Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Feb 2024 · 1 min read

ना जमीं रखता हूॅ॑ ना आसमान रखता हूॅ॑

ना जमीं रखता हूॅ॑ ना आसमान रखता हूॅ॑
ना मुरीद रखता हूॅ॑ ना मेहरबान रखता हूॅ॑
अगर कुछ रखता हूं-अगर कुछ रखता हूॅ॑ देखो
अलग सोच है अलग पहचान रखता हूॅ॑—ना जमीं
लोग समझते हैं कि मैं बदनसीब हूॅ॑ बड़ा
वो क्या जाने हुजूर-वो क्या जाने हजूर मुझको
मैं जिंदगी की जरूरत तमाम रखता हूॅ॑—ना जमीं
मैं नहीं हूॅ॑ औरों सा और ना है कोई मुझसा
सोचता हूॅ॑ बहुत मैं-सोचता हूॅ॑ बहुत मैं दूं किसको
दिल की यह वसीयत बेनाम रखता हूॅ॑—ना जमीं
ना जरूरत है मुझको इन झूठे खजानों की
न ये दौलत चाहिए-न ये दौलत चाहिए मुझको
मैं सच्चाई और स्वाभिमान रखता हूॅ॑—ना जमीं
लोग प्यार-इश्क-मोहब्बत रखते हैं दिलों में
मगर लो सुनाता हूॅ॑-मगर लो सुनाता हूॅ॑ सबको
मैं फौलादी सीने में हिंदुस्तान रखता हूॅ॑—ना जमीं
‘V9द’ ये हिंदू-मुस्लिम ये सिख-इसाई है कौन
कोई मज़हब नहीं है-कोई मज़हब नहीं है सुनो
मैं इंसान हूॅ॑ इंसानियत ईमान रखता हूॅ॑—ना जमीं

2 Likes · 1 Comment · 88 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from VINOD CHAUHAN
View all
You may also like:
#तेवरी-
#तेवरी-
*Author प्रणय प्रभात*
ध्यान-उपवास-साधना, स्व अवलोकन कार्य।
ध्यान-उपवास-साधना, स्व अवलोकन कार्य।
डॉ.सीमा अग्रवाल
जीवन जितना
जीवन जितना
Dr fauzia Naseem shad
है जिसका रहमो करम और प्यार है मुझ पर।
है जिसका रहमो करम और प्यार है मुझ पर।
सत्य कुमार प्रेमी
दारू की महिमा अवधी गीत
दारू की महिमा अवधी गीत
प्रीतम श्रावस्तवी
दोहे - नारी
दोहे - नारी
sushil sarna
वोट की राजनीति
वोट की राजनीति
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
नहीं टूटे कभी जो मुश्किलों से
नहीं टूटे कभी जो मुश्किलों से
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सुबह की नींद सबको प्यारी होती है।
सुबह की नींद सबको प्यारी होती है।
Yogendra Chaturwedi
"आज का विचार"
Radhakishan R. Mundhra
हिसका (छोटी कहानी) / मुसाफ़िर बैठा
हिसका (छोटी कहानी) / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
विघ्न-विनाशक नाथ सुनो, भय से भयभीत हुआ जग सारा।
विघ्न-विनाशक नाथ सुनो, भय से भयभीत हुआ जग सारा।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
निंदा और निंदक,प्रशंसा और प्रशंसक से कई गुना बेहतर है क्योंक
निंदा और निंदक,प्रशंसा और प्रशंसक से कई गुना बेहतर है क्योंक
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
आजा माँ आजा
आजा माँ आजा
Basant Bhagawan Roy
* कुण्डलिया *
* कुण्डलिया *
surenderpal vaidya
तेरे होने का जिसमें किस्सा है
तेरे होने का जिसमें किस्सा है
shri rahi Kabeer
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मित्रता के मूल्यों को ना पहचान सके
मित्रता के मूल्यों को ना पहचान सके
DrLakshman Jha Parimal
शोख- चंचल-सी हवा
शोख- चंचल-सी हवा
लक्ष्मी सिंह
आजकल के परिवारिक माहौल
आजकल के परिवारिक माहौल
पूर्वार्थ
प्रेम
प्रेम
Rashmi Sanjay
कितना छुपाऊँ, कितना लिखूँ
कितना छुपाऊँ, कितना लिखूँ
Dr. Kishan tandon kranti
*खाओ गरम कचौड़ियॉं, आओ यदि बृजघाट (कुंडलिया)*
*खाओ गरम कचौड़ियॉं, आओ यदि बृजघाट (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
‘ विरोधरस ‘ [ शोध-प्रबन्ध ] विचारप्रधान कविता का रसात्मक समाधान +लेखक - रमेशराज
‘ विरोधरस ‘ [ शोध-प्रबन्ध ] विचारप्रधान कविता का रसात्मक समाधान +लेखक - रमेशराज
कवि रमेशराज
प्रबुद्ध लोग -
प्रबुद्ध लोग -
Raju Gajbhiye
कहानी इश्क़ की
कहानी इश्क़ की
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आचार, विचार, व्यवहार और विधि एक समान हैं तो रिश्ते जीवन से श
आचार, विचार, व्यवहार और विधि एक समान हैं तो रिश्ते जीवन से श
विमला महरिया मौज
ग़ज़ल/नज़्म - शाम का ये आसमांँ आज कुछ धुंधलाया है
ग़ज़ल/नज़्म - शाम का ये आसमांँ आज कुछ धुंधलाया है
अनिल कुमार
आदि शक्ति माँ
आदि शक्ति माँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
रोशन
रोशन
अंजनीत निज्जर
Loading...