Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Oct 2016 · 1 min read

नित्य ही आनंदके जो दाता ज्ञानके परम:: जितेन्द्र कमल आनंद ( पोस्ट ६१)

गुरु प्रणाम :: ( घनाक्षरी )
———————
नित्य ही आनंदके जो दाता ज्ञानके परम
विश्व से विराट विभु व्यापक समान हैं ।
नित्य ही विमल और अचलउज्ज्वल शुभ्र ,
जो स्वयं के प्रकाश से ही प्रकाशवान हैं ।
नित्य रहकर अचिंतित रहते निर्विकार जो ,
सकल समस्याओं के त्वरित निदान हैं ।
सादर सप्रेम उन्हें प्रणाम हैं निवेदित ,
जो कृपा निधान और सदगुरु महान हैं ।।

——- जितेंद्रकमलआनंद

Language: Hindi
1 Comment · 232 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अंग्रेजों के बनाये कानून खत्म
अंग्रेजों के बनाये कानून खत्म
Shankar N aanjna
*सीधा-सादा सदा एक - सा जीवन कब चलता है (गीत)*
*सीधा-सादा सदा एक - सा जीवन कब चलता है (गीत)*
Ravi Prakash
दोहा -
दोहा -
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
शांति वन से बापू बोले, होकर आहत हे राम रे
शांति वन से बापू बोले, होकर आहत हे राम रे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
गये ज़माने की यादें
गये ज़माने की यादें
Shaily
अवसर त मिलनक ,सम्भव नहिं भ सकत !
अवसर त मिलनक ,सम्भव नहिं भ सकत !
DrLakshman Jha Parimal
ये आँखे हट नही रही तेरे दीदार से, पता नही
ये आँखे हट नही रही तेरे दीदार से, पता नही
Tarun Garg
कुछ यथार्थ कुछ कल्पना कुछ अरूप कुछ रूप।
कुछ यथार्थ कुछ कल्पना कुछ अरूप कुछ रूप।
Mahendra Narayan
*देश की आत्मा है हिंदी*
*देश की आत्मा है हिंदी*
Shashi kala vyas
#वंदन_अभिनंदन
#वंदन_अभिनंदन
*Author प्रणय प्रभात*
रात एक खिड़की है
रात एक खिड़की है
Surinder blackpen
मैं भारत का जवान हूं...
मैं भारत का जवान हूं...
AMRESH KUMAR VERMA
💐प्रेम कौतुक-311💐
💐प्रेम कौतुक-311💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पीकर भंग जालिम खाई के पान,
पीकर भंग जालिम खाई के पान,
डी. के. निवातिया
मेरे शब्द, मेरी कविता, मेरे गजल, मेरी ज़िन्दगी का अभिमान हो तुम।
मेरे शब्द, मेरी कविता, मेरे गजल, मेरी ज़िन्दगी का अभिमान हो तुम।
Anand Kumar
--: पत्थर  :--
--: पत्थर :--
Dhirendra Singh
बेटियाँ
बेटियाँ
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
सुन मेरे बच्चे
सुन मेरे बच्चे
Sangeeta Beniwal
एक सच
एक सच
Neeraj Agarwal
याद करने के लिए बस यारियां रह जाएंगी।
याद करने के लिए बस यारियां रह जाएंगी।
सत्य कुमार प्रेमी
"जरा सोचो"
Dr. Kishan tandon kranti
शरीफ यात्री
शरीफ यात्री
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
अपराध बोध (लघुकथा)
अपराध बोध (लघुकथा)
दुष्यन्त 'बाबा'
औरों की तरह हर्फ़ नहीं हैं अपना;
औरों की तरह हर्फ़ नहीं हैं अपना;
manjula chauhan
तेरी ख़ामोशी
तेरी ख़ामोशी
Anju ( Ojhal )
खोकर अपनों को यह जाना।
खोकर अपनों को यह जाना।
लक्ष्मी सिंह
मौज-मस्ती
मौज-मस्ती
Vandna Thakur
आज देव दीपावली...
आज देव दीपावली...
डॉ.सीमा अग्रवाल
जीवनसाथी
जीवनसाथी
Rajni kapoor
2437.पूर्णिका
2437.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
Loading...