पर, बैठा मौन-
अस्त-व्यस्त जन-जीवन सारा, चले न ज़ोर।

कहर ढाहता घोर कुहासा, करे प्रहार।
बर्फ़ीली सी चलें हवाएँ, जन लाचार।
पीत पत्र गिरते तरुवर से, बिना प्रकाश-
वयोवृद्ध निर्बल पर भारी, ठंड अपार।

घास-फूस के छप्पर टूटे, गिरे मकान।
शिथिल पड़े सब सड़क किनारे, गुम पहचान।
ताप धरा का घटता जाता, जग बेहाल-
पूस महीना कर्कश आया, लेने जान।

डॉ. रजनी अग्रवाल “वाग्देवी रत्ना”
वाराणसी उ. प्र.)

Language: Hindi
1 Like · 1 Comment · 526 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ. रजनी अग्रवाल 'वाग्देवी रत्ना'
View all
You may also like:
अरे ये कौन नेता हैं, न आना बात में इनकी।
अरे ये कौन नेता हैं, न आना बात में इनकी।
डॉ.सीमा अग्रवाल
#अज्ञानी_की_कलम
#अज्ञानी_की_कलम
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
मिष्ठी के लिए सलाद
मिष्ठी के लिए सलाद
Manu Vashistha
बदलती फितरत
बदलती फितरत
Sûrëkhâ Rãthí
वक्त की जेबों को टटोलकर,
वक्त की जेबों को टटोलकर,
अनिल कुमार
3224.*पूर्णिका*
3224.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आकाश
आकाश
Dr. Kishan tandon kranti
अजब गजब
अजब गजब
साहिल
मैं तो इंसान हूँ ऐसा
मैं तो इंसान हूँ ऐसा
gurudeenverma198
ग्रंथ
ग्रंथ
Tarkeshwari 'sudhi'
जेठ कि भरी दोपहरी
जेठ कि भरी दोपहरी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
अगर आप अपनी आवश्यकताओं को सीमित कर देते हैं,तो आप सम्पन्न है
अगर आप अपनी आवश्यकताओं को सीमित कर देते हैं,तो आप सम्पन्न है
Paras Nath Jha
हिन्दी दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
हिन्दी दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
🍁मंच🍁
🍁मंच🍁
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
भय की आहट
भय की आहट
Buddha Prakash
हम भी जिंदगी भर उम्मीदों के साए में चलें,
हम भी जिंदगी भर उम्मीदों के साए में चलें,
manjula chauhan
मुक्तक
मुक्तक
Er.Navaneet R Shandily
*देश भक्ति देश प्रेम*
*देश भक्ति देश प्रेम*
Harminder Kaur
वो ख्यालों में भी दिल में उतर जाएगा।
वो ख्यालों में भी दिल में उतर जाएगा।
Phool gufran
चिंगारी बन लड़ा नहीं जो
चिंगारी बन लड़ा नहीं जो
AJAY AMITABH SUMAN
★ बचपन और बारिश...
★ बचपन और बारिश...
*Author प्रणय प्रभात*
💐प्रेम कौतुक-531💐
💐प्रेम कौतुक-531💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अपनी नज़र में खुद
अपनी नज़र में खुद
Dr fauzia Naseem shad
युद्ध के विरुद्ध कुंडलिया
युद्ध के विरुद्ध कुंडलिया
Ravi Prakash
जो ले जाये उस पार दिल में ऐसी तमन्ना न रख
जो ले जाये उस पार दिल में ऐसी तमन्ना न रख
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
रार बढ़े तकरार हो,
रार बढ़े तकरार हो,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
विश्वास
विश्वास
विजय कुमार अग्रवाल
ईश्वर से साक्षात्कार कराता है संगीत
ईश्वर से साक्षात्कार कराता है संगीत
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
रैन बसेरा
रैन बसेरा
Shekhar Chandra Mitra
विश्वास
विश्वास
धर्मेंद्र अरोड़ा मुसाफ़िर
Loading...