Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Jul 2023 · 2 min read

निदा फाज़ली का एक शेर है

निदा फाज़ली का एक शेर है
हर तरफ़ हर जगह बैसुमार “आदमी” ,फिर भी तन्हाइयों का शिकार “आदमी”।
आज के समय का यही वास्तविक सच है । आज के समय में सच्चा दोस्त मिलना बहुत मुश्किल है । हम लोगों की भीड़ में तो घुम रहे है लेकिन अकेलें ही है। हमारा सच्चा दोस्त कोई नहीं है।
सच्चा दोस्त वो होता है जो आप से या आप जिससें बेझिझक बात कर सकते है । लेकिन क्या आप का कोई ऐसा दोस्त है? नहीं होगा । बहुत कम लोग है जिनके सच्चें दोस्त है ।
यहाँ हर इंसान अपनें अपनें मतलब से दोस्ती बना के बैठा है। ऐसा कोई नहीं है जिस्सें आप अपनें मन की बात करे और वो उस तक सीमित हो।

दोस्तीं निस्वार्थ भाव और त्याग मांगती है,समय मांगती है । दोस्तीं तब होती जब दुसरें को लगता है कि आप उसकी दोस्तीं की कद्र करते है ,दोस्त की चिंता करते है।
हमनें कई बार देखा है कि दोस्त को काम होनें पर या उसे समय की जरूरत होनें पर हम तकनीकी बहाना बनाकर टाल देते है और उसें यकीन भी दिला देते है । यहीं यकीन वो हमें भी दिला देता है ।
हमारी अपनी भावनाएं ही हमारे पास लौट कर आ जाती है।
सच्चें दोस्त से आप किसी भी समय कोई भी बात बिना सौचे कर सकते है और वो आपकी बात उस तक ही बिना कोई बात का मजाक बनें उस तक सीमित रहे । उस्सें बात करनें के लिये आपकों समय न देखना पडें । न मिलनें के बहानें न निकालना पडें । अपनी अतरंग से अतरंग बातें भी आप बैझिझक कह दे जिसे वो आपका सच्चा दोस्त है जो आप से कभी नाराज न हो । न कभी आप में मन मुटाव हो। लेकिन आज कल ऐसा कोई नहीं।
हमारे दोस्त बहुत हे लेकिन बात गर सच्चे दोस्त बतानें की आ जाये तो एक नाम भी मुश्किल से निकलेगा।
एक सच्चा दोस्त भी पुरे काफिलें से ज्यादा होता है।
क्या है आप का कोई ऐसा सच्चा दोस्त।

148 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Sonu sugandh
View all
You may also like:
2514.पूर्णिका
2514.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
तू सहारा बन
तू सहारा बन
Bodhisatva kastooriya
जिंदगी
जिंदगी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
लघुकथा - घर का उजाला
लघुकथा - घर का उजाला
अशोक कुमार ढोरिया
हिटलर ने भी माना सुभाष को महान
हिटलर ने भी माना सुभाष को महान
कवि रमेशराज
अश्क तन्हाई उदासी रह गई - संदीप ठाकुर
अश्क तन्हाई उदासी रह गई - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
#मज़दूर
#मज़दूर
Dr. Priya Gupta
गीतिका और ग़ज़ल
गीतिका और ग़ज़ल
आचार्य ओम नीरव
जैसे हम,
जैसे हम,
नेताम आर सी
सोचो
सोचो
Dinesh Kumar Gangwar
अज्ञानी की कलम
अज्ञानी की कलम
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
आनन ग्रंथ (फेसबुक)
आनन ग्रंथ (फेसबुक)
Indu Singh
"भुला ना सके"
Dr. Kishan tandon kranti
ख्वाब नाज़ुक हैं
ख्वाब नाज़ुक हैं
rkchaudhary2012
वो लुका-छिपी वो दहकता प्यार—
वो लुका-छिपी वो दहकता प्यार—
Shreedhar
*भ्राता (कुंडलिया)*
*भ्राता (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
#सृजनएजुकेशनट्रस्ट
#सृजनएजुकेशनट्रस्ट
Rashmi Ranjan
मुझे तुमसे प्यार हो गया,
मुझे तुमसे प्यार हो गया,
Dr. Man Mohan Krishna
🙅एक शोध🙅
🙅एक शोध🙅
*प्रणय प्रभात*
मेरे बस्ती के दीवारों पर
मेरे बस्ती के दीवारों पर
'अशांत' शेखर
मायने मौत के
मायने मौत के
Dr fauzia Naseem shad
* हिन्दी को ही *
* हिन्दी को ही *
surenderpal vaidya
छोटी सी बात
छोटी सी बात
Kanchan Khanna
" सुप्रभात "
Yogendra Chaturwedi
लीजिए प्रेम का अवलंब
लीजिए प्रेम का अवलंब
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
पन्नें
पन्नें
Abhinay Krishna Prajapati-.-(kavyash)
खारे पानी ने भी प्यास मिटा दी है,मोहब्बत में मिला इतना गम ,
खारे पानी ने भी प्यास मिटा दी है,मोहब्बत में मिला इतना गम ,
goutam shaw
*माँ शारदे वन्दना
*माँ शारदे वन्दना
संजय कुमार संजू
होठों को रख कर मौन
होठों को रख कर मौन
हिमांशु Kulshrestha
कहानी इश्क़ की
कहानी इश्क़ की
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...