Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Aug 2023 · 1 min read

नित तेरी पूजा करता मैं,

नित तेरी पूजा करता मैं,
श्रद्धा पुष्प चढ़ाऊँ।
दे माता आशीष मुझे तू,
जीवन धन्य बनाऊँ।।
जहाँ तिमिर हो करूँ उजाला,
शिक्षा दीप जलाऊँ।
भटके हुये युवाओं को मैं,
सच्ची राह बताऊँ।।
– महावीर उत्तरांचली

1 Like · 391 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
View all
You may also like:
मौत का रंग लाल है,
मौत का रंग लाल है,
पूर्वार्थ
रुकना हमारा काम नहीं...
रुकना हमारा काम नहीं...
AMRESH KUMAR VERMA
#आध्यात्मिक_कविता
#आध्यात्मिक_कविता
*Author प्रणय प्रभात*
छोड दो उनको उन के हाल पे.......अब
छोड दो उनको उन के हाल पे.......अब
shabina. Naaz
धरा और हरियाली
धरा और हरियाली
Buddha Prakash
मन चंगा तो कठौती में गंगा / MUSAFIR BAITHA
मन चंगा तो कठौती में गंगा / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
बचपन
बचपन
लक्ष्मी सिंह
कुछ नहीं.......!
कुछ नहीं.......!
विमला महरिया मौज
आफ़ताब
आफ़ताब
Atul "Krishn"
दोगलापन
दोगलापन
Mamta Singh Devaa
जमाने की नजरों में ही रंजीश-ए-हालात है,
जमाने की नजरों में ही रंजीश-ए-हालात है,
manjula chauhan
23/49.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/49.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बदल देते हैं ये माहौल, पाकर चंद नोटों को,
बदल देते हैं ये माहौल, पाकर चंद नोटों को,
Jatashankar Prajapati
उफ़ वो उनकी कातिल भरी निगाहें,
उफ़ वो उनकी कातिल भरी निगाहें,
Vishal babu (vishu)
आज़ादी की जंग में कूदी नारीशक्ति
आज़ादी की जंग में कूदी नारीशक्ति
कवि रमेशराज
धीरे धीरे
धीरे धीरे
रवि शंकर साह
कविता- घर घर आएंगे राम
कविता- घर घर आएंगे राम
Anand Sharma
अंतस के उद्वेग हैं ,
अंतस के उद्वेग हैं ,
sushil sarna
कभी कभी पागल होना भी
कभी कभी पागल होना भी
Vandana maurya
अबोध अंतस....
अबोध अंतस....
Santosh Soni
जय भोलेनाथ ।
जय भोलेनाथ ।
Anil Mishra Prahari
जिंदगी में एक रात ऐसे भी आएगी जिसका कभी सुबह नहीं होगा ll
जिंदगी में एक रात ऐसे भी आएगी जिसका कभी सुबह नहीं होगा ll
Ranjeet kumar patre
किन मुश्किलों से गुजरे और गुजर रहे हैं अबतक,
किन मुश्किलों से गुजरे और गुजर रहे हैं अबतक,
सिद्धार्थ गोरखपुरी
एक देश एक कानून
एक देश एक कानून
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
सफलता और सुख  का मापदण्ड स्वयं निर्धारित करनांआवश्यक है वरना
सफलता और सुख का मापदण्ड स्वयं निर्धारित करनांआवश्यक है वरना
Leena Anand
खिलते फूल
खिलते फूल
Punam Pande
फिर वही शाम ए गम,
फिर वही शाम ए गम,
ओनिका सेतिया 'अनु '
अपने मन के भाव में।
अपने मन के भाव में।
Vedha Singh
"जीवन का सबूत"
Dr. Kishan tandon kranti
शुभ होली
शुभ होली
Dr Archana Gupta
Loading...