Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Feb 2024 · 1 min read

नियम

नन्हीं ओस के बूंदों के बीच
अलसाई नवजात कली
पूछती बगल की डाली से
ज़िंदगी क्यों कर मिली
डाली मूल तने से
अटपटे अनमने से
प्रश्न दुहरा देती है
तना जड़ से जड़ मिट्टी से
मिट्टी से वायु नभ जल
होते हुए यह प्रश्न
आकाश गंगाओं में
तैरता व्याप्त होता
है सम्पूर्ण सृष्टि में
कोई स्पष्ट उत्तर नहीं दृष्टि में
क्या सृष्टि के नियम ?
यही उत्तर
उसी पथ से होता हुआ
पुनः उस कली को
पहुचने को ही है
डाली उससे कहने को ही है
कि आदम का अधम हाथ
तोड़ देता है उसे
उन्ही अधम हाथों
में से झांकती हुई कली
कह देती है डाली से
नश्वर संसार के नियमों को
मात्र पूरा करने के लिये

अजय मिश्र

Language: Hindi
1 Like · 630 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
शिव अविनाशी, शिव संयासी , शिव ही हैं शमशान निवासी।
शिव अविनाशी, शिव संयासी , शिव ही हैं शमशान निवासी।
Gouri tiwari
फ़ेहरिस्त रक़ीबों की, लिखे रहते हो हाथों में,
फ़ेहरिस्त रक़ीबों की, लिखे रहते हो हाथों में,
Shreedhar
Go to bed smarter than when you woke up — Charlie Munger
Go to bed smarter than when you woke up — Charlie Munger
पूर्वार्थ
कालजई रचना
कालजई रचना
Shekhar Chandra Mitra
हर रोज़
हर रोज़
Dr fauzia Naseem shad
बेटी पढ़ायें, बेटी बचायें
बेटी पढ़ायें, बेटी बचायें
Kanchan Khanna
बच्चे को उपहार ना दिया जाए,
बच्चे को उपहार ना दिया जाए,
Shubham Pandey (S P)
साझ
साझ
Bodhisatva kastooriya
मन मेरे तू सावन सा बन....
मन मेरे तू सावन सा बन....
डॉ.सीमा अग्रवाल
जब भी बुलाओ बेझिझक है चली आती।
जब भी बुलाओ बेझिझक है चली आती।
Ahtesham Ahmad
शबे दर्द जाती नही।
शबे दर्द जाती नही।
Taj Mohammad
मानसिक शान्ति के मूल्य पर अगर आप कोई बहुमूल्य चीज भी प्राप्त
मानसिक शान्ति के मूल्य पर अगर आप कोई बहुमूल्य चीज भी प्राप्त
Paras Nath Jha
फितरत न कभी सीखा
फितरत न कभी सीखा
Satish Srijan
मन में मदिरा पाप की,
मन में मदिरा पाप की,
sushil sarna
#आज_का_नारा
#आज_का_नारा
*Author प्रणय प्रभात*
💐प्रेम कौतुक-233💐
💐प्रेम कौतुक-233💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
3142.*पूर्णिका*
3142.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तुम      चुप    रहो    तो  मैं  कुछ  बोलूँ
तुम चुप रहो तो मैं कुछ बोलूँ
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
* बेटियां *
* बेटियां *
surenderpal vaidya
ज़िन्दगी का रंग उतरे
ज़िन्दगी का रंग उतरे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
तभी तो असाधारण ये कहानी होगी...!!!!!
तभी तो असाधारण ये कहानी होगी...!!!!!
Jyoti Khari
**सिकुड्ता व्यक्तित्त्व**
**सिकुड्ता व्यक्तित्त्व**
DR ARUN KUMAR SHASTRI
आप दिलकश जो है
आप दिलकश जो है
gurudeenverma198
अम्बर में अनगिन तारे हैं।
अम्बर में अनगिन तारे हैं।
Anil Mishra Prahari
छत्तीसगढ़ी हाइकु
छत्तीसगढ़ी हाइकु
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*
*"तुलसी मैया"*
Shashi kala vyas
"सुप्रभात"
Yogendra Chaturwedi
*बारिश आई (बाल कविता)*
*बारिश आई (बाल कविता)*
Ravi Prakash
जो धधक रहे हैं ,दिन - रात मेहनत की आग में
जो धधक रहे हैं ,दिन - रात मेहनत की आग में
Keshav kishor Kumar
Loading...