Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Apr 2024 · 2 min read

निकलो…

मकड़ी स्वयं कहाँ फँसती है
चाहे जितने भी जाल बिछाये
रिश्ते स्तिथि या ख़्याल जाल से
हम निकल न पाये

निकलो,निकलो वहाँ से जहां
तुम हो न हो कोई फ़र्क़ नहीं पड़ता
निकलो जहां पका रिश्ता
पल पल है गलता सड़ता

निकलो हर वहाँ से जहां
आपकी ज़रूरत न हो
निकलो वहाँ से भी जहाँ
टूटे दिल की मरम्मत न हो

निकलो वहाँ से जहां प्यार
उपहार नहीं ख़ैरात लगे
निकलो वहाँ से जहां
तुम्हारी कही बात बात न लगे

निकलो हर उस जगह से जहाँ
तुम्हारी कद्र न हो इज्जत न हो
निकलो वहाँ से भी जहाँ
तुम्हारी मासूमियत की हिफ़ाज़त न हो

निकलो उस दोस्ती से जहाँ
हंसी तुम्हारे साथ नहीं तुम पर हो
निकलो उस महफ़िल से जहां
पीठ पीछे बातें अक्सर हो

निकलो हर उस रिश्ते से जिसकी किश्तें
अपनी आज़ादी से चुका रहे हो
अच्छा बनने के चक्कर में
ज़िंदगी से मात खा रहे हो

माना निकलना इतना आसान नहीं
तो कठिन भी नहीं
बस नदी बन बह निकलो
देखना निकलना नामुमकिन भी नहीं

निकलो थामे हौसलों की लहर
उम्मीदों की सहर सुहानी
पानी की पन्नों पर लिख डालो
ख़ुद अपनी एक नई कहानी

वो कहानी जिसके हर सफ़हे पर हो
नया तजुर्बा नये जज़्बात
यूँ लिख डालो मानो ज़िंदगी से हो रही
तुम्हारी पहली मुलाक़ात

ऐसी कहानी जहां तुम बन चिड़िया
भरो उड़ान हो गगन गवाह
खिल के हंस लो खुल के रो लो
बतिया सको बेख़ौफ़ बेपरवाह

लोग क्या कहेंगे क्या सोचेंगे
ये उनका काम उनपर छोड़ दो
कायदों की सरहदों के पार तुम
अपनी कहानी को एक नया मोड़ दो।

रेखांकन।रेखा ड्रोलिया

Language: Hindi
1 Like · 55 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मत छोड़ो गॉंव
मत छोड़ो गॉंव
Dr. Kishan tandon kranti
झुर्री-झुर्री पर लिखा,
झुर्री-झुर्री पर लिखा,
sushil sarna
गौरेया (ताटंक छन्द)
गौरेया (ताटंक छन्द)
नाथ सोनांचली
बहुत हुआ
बहुत हुआ
Mahender Singh
तन्हाई
तन्हाई
Sidhartha Mishra
*
*"नरसिंह अवतार"*
Shashi kala vyas
किस दौड़ का हिस्सा बनाना चाहते हो।
किस दौड़ का हिस्सा बनाना चाहते हो।
Sanjay ' शून्य'
हंस
हंस
Dr. Seema Varma
इश्क में तेरे
इश्क में तेरे
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
♤⛳मातृभाषा हिन्दी हो⛳♤
♤⛳मातृभाषा हिन्दी हो⛳♤
SPK Sachin Lodhi
*डॉक्टर किशोरी लाल: एक मुलाकात*
*डॉक्टर किशोरी लाल: एक मुलाकात*
Ravi Prakash
छोटे दिल वाली दुनिया
छोटे दिल वाली दुनिया
ओनिका सेतिया 'अनु '
मन में उतर कर मन से उतर गए
मन में उतर कर मन से उतर गए
ruby kumari
किस कदर है व्याकुल
किस कदर है व्याकुल
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
होली पर
होली पर
Dr.Pratibha Prakash
जिस कदर उम्र का आना जाना है
जिस कदर उम्र का आना जाना है
Harminder Kaur
निभा गये चाणक्य सा,
निभा गये चाणक्य सा,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आँखों से भी मतांतर का एहसास होता है , पास रहकर भी विभेदों का
आँखों से भी मतांतर का एहसास होता है , पास रहकर भी विभेदों का
DrLakshman Jha Parimal
उसका अपना कोई
उसका अपना कोई
Dr fauzia Naseem shad
नरसिंह अवतार
नरसिंह अवतार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
उम्मीद है दिल में
उम्मीद है दिल में
Surinder blackpen
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
इंसानियत
इंसानियत
साहित्य गौरव
अपने कार्यों में अगर आप बार बार असफल नहीं हो रहे हैं तो इसका
अपने कार्यों में अगर आप बार बार असफल नहीं हो रहे हैं तो इसका
Paras Nath Jha
2693.*पूर्णिका*
2693.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मुझे सोते हुए जगते हुए
मुझे सोते हुए जगते हुए
*प्रणय प्रभात*
हुनर से गद्दारी
हुनर से गद्दारी
भरत कुमार सोलंकी
कितना हराएगी ये जिंदगी मुझे।
कितना हराएगी ये जिंदगी मुझे।
Rj Anand Prajapati
गुरुवर
गुरुवर
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
Loading...