Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Sep 2023 · 1 min read

निंदा

निंदा वही लोग करते हैं, जिनमें आत्मविश्वास का
पूर्णतः अभाव होता है, इसलिए किसी की निंदा
करने के विपरीत स्वयं में आत्मविश्वास की
भावना का विकास करें।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
6 Likes · 157 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
उजियारी ऋतुओं में भरती
उजियारी ऋतुओं में भरती
Rashmi Sanjay
कभी जब नैन  मतवारे  किसी से चार होते हैं
कभी जब नैन मतवारे किसी से चार होते हैं
Dr Archana Gupta
अब तो
अब तो "वायरस" के भी
*Author प्रणय प्रभात*
सिर्फ तुम्हारे खातिर
सिर्फ तुम्हारे खातिर
gurudeenverma198
24/01.*प्रगीत*
24/01.*प्रगीत*
Dr.Khedu Bharti
आधुनिक युग में हम सभी जानते हैं।
आधुनिक युग में हम सभी जानते हैं।
Neeraj Agarwal
समय और स्वास्थ्य के असली महत्त्व को हम तब समझते हैं जब उसका
समय और स्वास्थ्य के असली महत्त्व को हम तब समझते हैं जब उसका
Paras Nath Jha
हिस्सा,,,,
हिस्सा,,,,
Happy sunshine Soni
A daughter's reply
A daughter's reply
Bidyadhar Mantry
हे कान्हा
हे कान्हा
Mukesh Kumar Sonkar
रामपुर का किला : जिसके दरवाजों के किवाड़ हमने कभी बंद होते नहीं देखे*
रामपुर का किला : जिसके दरवाजों के किवाड़ हमने कभी बंद होते नहीं देखे*
Ravi Prakash
है हार तुम्ही से जीत मेरी,
है हार तुम्ही से जीत मेरी,
कृष्णकांत गुर्जर
वैविध्यपूर्ण भारत
वैविध्यपूर्ण भारत
ऋचा पाठक पंत
4) धन्य है सफर
4) धन्य है सफर
पूनम झा 'प्रथमा'
जनता  जाने  झूठ  है, नेता  की  हर बात ।
जनता जाने झूठ है, नेता की हर बात ।
sushil sarna
सफलता
सफलता
Babli Jha
न  सूरत, न  शोहरत, न  नाम  आता  है
न सूरत, न शोहरत, न नाम आता है
Anil Mishra Prahari
बचपन अपना अपना
बचपन अपना अपना
Sanjay ' शून्य'
किसी रोज मिलना बेमतलब
किसी रोज मिलना बेमतलब
Amit Pathak
इसके जैसा
इसके जैसा
Dr fauzia Naseem shad
सबसे क़ीमती क्या है....
सबसे क़ीमती क्या है....
Vivek Mishra
चाय की चुस्की संग
चाय की चुस्की संग
Surinder blackpen
ग्रामीण ओलंपिक खेल
ग्रामीण ओलंपिक खेल
Shankar N aanjna
यूं जो उसको तकते हो।
यूं जो उसको तकते हो।
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
जब हम छोटे से बच्चे थे।
जब हम छोटे से बच्चे थे।
लक्ष्मी सिंह
'सफलता' वह मुकाम है, जहाँ अपने गुनाहगारों को भी गले लगाने से
'सफलता' वह मुकाम है, जहाँ अपने गुनाहगारों को भी गले लगाने से
satish rathore
"चाह"
Dr. Kishan tandon kranti
आम की गुठली
आम की गुठली
Seema gupta,Alwar
मन की बात
मन की बात
पूर्वार्थ
हर शायर जानता है
हर शायर जानता है
Nanki Patre
Loading...